बिहार चुनाव 2020 : अब तक राजद 12 MLA-MLC ने बदला पाला, क्या वाकई RJDमें भगदड़ मची है?

0
48

रणविजय सिंह, राधाचरण सेठ, कमरे आलम, संजय प्रसाद, दिलीप राय, ये सभी वे एमएलसी हैं जिन्होंने बीते 23 जून को राजद की सदस्यता छोड़ जदयू जॉइन कर लिया था. महेश्वर यादव, प्रेमा चौधरी, फ़राज़ फ़ातमी, जयवर्धन यादव, वीरेंद्र महतो, चंद्रिका राय और अशोक सिंह ये सभी वे विधायक हैं जिन्होंने लालू प्रसाद की वफादारी त्याग अब सीएम नीतीश कुमार का गुणगान करना शुरू कर दिया है. यानी अब तक कुल 12 MLA और MLC ने राजद की लालटेन छोड़ जदयू का तीर थाम लिया है. जाहिर है यह आरजेडी के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है. राजनीतिक जानकार बताते हैं कि इनमें से अधिकतर वे हैं जिन्होंने सीएम नीतीश के करीबी और जदयू संसदीय दल के नेता ललन सिंह के जरिये सेटिंग की और पाला बदल लिया.

इस बात की पुष्टि इससे भी होती है कि अधिकतर नेताओं को जेडीयू में शामिल करवाने में ललन सिंह ही आगे रहते हैं. यही नहीं उन्होंने हाल में ही कहा भी था कि राजद में भगदड़ मची हुई है, अगर हम अपना बैरियर खोल देंगे तो राजद खत्म हो जााएगा. राजनीतिक जानकार भी ये भी बताते हैं कि राजद ललन सिंह के फेर में राजद फंसा हुआ है और अपने कई कद्दावर नेताओं को खोता जा रहा है.

सियासी गलियारों में तो चर्चा ये भी है कि एक के बाद एक राजद के कई विधायकों को तोड़ कर जेडीयू में मिला चुके ललन सिंह की नज़र अभी राजद के कई और विधायकों पर है. सूत्र बताते हैं की नीतीश कुमार ने राजद को तोड़ने की पूरी ज़िम्मेदारी अपने भरोसेमंद ललन सिंह को दे दिया है. ख़बर ये भी है कि राजद के जिन विधायकों को जेडीयू में आना है वो भी ललन सिंह के माध्यम से ही संपर्क साध रहे हैं.

जैसी चर्चा चल रही है उसके अनुसार राजद छोड़ जेडीयू में आने वाले नेताओं की फ़ेहरिस्त अभी लंबी होने वाली है. अब सवाल उठता है कि ललन सिंह ऐसा क्यों कर रहे हैं? दरअसल इसकी एक राजनीतिक पृष्ठभूमि भी है. ख़ासकर लालू यादव से ललन सिंह की लड़ाई बहुत पुरानी है.
जब नीतीश कुमार समता पार्टी बना लालू यादव से राजनीतिक मुक़ाबला कर रहे थे तब चारा घोटाला का मामला सामने आया था. उसी के बाद ललन सिंह ने लालू के ख़िलाफ़ चारा घोटाला का मामला उठा कोर्ट में याचिका दायर कर उनकी मुसीबत बढ़ा दी थीं. उन्होंने लगातार कोर्ट में पूरी मज़बूती से लालू यादव के ख़िलाफ़ मोर्चा संभाले रखा. इसका असर ये हुआ कि आज भी लालू यादव चारा घोटाला मामला में क़ानूनी शिकंजे में हैं और अब ललन सिंह लालू यादव की पार्टी के पीछे पड़ गए हैं.

ललन सिंह से जब पूछा गया कि आख़िर कोई ख़ास वजह लालू यादव के पार्टी के पीछे पड़ने का तो ललन सिंह मुस्कुरा के कहते हैं, अरे भाई, हम कहां किसी के पीछे पड़ते हैं. राजद के जो लोग लालू यादव के प्रोडक्ट से नाराज़ हैं वो खुद हमारे साथ आना चाहते हैं तो हम क्या कर सकते हैं. हर कोई जीतने वाले प्रोडक्ट के साथ ही रहना चाहता है ना और इस वक़्त नीतीश जी से अच्छा कौन नेता है.

ललन सिंह के राजद और लालू यादव के पीछे पड़ने पर राजद के नेता जय प्रकाश यादव कहते हैं कि लालू यादव राजनीति का व पत्थर है जिन्हें कोई हिला नहीं सकता. कुछ लोग स्वार्थ में आकर भले ही अभी चले गए,  लेकिन जनता आज भी लालू जी के साथ है. ये दुनिया जानती है कि लालूजी को कैसे षड्यंत्र करके चारा घोटाला मामले में फंसाया गया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.