संक्रमण वाली जगह से मप्र में आए 982 लोगों को होम क्वाॅरेंटाइन किया, किसी भी तरह के लक्षण नहीं पाए जाने पर 373 मुक्त

0
556

इंदौर. मप्र में अब तक कोरोना का एक भी मरीज नहीं मिला है लेकिन कोरोना से बचाव के लिए इंदौर, भोपाल सहित पूरे देश में कई तरह से प्रतिबंध लगाए गए हैं। कोरोना को पहले चरण में ही रोक दिया जाए इसके लिए प्रदेश के सभी सरकारी स्कूलों को बंद कर दिया गया है। सरकारी आयोजनों पर रोक लगा दी गई है। इंदौर में मॉल, सिनेमाघर सहित प्रमुख बाजार बंद कर दिए गए है। यही कदम अन्य जिलों में भी उठाया गया है। सतपुड़ा टाइगर रिजर्व के मढ़ई, चूरना और पचमढ़ी में पर्यटकाें के अाने पर राेक लगा दी गई है। यहां पर्यटकों से हाेटलें खाली कराई जा रही है।


स्वास्थ्य विभाग के अनुसार कोरोना वायरस के संक्रमण वाली जगह से मप्र में आए 982 लोगों को होम क्वाॅरेंटाइन किया है। इनमें से 373 लोगों में इस वायरस के किसी भी तरह के लक्षण नहीं पाए जाने पर मुक्त कर दिया गया है। वहीं, इंदौर में अलग-अलग जगह से आए एेसे 160 लोगों को अब भी होम क्वाॅरेंटाइन किया हुआ है। इन लोगों की मॉनिटरिंग स्वास्थ्य विभाग कर रहा है। मप्र में 41 सदिग्ध मरीजों के सैंपल जांच के लिए एनआईवी पुणे, इंदिरा गांधी शासकीय मेडिकल कॉलेज नागपुर, एम्स भोपाल एवं एनआईआरटीएच जबलपुर भेजे गए थे। इनमें से 29 की रिपोर्ट निगेटिव आई है शेष 12 मरीजों की रिपोर्ट आना बाकी है।

इंदौर :  56 दुकान व सराफा में लगने वाली चाट-चौपाटी 25 मार्च तक बंद 
कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए इंदौर में मॉल, डिस्कोथेक, चिड़ियाघर, सरकारी और निजी स्कूल, सभी कोचिंग संस्थानों को 31 मार्च तक बंद कर दिया गया है। 56 दुकान व सराफा में लगने वाली चाट-चौपाटी को भी 25 मार्च तक बंद रखने का निर्णय किया गया। 21 मार्च से इंदौर से महाराष्ट्र के मध्य चलने वाली सभी बसों को भी बंद करने के आदेश जारी कर दिए गए है। इंदौर में अलग-अलग जगह से आए 160 लोगों को होम क्वाॅरेंटाइन किया हुआ है। सीएमएचओ डॉ. प्रवीण जडिया के अनुसार इंदौर से अब तक 18 सैंपलों को कोरोना की जांच के लिए भेजा गया था, सभी की जांच रिपोर्ट आ गई है और किसी भी मरीज में कोरोना की पुष्टि नहीं हुई है। एमजीएम मेडिकल कालेज की डीन डाक्टर ज्योति बिंदल के अनुसार कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीजों के सैंपलों की जांच गुरुवार से इंदौर में ही प्रारंभ हो गई है।


भोपाल : शहर में धारा 144 लागू, 18 ट्रेनें निरस्त की
कलेक्टर ने भोपाल में धारा 144 लागू कर दी है। इसके बाद विदेश से आए और संक्रमित व्यक्ति को सूचना देना अनिवार्य कर दिया गया है। इन्हें अपनी ट्रैवल हिस्ट्री बताना होगी। उसकी शारीरिक जांच, उसके संपर्क रहे अन्य व्यक्ति की जानकारी देना अनिवार्य होगा। शहर के दफ्तरों, स्टोर्स समेत घरों में भी सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए जा रहे हैं। विभिन्न संस्थानों में पढ़ने वाले छात्र-छात्राएं भी एहतियात के तौर हॉस्टल से घर जा रहे हैं। कोरोना के कारण हबीबगंज-धारवाड़, रीवा-भोपाल स्पेशल, श्रीधाम एक्सप्रेस सहित भोपाल रेल मंडल के विभिन्न स्टेशनों से गुजरने वाली कुल 18 ट्रेनों को कैंसिल कर दिया गया है। इनमें से कुछ ट्रेनों को 26 मार्च तक तो कुछ को 31 मार्च तक के लिए कैंसिल किया गया है।  एयरपोर्ट से प्राप्त आंकड़ों के मुताबिक 15 दिन में 6000 यात्री घटे हैं। अदालत में प्रवेश करने वाले प्रत्येक व्यक्ति को सैनेटाइजर का उपयोग करने के बाद ही प्रवेश करने के निर्देश दिए गए हैं। राजहंस होटल में कोरोना के 4 संदिग्ध मरीजों को आइसोलेट पर रखा गया है। इनके सैंपल जांच के लिए भेजे गए है।

