दिल्ली हिंसा: फैक्ट फाइडिंग टीम ने सोनिया गांधी को सौंपी रिपोर्ट, कहा- भड़काऊ बयान देने वाले बीजेपी नेताओं पर दर्ज हो FIR

0
73

नई दिल्ली: दिल्ली दंगे को लेकर बनी कांग्रेस की फैक्ट फाइंडिंग कमिटी ने पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को रिपोर्ट सौंपी. प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कांग्रेस नेता मुकुल वासनिक ने कहा कि बीजेपी नेता अनुराग ठाकुर, कपिल मिश्रा, प्रवेश वर्मा, अभय वर्मा पर बिना देरी किए एफआईआर दर्ज होनी चाहिए. दिल्ली चुनाव में अमित शाह ने अपने भाषण में शाहीन बाग को करंट लगाने की बात कही. अनुराग ठाकुर, कपिल मिश्रा, प्रवेश वर्मा के भड़काऊ भाषण सबके सामने हैं. भड़काऊ भाषण देने वाले नेताओं पर एफआईआर दर्ज नहीं हुए हैं.

‘बुनियादी मुद्दों से ध्यान भटकाने की कोशिश’

मुकुल वासनिक ने कहा कि जो देखने को मिला वो बेहद भयावह था. दर्द को बयान नहीं किया जा सकता. धर्म के नाम पर ध्रुवीकरण करना बीजेपी की बुनियादी मान्यता है. लोगों का कहना था कि दंगो में इसकी भी बड़ी भूमिका है. उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था की खराब हालत है. बेरोजगारी जैसे बुनियादी मुद्दों से ये ध्यान भटकाने की बीजेपी की कोशिश हो सकती है.

राजधर्म निभाने में सरकार फेल- कांग्रेस

कांग्रेस ने कहा कि अगर हम कहें कि एक बार फिर राजधर्म निभाने में सरकार पूरी तरह फेल हुई तो गलत नहीं होगा. 26 फरवरी को कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक होती है. तब तक प्रधानमंत्री का कोई बयान नहीं आता. अगले दिन राष्ट्रपति से मिल कर कांग्रेस ने गृहमंत्री के इस्तीफे की मांग की क्योंकि वो अपनी जिम्मेदारी निभाने में नाकाम रहे.

‘ड्यूटी नहीं करने वाले पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई हो’

कांग्रेस ने कहा कि दिल्ली हिंसा की जांच के लिए दो एसआईटी बनी है लेकिन हम मांग करते हैं कि स्वतंत्र न्यायिक जांच हो ताकि दंगों की सच्चाई सामने आ सके. जिन पुलिस वालों ने अपनी ड्यूटी नहीं की उनपर कार्रवाई हो. लोगों ने कहा कि पुलिस मूकदर्शी बनी रही. दोनों समुदायों के बीच में पैदा हुई दूरी के मद्देनजर महिलाओं और बच्चों की काउंसलिंग शुरू हो.

‘केजरीवाल ने जिम्मेदारी से कोई भी कदम नहीं उठाया’

इसके साथ ही कांग्रेस ने कहा कि दिल्ली चुनाव में अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में लोगों ने भरोसा दिखाया लेकिन दंगो के दौरान केजरीवाल ने जिम्मेदारी से कोई भी कदम नहीं उठाया. आज भी राहत और पुनर्वास के काम में दिल्ली सरकार नाकाम नजर आ रही है. दिल्ली में सामान्य हालात बनाने के लिए केंद्र और दिल्ली सरकार को युद्ध स्तर पर काम करने की जरूरत है. दिल्ली पुलिस के मुताबिक दंगों 53 लोगों की मौत हुई. 200 से अधिक घायल हुए और 2200 लोग गिरफ्तार हुए हैं. अभी भी पुलिस की कार्रवाई चल रही है. बता दें कि कांग्रेस की इस टीम में मुकुल वासनिक, शक्ति सिंह गोहिल, कुमारी शैलजा, तारिक अनवर और सुष्मिता देव शामिल थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.