ऑस्कर विनर भारतीय सिंगर ए आर रहमान की बेटी खतीजा रहमान पर हाल ही में लेखिका तस्लीमा नसरीन ने बुर्का पहनने को लेकर निशाना साधा था. तस्लीमा नसरीन ने उनपर सवाल उठाते हुए कहा था कि खतीजा को ऐसे देख उन्हें नहीं घुटन होती है. खतीजा ने इसे लेकर सोशल मीडिया पर अपनी प्रतिक्रिया दी थी वहीं अब ए आर रहमान ने भी इंटरव्यू के दौरान इस पर अपना रिएक्शन दिया है.

ए आर रहमान ने द क्विंट को दिये इंटरव्यू में तस्लीमा नसरीन के ट्वीट और खतीजा द्वारा उसपर रिप्लाई पर चर्चा की. रहमान ने अपने इंटरव्यू में कहा, “मुझे लगता है कि अगर बच्चों को उस तरीके से पालेंगे, जिसमें उन्हें हमारी समस्याओं और हमारी परेशानियों के बारे में बता हो. उन्हें पता है कि उन्हें अच्छा और बुरा हमे विरासत में मिला है. जो है यही है. उन्हें स्वतंत्र इच्छा दी जाती है और खतीजा ने ऐसा किया. उसके बाद मैंने अपनी बेटी से इस बारे में पूछा तो कि अगले प्रश्न के बारे में क्या राय है? क्या आप उसका भी जवाब दोगी.” तो उन्होंने कहा, “नहीं डैडी, मैं जवाब दे चुकी.” ए आर रहमान ने बताया क वह अपनी स्वतंत्रता और अपनी इच्छा से बुर्का पहनती हैं.

इसके आगे रहमान कहा, “एक धार्मिक चीज से ज्यादा यह मुझे मनोवैज्ञानिक चीज लगती है. एक पुरुष बुर्का नहीं पहनता है. अगर होता तो मैं जरूर पहनता. जाना और खरीदना बहुत आसान है. मुझे लगता है कि यह उनकी स्वतंत्र इच्छा है. क्योंकि खतीजा ऐसी इंसान हैं जो अपनी मेड की मां या उनके किसी रिश्तेदार के अंतिम संस्कार में जाती हैं. मैं इस बात से हैरान हो जाता हूं कि वह सामाजिक काम भी बहुत सादगी से करती हैं.”

तस्लीमा नसरीन ने क्या कहा था

तस्लीमा नसरीन का कहना है कि किसी ने खातिजा का ब्रेनवॉश कर दिया है. तस्लीमा ट्वीट ने किया था, “मुझे रहमान का म्यूजिक काफी पसंद है. लेकिन मैं जब भी उनकी बेटी की तरफ देखती हूं तो मुझे घुटन सी होने लगती है. ये बहुत दुख की बात है कि एक पढ़ी-लिखी महिला का भी आसानी से ब्रेनवॉश हो सकता है.”

खतीजा रहमान का रिएक्शन

तसलीमा के इसी ट्वीट का खतिजा ने जबरदस्त अंदाज में रिप्लाई दिया है. इसके लिए खतिजा ने इंस्टाग्राम पर पोस्ट करते हुए लिखा, “मैं माफी चाहूंगी कि आपको मेरे कपड़ों को देख घुटन होती है. आप प्लीज जाकर साफ-सुथरी हवा खाइए क्योंकि मुझे ये कपड़े पहन बिल्कुल भी घुटन नहीं होती बल्कि मैं बहुत ही गर्व महसूस करती हूं, सशक्त महसूस करती हूं. आप कृपा करके गूगल पर फेमिनिज्म का मतलब जरूर देख लीजिए. क्योंकि दूसरी महिलाओं को नीचा दिखाना और किसी के पिता को ऐसे मुद्दों में घसीटना फेमिनिज्म नहीं होता. वैसे मुझे तो याद भी नहीं कि मैंने अपनी फोटो जांच के लिए आपके पास कब भेजी थी’.”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.