खरगोन : 8 दिन से निमोनिया पीड़ित किशोरी आइसोलेशन वार्ड में भर्ती
शहर के संजयनगर क्षेत्र निवासी 15 वर्षीय किशोरी को आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया है। वह 8 दिन से निमोनिया से पीड़ित बताई जा रही है। पीड़िता आगामी 48 घंटे तक डॉक्टरों की देखरेख में रहेगी। उसे निजी अस्पताल में इलाज के बाद बुधवार को जिला अस्पताल लाया गया। पीड़िता अगले 48 घंटे तक डॉक्टरों की देखरेख में रहेगी। 16 मार्च को कोरोना संदिग्ध एक 35 वर्षीय महिला को जिला अस्पताल में भर्ती किया गया था। अब उसकी हालत में सुधार है। डॉक्टरों के अनुसार दोनों मरीज अन्य किसी भी काेराेना मरीज के संपर्क में नहीं थे। इसलिए उनके सैंपल जांच के लिए नहीं भेजे गए है। पीजी कॉलेज में चल रही परीक्षाओं में अब सतर्कता बरती जा रही है। एक टेबल पर एक ही विद्यार्थी को बैठाया जा रहा है। परीक्षा केंद्र के पास साबुन रख दी है जिससे की विद्यार्थी हाथ धो सके। 


खंडवा : जर्मनी से आए मरीज ने खुद को किया होम आईसोलेट
कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए विदेश से आने वाले यात्री खुद ही सुरक्षा अपना रहे हैं। जर्मनी से आए यात्री ने घर जाने की बजाय किराए का कमरा लेकर खुद को होम आईसोलेट किया है। यात्री परिवार से भी नहीं मिल रहे हैं। वहीं काेराेना काे लेकर खंडवा कृषि उपज मंडी समिति द्वारा भी सतर्कता बरती जा रही है। मंडी समिति द्वारा लाउड स्पीकर के माध्यम से किसानों को सावधानी बरतने के निर्देश दिए जा रहे हैं। एक किसान दूसरे से लगभग एक मीटर तक की दूरी बनाए रखें। नीलामी के समय अपनी उपज के पास ही खड़े रहें, नीलामी में अनावश्यक भीड़ ना लगाएं। भीड़भाड़ वाली जगह पर जाने से बचें। सर्दी, खांसी, बुखार अाने पर डाक्टर की सलाह लें, अपने हाथ साबुन से बार-बार धाेएं, खांसते छींकते समय रूमाल का उपयाेग करें।
 
ओंकारेश्वर : गर्भगृह में 10 फीट दूर से किए भगवान ओंकार के दर्शन
तीर्थनगरी में कोरोना वायरस के प्रति सजगता बरती जा रही है। भारतीय पुरातत्व विभाग ने मंगलवार को ओंकारेश्वर में ममलेश्वर मंदिर के पट भी बंद करा दिए थे। ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर में सिंगल कतार में भक्तों को दर्शन कराए गए। बुधवार सुबह से देर शाम तक करीब 2 हजार भक्तों ने 10 फीट दूर से गर्भगृह में भगवान ओंकार के दर्शन किए। कोरोना वायरस से पहले प्रतिदिन औसत करीब 10 हजार लोग दर्शनार्थ आते थे। मंदिर ट्रस्टियों द्वारा तीर्थयात्रियों को जागरूक किया जा रहा है। साथ ही सिंगल कतार में एक-दूसरे के बीच निश्चित दूरी बनाकर दर्शन करने का आग्रह किया जा रहा है।


