165 देशों में संक्रमण और 7,965 मौतें: सऊदी प्राइवेट सेक्टर में कामकाज 15 दिन बंद, अमेरिका नेवी मेडिकल शिप इस्तेमाल करेगा; श्रीलंका में इंटरनेशनल फ्लाइट्स पर रोक

0
76

वॉशिंगटन. दुनिया में कोरोनावायरस से संक्रमित लोगों का आंकड़ा बुधवार सुबह 1 लाख 98 हजार 513 हो गया। 165 देश प्रभावित हैं। मरने वालों की संख्या 7 हजार 988 पहुंच गई है। 81,743 संक्रमित स्वस्थ भी हुए हैं। अमेरिका के वित्त मंत्री स्टीवन नूचिन के मुताबिक, अमेरिका में बेरोजगारी दर 20% तक पहुंच सकती है। लॉस एंजिल्स के अस्पतालों में खून की कमी हो गई है। इसकी वजह रक्तदान करने वालों की कमी है। हवाई द्वीप ने पर्यटकों से फिलहाल न आने की गुजारिश की है। अमेरिकी सरकार संक्रमण से बेहतर तरीके से निपटने के लिए जल्द ही नेवी के दो हाईटेक शिप इस्तेमाल कर सकती है। श्रीलंका में इंटरनेशनल फ्लाइट्स के उतरने पर रोक लगा दी है। सऊदी सरकार ने प्राईवेट सेक्टर 15 दिन के लिए बंद कर दिया है।

श्रीलंका : दो हफ्ते इंटरनेशनल फ्लाइट्स नहीं आएंगी
श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे ने बुधवार सुबह एक आदेश जारी किया। इसमें कहा गया, “कोरोनावायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए श्रीलंका में अगले दो हफ्ते तक किसी इंटरनेशनल फ्लाइट को उतरने की इजाजत नहीं दी जाएगी।” मंगलवार को सरकार ने तीन दिन के सार्वजनिक अवकाश की घोषणा की थी। सरकार ने एक बयान अलग से भी जारी किया। कहा, “मुश्किल दौर में आपसे उम्मीद करते हैं कि सभी नागरिक घर में ही रहें। भीड़ वाली जगहों पर बिल्कुल न जाएं। सरकारी नियमों का पालन करें।” श्रीलंका में बुधवार सुबह तक कुल 44 मामले सामने आ चुके थे।

सऊदी अरब : प्राईवेट सेक्टर में फिलहाल कामकाज बंद

सऊदी अरब सरकार ने संक्रमण के बढ़ते खतरे को देखते हुए प्राईवेट सेक्टर को 15 दिन के लिए बंद करने के आदेश दिए। सरकारी बयान में कहा गया, “पानी, बिजली और संचार जैसी आवश्यक सेवाओं को छोड़कर बाकी प्राईवेट सेक्टर में 15 दिन कामकाज नहीं होगा।” मंगलवार को सऊदी प्रशासन ने मस्जिदों में होने वाली नमाज पर रोक लगा दी थी। सऊदी में मंगलवार तक संक्रमण के 171 मामले सामने आ चुके थे।

जापान : शिंजो करेंगे समीक्षा

सीएनएन ने जापान सरकार के हवाले से बताया है कि प्रधानमंत्री शिंजो आबे जल्द ही कोरोनावायरस के कारण उपजे हालात पर समीक्षा बैठक करेंगे। आबे की दिक्कत टोक्यो ओलिंपिक को लेकर ज्यादा है। दुनिया में कई खेल आयोजन रद्द किए जा चुके हैं। इंटरनेशनल ओलिंपिक एसोसिएशन पर भी दबाव बढ़ रहा है। हालांकि, आबे ने सोमवार को ही कहा था कि जापान टोक्यो ओलिंपिक रद्द या टालेगा नहीं।

अमेरिका : हवाई में पर्यटक न आएं
अमेरिका के हवाई द्वीप की अर्थव्यवस्था मुख्य तौर पर पर्यटन पर निर्भर है। लेकिन, कोरोनावायरस ने इसे झकझोर दिया है। गवर्नर डेविड इगे ने होनोलुलु में कहा, “मैं उन सभी पर्यटकों से विनम्र आग्रह कर रहा हूं कि वो हवाई में छुट्टियां मनाने का कार्यक्रम कम से कम एक महीने के लिए टाल दें। बेहतर होगा आप अपने प्रोग्राम को री-शेड्यूल करें।” हवाई में अब भी सैकड़ों पर्यटक मौजूद हैं। प्रशासन सभी का हेल्थ चेकअप कर रहा है।

नासा : टेलिवर्क का आदेश

अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा ने बुधवार को संक्रमण से बचने के लिए सख्त कदम उठाया। नासा के प्रशासनिक प्रमुख जिम ब्रिडस्टाइन ने कहा, “ये सही है कि हमारे बुहत कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। लेकिन, जोखिम मोल नहीं लिया जा सकता। लिहाजा, सभी कर्मचारियों से कहा गया है कि टेलिवर्क ही करें। यानी इन्हें ऑफिस आने की जरूरत नहीं है।”

अमेरिका : सभी 50 राज्यों तक पहुंचा संक्रमण

अमेरिका में 50 राज्य हैं। बुधवार को कोरोनावायरस ने इन सभी को चपेट में ले लिया। बुधवार को अमेरिका में कोरोना से मौत का आंकड़ा 105 हो गया। वेस्ट वर्जीनिया में कोरोना का पहला मामला मंगलवार शाम सामने आया। वॉशिंगटन में 50 लोग संक्रमण से मारे जा चुके हैं। न्यूयॉर्क में 12 और कैलिफोर्निया में 11 लोगों की मौत हो चुकी है। 

