पाकिस्तान जा रहे चीनी जहाज में मिसाइल लॉन्चिंग प्रणाली होने का शक; डीआरडीओ की टीम दोबारा जांच करेगी

0
42

गांधीधाम. पाकिस्तान जा रहे चीनी जहाज ‘दा कुइ युन’ को कस्टम विभाग की टीम ने दो सप्ताह पहले गुजरात के कांडला बंदरगाह के निकट रोका था। इस जहाज में कथित तौर पर परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम मिसाइल को लांच करने वाले उपकरण का एक महत्वपूर्ण हिस्सा मिला है। सूत्रों ने बताया कि रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के वैज्ञानिकों की एक टीम पहले ही जांच कर चुकी है और सोमवार को एक और टीम इसकी जांच करेगी।

‘दा कुइ युन’ जहाज पर हॉन्ग कॉन्ग का झंडा लगा था। इसने चीन के जियांगयिन बंदरगाह से कराची के मोहम्मद बिना कासिम बंदरगाह के लिए गत 17 जनवरी को यात्रा शुरू की थी। कस्टम अधिकारियों ने जहाज को 3 फरवरी को कांडला बंदरगाह पर रोका और इसकी जांच की। जांच के बाद कंडला बंदरगाह और कस्टम के अधिकारियों की तरफ से कोई टिप्पणी नहीं आई है।

सूत्रों ने बताया कि खुफिया सूचना के आधार पर इस जहाज को रोका गया है। इस पर अधिकारियों को इसलिए भी शक हुआ क्योंकि, जहाज पाकिस्तान के जिस कासिम बंदरगाह पर जा रहा था, वह पाकिस्तान का परमाणु कार्यक्रम विकसित करने वाली संस्था सुपारको के पास हैं। इसमें चालक दल समेत कुल 22 लोग सवार हैं।

क्रू मेंबर्स के मुताबिक- उपकरण औद्योगिक ड्रायर है
सूत्रों के मुताबिक, जहाज के क्रू मेंबर्स यह दावा कर रहे हैं कि यह उपकरण औद्योगिक ड्रायर है, जिसका उपयोग सुखाने के लिए किया जाता है। शुरुआती जांच में यह लगता है कि यह ऑटोक्लेव है, जिसका इस्तेमाल मिसाइल लॉन्च करने के लिए होता है। इसकी लंबाई लगभग 17-18 मीटर और चौड़ाई करीब 4 मीटर है। अगर यह ऑटोक्लेव पाया गया तो चालक दल और जहाज के मालिक के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय नियमों के तहत कार्रवाई होगी।

1999 में भी मिसाइल उपकरण के साथ जहाज पकड़ा गया था
सूत्रों के मुताबिक, अधिकारियों को इसमें शक इसलिए भी हुआ क्योंकि चीन और पाकिस्तान के बीच कई खुले और गुप्त सैन्य समझौते हुए हैं और लगभग तीन दशक पहले चीन ने पाकिस्तान को 30 से अधिक ठोस ईंधन चालित ऐसे मिसाइल देने के लिए करार किया था जो परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम हैं। देश की सुरक्षा परिदृश्य के लिए यह एक चिंताजनक है, इसलिए इसे बेहद गंभीरता से लिया जा रहा है। इससे पहले भी भारत ने विदेशी जहाज को पकड़ा है जिसमें मिसाइल उपकरण मिले थे। 1999 में कारगिल युद्ध के दौरान उत्तर कोरिया के एक जहाज को भी कांडला के निकट पकड़ा गया था, जिसमें जलशोधन उपकरण की आड़ में मिसाइल उपकरणों को ले जाया जा रहा था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.