मंदसौर : कोरोना के दो संदिग्ध मिले, अस्पताल प्रबंधन की निगरानी  
मंदसौर की पिपलियामंडी नगर में कोरोना वायरस के दो संदिग्ध सरकारी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र प्रबंधन की निगरानी हैं। यह दोनों बाहर से आए हैं। जानकारी के अनुसार फाटक मोहल्ले में 17 मार्च काे मुंबई से आई एक युवती को ज्यादा सर्दी-खांसी की शिकायत होने के बाद उसका इलाज जारी है। वहीं महावीरगंज में 14 मार्च काे दुबई से आया एक युवक भी अस्पताल स्टाफ की निगरानी में है। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के मेडिकल अाॅफिसर डाॅ. निशांत शर्मा ने बताया इन मरीजोें को घर में ही रहने की सलाह दी है, साथ ही परिजन को भी मास्क पहनने के लिए कहा है। दोनों निगरानी में हैं, इन्हें काेराेना वायरस है, इसकी अभी तक पुष्टि नहीं हुई है।


उज्जैन : कोर्ट में 31 मार्च तक केवल जमानत पर होगी सुनवाई
कोरोना के खतरे को देखते हुए हाईकोर्ट ने जिला एवं लोअर कोर्ट में संक्रमण रोकने के लिए बुधवार को निर्देश जारी किए हैं। 31 मार्च तक न्यायालयों में न्यायिक कार्य बंद रहेंगे। केवल जमानत के आवेदनों और स्टे संबंधित मामलों में सुनवाई होगी। जेल में बंद कैदियों को कोर्ट लाने पर रोक लगा दी है। जरूरी होने पर वीडियोेेेे कान्फ्रेंस के माध्यम से पेशी होगी। वहीं काेराेना संक्रमण की अाशंका में माधवनगर अस्पताल के अाइसाेलेशन वार्ड में भर्ती किए अारडी गार्डी मेडिकल काॅलेज के डाॅक्टर दंपती की जांच रिपाेर्ट अब तक नहीं आई है। नाेडल चिकित्सा अधिकारी डाॅ.एचपी साेनानिया के अनुसार दाेनाें की सेहत में सुधार हैं। इनकी रिपाेर्ट निगेटिव अाएगी ताे इन्हें छुट्‌टी दे दी जाएगी। 

ग्वालियर : भीड़ कम करने के लिए दाे घंटे पहले शुरू करेंगे भाेजन
कोरोना वायरस के कारण लागू धारा-144 के बाद अब शादी समारोह व अन्य कार्यक्रम के आयोजक न सिर्फ कार्यक्रम टाल रहे हैं बल्कि मेहमानों की संख्या भी कम कर रहे हैं। उन्हें कलेक्टर और एसडीएम के दफ्तरों से कार्यक्रम करने की छूट तो मिल रही है पर कई तरह की शर्तों के साथ। लोगों से कहा जा रहा है कि रात 8 बजे प्रारंभ होने वाला खाना शाम 6 बजे से चालू कर दें ताकि एकसाथ भीड़ न जुटने पाए। दूसरी तरफ कुछ लोगों ने मैरिज गार्डन की बुकिंग निरस्त करने के लिए भी आवेदन दे दिए हैं। 


एमपीसीटी काॅलेज में काेराेना वायरस के संदिग्ध लाेगाें काे भर्ती करने के लिए आइसाेलेशन वार्ड बनाए गए है। यहां विदेश से लाए जाने वाले 200 लाेग रखे जा सकेंगे। यहां 6 बिस्तर का आईसीयू, 8 बिस्तर का सेमी आईसीयू तथा अन्य वार्डो में 186 बेड रखे गए हैं। हर वार्ड में डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ रहेगा। 200 से ज्यादा यात्री होने पर उन्हें बीएसएफ के अस्पताल में भेजा जाएगा। नीदरलैंड और जर्मनी में रखकर पढ़ने वाले तीन युवक शताब्दी एक्सप्रेस से बुधवार को ग्वालियर आए। ओहदपुर, दर्पण कॉलोनी तथा सिटी सेंटर के रहने वाले इन युवकों का डॉक्टरों की टीम ने युवकों का चेकअप किया। सभी युवक पूरी तरह स्वस्थ मिले।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.