अमेरिका और ब्रिटेन को लेकर चेतावनी
इम्पीरियल कॉलेज लंदन के रिसर्चर नील फर्ग्युसन का नया अध्यन अमेरिका और ब्रिटेन को सख्त चेतावनी है। फर्ग्युसन मैथमैटिकल बॉयोलॉजी के प्रोफेसर हैं। उन्होंने अपनी रिसर्च रिपोर्ट में कहा, ‘अगर वक्त रहते कोरोनावायरस पर काबू नहीं पाया गया तो अमेरिका और ब्रिटेन के लिए तस्वीर भयावह हो सकती है। अमेरिका में 22 और ब्रिटेन में 5 लाख नागरिक इस संक्रमण से मारे जा सकते हैं।’ फर्ग्युसन ने कोविड-19 की तुलना 1918 में फैले फ्लू से की। प्रोफेसर के मुताबिक, कोरोना का असर सिर्फ हेल्थ सेक्टर सीमित तक नहीं रहेगा। आने वाले वक्त अर्थव्यवस्था पर भी इसका गंभीर असर हो सकता है।

अमेरिका : रोजगार पर असर
अमेरिका में मंगलवार रात कोरोनावायरस के अर्थव्यवस्था पर असर को लेकर मीटिंग हुई। वित्त मंत्री स्टीवन नूचिन ने रिपब्लिकन सीनेटर्स को बताया कि संक्रमण का खतरा इसी तरह बढ़ता रहा तो अमेरिका अर्थव्यवस्था की हालत 2008 की आर्थिक मंदी से भी बदतर हो सकती है। नूचिन ने चेतावनी दी कि कोरोना की वजह से बेरोजगारी दर 20% तक पहुंच सकती है। इसके पहले अमेरिकी मीडिया ने चेतावनी दी थी कि कोरोना का असर हेल्थ सेक्टर के साथ अर्थव्यवस्था को भी तबाह कर सकता है।

यूएन : सुरक्षा परिषद की सभी बैठकें रद्द

संयुक्त राष्ट्र ने इस हफ्ते प्रस्तावित सुरक्षा परिषद की सभी बैठकों को रद्द कर दिया है। सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता फिलहाल चीन के पास है। चीन ही कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित है। संक्रमण का पहला मामला भी यहीं सामने आया था। हालांकि, यूएन ने एक बयान में ये भी कहा है कि राजनयिकों और मीडिया के लिए विश्व संस्था खुली रहेगी।

यूएस नेवी : मेडिकल शिप इस्तेमाल होंगे
अमेरिका में जॉइंट चीफ्स ऑफ स्टाफ के चेयरमैन मार्क मिल जल्द ही एक बड़ा फैसला ले सकते हैं। देश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के देखते हुए अमेरिकी नौसेना के दो नेवी शिप हॉस्पिटल आम लोगों को हेल्थ फैसेलिटी दे सकते हैं। इनमें से एक शिप सैन डियागो और दूसरा नॉरफ्लॉक में तैनात है। दुनिया में किसी अन्य देश के पास अमेरिकी नेवी जैसे मोबाइल शिप हॉस्पिटल नहीं हैं। इनमें किसी फाइव स्टार होटल जैसी सुविधाएं और हर तरह के मेडिकल उपकरण मौजूद हैं। रक्षा मंत्री मार्क एस्पर ने कहा कि अमेरिकी सेना ने हेल्थ डिपार्टमेंट को पांच लाख मास्क मुहैया कराए हैं।

लास एंजिल्स : खून की कमी 

सीएनए के मुताबिक, लॉस एंजिल्स में कोरोनावायरस के डर की वजह से लोग ब्लड डोनेट नहीं कर रहे हैं। इसकी वजह से यहां के ब्लड डोनेशन सेंटर्स में खून की कमी हो गई है। शहर की हेल्थ डायरेक्टर क्रिस्टियाना घाली ने कहा, “हर रोज की तुलना में रक्तदान करने वालों की संख्या साढ़े पांच हजार कम हो गई है। मैं साफ कर देना चाहती हूं कि ब्लड डोनेशन पूरी तरह सुरक्षित है।”

इजराइल : हेल्थ सेक्टर को मदद देगी सेना
टाइम्स ऑफ इजराइल के मुताबिक, इजराइली जल्द ही देश में मेडिकल फेसेलिटीज को मदद करने जा रही है। इसके लिए तमाम तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। इसके लिए सेना ने एक आदेश भी तैयार कर लिया है, जिस पर सरकार विचार कर रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इजराइल में संक्रमण छिपाने के कुछ मामले सामने आने के बाद संदिग्धों के फोन टैप किए जा रहे हैं। अगर हालात बिगड़ते हैं तो यहां नेशनल लॉकडाउन किया जा सकता है। इसकी जिम्मेदारी सेना संभालेगी।

पाकिस्तान : हालात भयावह

जियो न्यूज के मुताबिक, पाकिस्तान में बुधवार सुबह तक कोरोनो संक्रमण के कुल 237 मामले सामने आ चुके हैं। दो लोगों की मौत हो चुकी है। दिक्कत ये है कि संक्रमण के संदिग्धों को क्वारैंटाइन या आइसोलेट करने की कोई व्यवस्था नहीं है। सिंध के कुछ स्कूलों में संदिग्धों को ठहराया जा रहा है। यहां एक ही हॉल में 58 संदिग्ध संक्रमित मौजूद हैं। सैनिटाइजेशन की कोई व्यवस्था नहीं है।

मंगलवार को पाकिस्तान के कराची में एक महिला की जांच करता मेडिकल स्टाफर। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.