परीक्षा में तनाव से बचने के नुस्खे बताएंगे प्रधानमंत्री मोदी, कुछ ही घंटों का इंतजार बाकी

0
196

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को बच्चों को परीक्षा के तनाव से बचने के नुस्खे बताएंगे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी परीक्षा पर चर्चा कार्यक्रम के तहत यह नुस्खे बताएंगे. यह कार्यक्रम दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में सोमवार 20 जनवरी को दोपहर 11:00 बजे होगा. कार्यक्रम को लेकर हर साल की तरह इस बार भी 10वीं और 12वीं के छात्रों में खासा उत्साह है.

परीक्षा पर चर्चा कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए तकरीबन तीन लाख से ज्यादा छात्र अपना रजिस्ट्रेशन करा चुके हैं. हालांकि कार्यक्रम में करीब 2000 बच्चों को ही शामिल किया जाएगा. इनमें से करीब तीन से चार दर्जन बच्चे ही प्रधानमंत्री से सवाल पूछ पाएंगे. करीब दो लाख छात्रों ने पीएम मोदी को अपने सवाल भी भेजें हैं.

परीक्षा पर चर्चा कार्यक्रम में शामिल होने के लिए छात्रों के चयन का आधार एक निबंध प्रतियोगिता को रखा गया था. इस निबंध प्रतियोगिता में जो बच्चे सबसे अच्छा निबंध लिख पाए उन्हें ही इस कार्यक्रम के लिए चयनित किया गया है. परीक्षा पर चर्चा कार्यक्रम के लिए प्रधानमंत्री ने ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित किए थे. परीक्षा पर चर्चा कार्यक्रम के लिए मानव संसाधन मंत्रालय ने बाकायदा राज्यों को इसकी जिम्मेदारी दी थी और उसके लिए एक बजट भी तैयार किया गया था. करीब 6 करोड़ रुपए छात्रों के रहने, आने-जाने के इंतजाम पर मानव संसाधन मंत्रालय खर्च कर रहा है. ताकि वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से रूबरू होकर सवाल पूछ सकें और परीक्षा से जुड़े तनाव पर चर्चा कर सकें.

परीक्षा पर चर्चा कार्यक्रम में छात्रों ने प्रधानमंत्री से पूछने के लिए जो सवाल भेजे हैं उसमें बड़ी तादाद में सवाल पढ़ाई -लिखाई, परीक्षा के तनाव और उनके स्वास्थ्य से जुड़े हुए हैं. सूत्रों के मुताबिक कुछ सवाल वर्तमान राजनीतिक हालात और अर्थव्यवस्था से भी जुड़े हुए हैं, लेकिन चूंकि कार्यक्रम की रूपरेखा पूरी तरह से गैर राजनीतिक है इसलिए केवल परीक्षा, पढ़ाई -लिखाई और सेहत से जुड़े सवाल ही इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री से पूछे जा सकते हैं.

प्रधानमंत्री मोदी की छात्रों के साथ होने वाली परीक्षा पर चर्चा कार्यक्रम में इस बार एक खास वैल्यू भी जुड़ने जा रही है. इस बार कार्यक्रम को होस्ट 2 स्कूली बच्चे मिलकर करेंगे. ये छात्र केंद्रीय विद्यालय के हैं. इससे पहले कार्यक्रम को होस्ट करने के लिए प्रोफेशनल एंकर को बुलाया किया जाता था. 3 सालों के दौरान प्रधानमंत्री की परीक्षा पर चर्चा कार्यक्रम का बेहद सकारात्मक असर बच्चों पर देखा गया और उसी को देखते हुए इस बार कार्यक्रम को और विस्तृत रूप दिया गया है. पिछले सालों के मुकाबले हर साल छात्रों की भागीदारी भी बढ़ी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.