पटना:राजधानी के सबसे बड़ी डकैती में शामिल एक और लुटेरा झारखंड से गिरफ्तार

0
36
  • दिनदहाड़े 5.15 करोड़ की डकैती से मच गई थी सनसनी
  • राजधानी में पड़ी थी सबसे बड़ी डकैती
  • पकड़ा गया अपराधी अजय यादव कुख्यात रवि का शार्गिंद है
  • कांड में शामिल अपराधियों में से कुल सात आरोपित अब तक गिरफ्तार

राजधानी पटना के राजीवनगर थाना क्षेत्र के दीघा-आशियाना रोड स्स्थित पंचवटी रत्नालय में 21 जून 2019 को दिनदहाड़े डाली गई डकैती के मामले में फरार चल रहे एक और अपराधी को पुलिस ने झारखंड से गिरफ्तार कर लिया। पकड़ा गया लुटेरा अजय यादव है जो कि झारखंड के चकरा जिला स्थित ईंटखोरी गांव का रहनेवाला है। घटना के बाद से ही वह फरार चल रहा था। हथियारबंद बदमाशों ने पंचवटी रत्नालय से 15 लाख नगद और 5 करोड़ के हीरे व सोने के जेवर लूटकर सनसनी मचा दी थी।

अबतक पंचवटी रत्नालय डकैती कांड में शामिल कुल सात आरोपित पकड़े जा चुके हैं। इसमें गिरोह का सरगना रहा रवि पेशेंट अपने चार साथियों के साथ गिरफ्तार होने के बाद जेल जा चुका था। एक अन्य मामले में पेशी के दौरान वह सिविल कोर्ट परिसर से पुलिसकर्मियों को धक्का देकर फरार हो गया था, जिसे अबतक पकड़ा नहीं जा सका है। इस मामले में दो और लुटेरे फरार हैं, जिनकी तलाश में राजीवनगर पुलिस जुटी है।

3 arrested in Panchavati Ratnala robbery case, 1.12 crore Jewelry recovered  | पंचवटी रत्नालय में नेताजी गिरोह ने डाला था डाका, सरगना समेत 3 गिरफ्तार -  Dainik Bhaskar

कुख्यात रवि का शार्गिंद है पकड़ा गया अपराधी
पंचवटी रत्नालय में गर्दनीबाग का कुख्यात रवि गुप्ता उर्फ पेशेंट मास्टरमाइंड था। उसी ने अपने साथियों के साथ डकैती डाली थी। राजीवनगर थाना प्रभारी निशांत सिंह के मुताबिक पकड़ा गया अजय यादव कुख्यात रवि पेशेंट का ही शार्गिद रहा है। घटना के बाद वह पटना से भागकर झारखंड में ही छिपकर रह रहा था। जांच व पकड़े गये लुटेरों से पूछताछ में उसका नाम प्रकाश में आया था। गोपनीय सूचना मिलने के बाद छापेमारी कर उसे उसके घर से ही गिरफ्तार कर पटना लाया गया। पूछताछ में उसने पंचवटी की घटना में अपनी संलिप्तता स्वीकार की। इसके बाद उसे कोर्ट के समक्ष पेश किया गया। जहां से न्यायिक हिरासत में उसे जेल भेज दिया गया।

राजधानी में पड़ी थी सबसे बड़ी डकैती
पंचवटी रत्नालय में पड़ी डकैती राजधानी की सबसे बड़ी वारदात थी। इस मामले को लेकर पुलिस कई दिनों तक परेशान रही, जिसके बाद लुटेरा रवि अपने गुर्गों के साथ पकड़ा गया था। डकैती की इस घटना में पुलिस ने भले ही सात लुटेरों को गिरफ्तार कर लिया हो लेकिन लूटी गई रकम और गहनों की बरामदगी नाममात्र की ही की जा सकी। जब रवि अपने गुर्गों के साथ पकड़ा गया था तब पुलिस करीब डेढ़ करोड़ के गहने व तीन लाख से अधिक की नगदी बरामद करने का दावा किया था लेकिन शेष रकम और लूटे गये हीरे व सोने के जेवर पुलिस बरामद नहीं कर सकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.