कमजोर अर्थव्यवस्था वाले एशियाई देशों को कोरोना से लड़ने में मदद करेगा एबीडी, देगा करीब 48 हजार करोड़ रुपए की आर्थिक सहायता

0
73

नई दिल्ली. एशियाई विकास बैंक (एडीबी) ने कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए अपने विकासशील सदस्य देशों के लिए 6.5 अरब डॉलर (48 हजार करोड़) का पैकेज देने की बुधवार को घोषणा की। एडीबी ने एक बयान में कहा कि कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए विकासशील सदस्य देशों की तात्कालिक सहायता के लिये शुरूआती पैकेज की घोषणा की गयी है।


जरूरतमंद देशों को तुरंत मदद की अपील
यह राशि एडीबी के सभी सदस्य देशों के लिए उपलब्ध होगी। एडीबी ने कहा कि पहला फोसक आर्थिक रूप से कमजोर देश की मदद करना है जहां बड़ी संख्या में लोग रह रहे हैं। बता दें कि एडीबी का मुख्य उद्देश्य सामाजिक और आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए ऋण, तकनीकी सहायता, अनुदान और इक्विटी निवेश प्रदान करके अपने सदस्यों और भागीदारों की सहायता करना है। इसका मुख्यालय मनीला (फिलीपींस) में स्थित है।


भविष्य में जरूरत पड़ने पर वित्तीय सहायता देने को तैयार
एडीबी के उपाध्यक्ष (ज्ञान प्रबंधन एवं स्वस्थ्य विकास) बमबांग सुसांतोनो ने कहा, ‘कोरोना वायरस की गंभीरता बढ़ती जा रही है। यह महामारी एक बड़ी वैश्विक समस्या बन गई है। इसके लिए राष्ट्रीय, क्षेत्रीय और वैश्विक स्तरों पर ठोस कदम की जरूरत है। उन्होंने कहा, ‘अपने विकासशील सदस्य देशों के साथ हम महामारी से निपटने, गरीबों और अपनी बड़ी आबादी की सुरक्षा को लेकर आक्रमक कार्रवाई कर रहे हैं। साथ ही यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि अर्थव्यवस्था यथासंभव पटरी पर आए।’ असाकावा ने कहा, ‘अपने सदस्य देशों और समकक्ष संस्थानों से बातचीत के बाद हम सदस्य देशों की तात्कालिक जरूरतों को पूरा करने के लिए 6.5 अरब डॉलर का पैकेज दे रहे हैं।’ उन्होंने कहा कि एडीबी जरूरत पड़ने पर और वित्तीय सहायता और नीतिगत सलाह देने को तैयार है।


अब तक 7,500 से ज्यादा लोगों की हो चुकी हैं मौत
कोरोना वायरस से दुनियाभर में 1,85,000 से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं। इसके कारण अब तक 7,500 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामले अब 147 हो गए हैं। भारत में अब तक कोरोना के कारण तीन मौतें हुई हैं। इन तीनों बुज़ुर्ग थे और हाल में या को विदेश से आए थे या विदेश से आए व्यक्ति के संपर्क में आए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.