नई दिल्ली: अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में आम आदमी पार्टी की एक बार फिर सरकार बनने जा रही है. आप पार्टी ने दिल्ली विधानसभा में प्रचंड जीत हासिल कर 62 सीटों पर कब्जा जमाया है. चुनाव में आप पार्टी की भारी जीत के पीछे महिला प्रत्याशियों की भी बड़ी भूमिका रही है. आप के टिकट पर खड़ी नौ महिला उम्मीदवारों में आठ की जीत हुई है. सबसे ज्यादा कांग्रेस ने दस महिला उम्मीदवारों को मैदान में उतारा था. मगर उसका एक भी खाता नहीं खुला. विधानसभा चुनाव में कुल महिला उम्मीदावरों की संख्या 24 थी.

आप के टिकट पर खड़ी महिला प्रत्याशियों की बंपर जीत
आप के टिकट पर खड़ी महिला प्रत्याशियों में सबसे चर्चित चेहरा आतिशी का रहा. उन्हें निवर्तमान विधायक अवतार सिंह की जगह कालकाजी विधानसभा क्षेत्र से खड़ा किया गया था. शुरुआती राउंड में आतिशी बीजेपी के धर्मवीर सिंह से पीछे चल रही थीं मगर बाद में उन्हें विजेता घोषित कर दिया गया.

राजौरी गार्डन से आप की धनवती चंदेला ने बीजेपी के रमेश खन्ना को 22 हजार से ज्यादा वोटों से हराया. उन्होंने चुनाव से पहले कांग्रेस छोड़कर आप का दामन थामा था. राजकुमारी ढिल्लौं ने आप के टिकट पर लड़कर हरि नगर सीट से बीजेपी के तेजेंद्र सिंह बग्गा को पटखनी दी. चुनाव से पहले कांग्रेस को अलविदा कह आप में शामिल होनेवाली ढिल्लौं ने 20 हजार मतों से बग्गा को पराजित किया.

आप पार्टी ने जताया था नौ महिला उम्मीदवारों पर भरोसा

शालीमार बाग सीट से भी आप की महिला उम्मीदवार ने बीजेपी की महिला प्रत्याशी को पटखनी दी. बंदना कुमारी ने बीजेपी की महिला उम्मीदवार रेखा गुप्ता को 3400 के अंतर से हराया. प्रीति तोमर ने भी आप के टिकट पर जीत का परचम लहराकर सबसे ज्यादा महिला विधायकों की संख्या में इजाफा किया. उन्होंने त्रिनगर सीट से बीजेपी के तिलक राम गुप्ता को 10 हजार वोटों के अंतर से पराजित किया.

आर के पुरम सीट से प्रमिला टोकस अपना प्रदर्शन दोहराने में कामयाब रहीं. राखी बिरला ने मंगोल पुरी सीट से बीजेपी प्रत्याशी करम सिंह को हराया तो वहीं भावना गौर ने पालम सीट से जीत का परचम फहराया. इस तरह आप पार्टी के टिकट पर जीत हासिल कर विधानसभा पहुंचनेवाली महिलाओं में आतिशी, धनवती चंदेला, राजकुमारी ढिल्लौं, बंदना कुमारी, प्रीति तोमर, प्रमिला टोकस, राखी बिरला, भावना गौर का नाम जुड़ गया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.