नई दिल्ली: जहां पूरे देश और दुनिया में कोरोना वायरस के चलते सार्वजनिक कार्यक्रमों को रद्द कर भीड़ भाड़ से बच्चने की सलाह दी जा रही है, वहीं जम्मू-कश्मीर में खेलो इंडिया के तहत होने वाले विंटर नेशनल गेम्स का आयोजन किया जा रहा है. कश्मीर के गुलमर्ग में खेलो इंडिया का आयोजन किया जाएगा.

देश में खेल को प्रोत्साहित करने वाले खेलो इंडिया कार्यक्रम के जरिए होने वाले पहले विंटर गेम्स के लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली गईं हैं और 7 मार्च से 11 मार्च के बीच गुलमर्ग की बर्फीली घाटी में यह राष्ट्रीय स्तर की खेल प्रतियोगिता आयोजित की जाएगी. इन खेलों में देश के अलग-अलग राज्यों और आर्गेनाईजेशन के करीब 830 खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं. ये खिलाड़ी स्नो स्कींग, स्नो बोर्डिंग, स्नो शो, स्नो साइक्लिंग के साथ बर्फ के अन्य खेलों में हिस्सा लेंगे. वहीं इनके लिए 2000 से ज्यादा प्रशासन और सुरक्षा अधिकारी भी तैनात किए गए हैं.

वहीं इस खेलों इंडिया कार्यक्रम में कोरोना वायरस का खतरा मंडरा रहा है. इसको लेकर प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट नजर आ रहा है. खिलाडियों और अधिकारियों को संक्रमण से बचाने के लिए खेलों में आने वाले सभी खिलाडियों और अधिकारियों की कोरोना वायरस की जांच की जाएगी. इसके लिए सड़क के रास्ते और हवाई अड्डे पर विशेष प्रबंध किए गए हैं.

कश्मीर घाटी के डिविजनल कमिश्नर बसीर अहमद खान के मुताबिक खेल प्रतियोगिता के लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं. साथ ही कोरोना वायरस से निपटने के भी सभी इंतजाम कर लिए गए हैं. काजीगुंड और श्रीनगर हवाई अड्डे पर कोरोना स्क्रीनिंग सेंटर लगाए गए हैं जिसके जरिए स्क्रीनिंग की जाएगी. बसीर खान के मुताबिक किसी भी आपातकाल से निपटने के लिए श्रीनगर, तंगमार्ग और गुलमर्ग में विशेष कंट्रोल रूम बनाए गए हैं जो 24 घंटे हालात पर नजर बनाए रखेंगे.

इन तमाम तैयारियों के बावजूद सवाल ये उठता है कि जब कोरोना वायरस के संक्रमण के खतरे के चलते प्रधानमंत्री तक ने होली कार्यक्रमों को स्थगित कर दिया है तो फिर जम्मू कश्मीर प्रशासन बर्फीले मौसम में इतनी बड़ी संख्या में लोगों को इकट्ठा करने का जोखिम उठा रहा है.

हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार इतनी बड़ी संख्या में देश के अलग-अलग इलाकों से आने वाले लोगों को एक साथ गुलमर्ग जैसी ठंडी जगह पर लाना खतरे से खाली नहीं है. ऐसे में कोरोना के फैलने का खतरा कई गुना बढ़ जाएगा. वहीं अभी तक देश में कोरोना के 29 मामले सामने आए हैं. हालांकि जम्मू कश्मीर में अभी तक एक भी मामला सामने आया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.