मुंबई: शिव सेना, एनसीपी प्रमुख शरद पवार को राष्ट्रपति के रूप में देखना चाहती है. 2022 में होने जा रहे राष्ट्रपति चुनाव के लिए शिव सेना गैर बीजेपी पार्टियों को एकजुट करके पवार को बतौर राष्ट्रपति उम्मीदवार पेश करना चाहती है. इसके लिए जल्द ही शिव सेना सांसद संजय राउत कई राज्यों का दौरा करने वाले हैं.

शिव सेना का मानना है कि देश में गैर बीजेपी राज्यों की संख्या बढ़ी है. इस वजह से राष्ट्रपति चुनाव के समय संख्याबल पवार की ओर झुक सकता है. राउत इस सिलसिले में जल्द ही पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी, मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ, राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत और केरल के सीएम पिनराई विजयन से मुलाकात करेंगे.

एनसीपी के महासचिव एडवोकेट मजीद मेमन ने पवार को राष्ट्रपति बनाने के प्रयास की तस्दीक की है. मेमन ने ट्वीट करके कहा कि पवार को राष्ट्रपति बनाने की ओर उठाये जाने वाले कदम सकारात्मक परिणाम लाएंगे और गैर बीजेपी ताकतों को एकजुट करेंगे. 2024 में बीजेपी को हराने में भी इसकी भूमिका रहेगी. महाराष्ट्र की मौजूदा महाविकास गठबंधन की सरकार शरद पवार की ही देन है. उन्होंने ही शिव सेना के साथ मिलकर सरकार बनाने की पेशकश की थी. गठबंधन में कांग्रेस को साथ लेने के लिए पवार ने ही सोनिया गांधी को मनाया था. सियासी हलकों में माना जा रहा है कि चूंकि पवार ने उद्धव ठाकरे को सीएम बनवाया इसलिए अब ठाकरे पवार को राष्ट्रपति बनवा कर एहसान चुका रहे हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.