ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में लगी भीषण आग के मद्देनजर टल सकती है प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन की भारत यात्रा

0
182

नई दिल्ली: ऑस्ट्रेलिया के विक्टोरिया प्रान्त समेत कई इलाकों के जंगलों में लगी भीषण आग के मद्देनजर प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन की भारत यात्रा टल सकती है. प्रधानमंत्री मॉरिसन ने कहा है कि मौजूदा हालात में वो फिलहाल यात्रा टालने के इच्छुक हैं. हालांकि, इस बारे में किसी फैसले का ऐलान अभी होना बाकी है.

विक्टोरिया प्रान्त में भीषण अग्निसंकट प्रभावित इलाकों का दौरा करने के बाद मीडिया से बातचीत में स्कॉट मॉरिसन ने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा कमेटी की मीटिंग बुलाई गई है. फिलहाल उनका झुकाव यात्रा(भारत की) टालने की तरफ है. हालांकि इस बारे में अन्य मंत्रियों से बातचीत करेंगे. इस बारे में चर्चा के बाद ही आगे की घोषणा या व्यवस्था की जाएगी.

इस वन की आग से निपटने के उपायों को लेकर ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन और उनकी सरकार की देश में बहुत आलोचना हो रही है. विक्टोरिया दौरे में एक अग्निशमन कर्मचारी द्वारा उन्हें झिड़कने का भी वाकया सामने आया. हालांकि मॉरिसन ने इसे व्यक्तिगत आलोचना मानने से इनकार करते हुए प्राकृतिक आपदा में लोगों के गुस्से और खीझ का इज़हार बताया.

महत्वपूर्ण है कि ऑस्ट्रेलियाई पीएम 14-16 जनवरी के बीच विदेश मंत्रालय व थिंकटैंक ORF के संयुक्त आयोजन रायसीना डॉयलोग में शरीक होने के लिए भारत आ रहे थे. इस दौरान पीएम नरेंद्र मोदी से उनकी द्विपक्षीय वार्ता का भी कार्यक्रम है. विदेश मंत्रालय प्रवक्ता रवीश कुमार ने गुरुवार को ही ऑस्ट्रेलिया प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन के भारत यात्रा कार्यक्रम की आधिकारिक पुष्टि की थी. हालांकि इसके बाद आए मॉरिसन के बयान ने फिलहाल तस्वीर कुछ बदल दी है.

बीते कुछ सालों में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच बढ़ी रणनीतिक नज़दीकी के मद्देनजर स्कॉट मॉरिसन की इस यात्रा को काफी अहम माना जा रहा है. साथ ही संकेत है कि ऑस्ट्रेलियाई पीएम का प्रयास क्षेत्रीय आर्थिक सहयोग संगठन RCEP में शिरकत के लिए भारत को मनाने की कोशिश भी है. गौरतलब है की ऑस्ट्रेलिया समेत कई मुल्क दुनिया के इस सबसे बड़े मुक्त व्यापार गठबंधन में भारत को शामिल करने पर ज़ोर दे रहे हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत के हितों की अनदेखी का हवाला देते हुए नवम्बर में हुए पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन के दौरान नव गठित RCEP में शिरकत से इनकार कर दिया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.