भिवंडी में तीन मंजिला इमारत गिरने से 10 लोगों की मौत, कई लोगों के फंसे होने की आशंका

0
30

महाराष्ट्र के भिवंडी में तीन मंजिला इमारत गिर गई है. हादसे में 7 बच्चों समेत 10 लोगों की मौत हो गई और करीब 20 लोगों को जीवित बचा लिया गया. घटना की सूचना मिलने के बाद NDRF की दो टीमें रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए रवाना हो गई हैं. राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने घटना पर गहरा अफसोस जाहिर किया है.

जानकारी के मुताबिक बिल्डिंग जर्जर हालत में थी. सोमवार सुबह जब लोग गहरी नींद में सोए हुए थे. तभी सुबह 3.45 बजे बिल्डिंग भरभराकर नीचे गिर गई. बिल्डिंग गिरते ही वहां पर चीख पुकार मच गई. शोर सुनकर आसपास रहने वाले लोग बिल्डिंग की ओर दौड़े और अपने प्रयासों से तकरीबन 20 लोगों को मलबे में से सुरक्षित बाहर निकाल लिया.

घटना की सूचना मिलते ही पुलिस- प्रशासन की टीमें तुरंत मौके पर पहुंची. साथ ही  NDRF की दो टीमें को भी मदद के लिए बुलाया गया. फिलहाल कई लोगों के इमारत में फंसे होने की आशंका है. NDRF के साथ ही पुलिस प्रशासन की टीमें भी राहत कार्य में लगी हुई हैं. प्रशासन ने मलबे में दबे 5 और लोगों को जीवित बाहर निकाल लिया है.

जानकारी के मुताबिक घटना में हताहत हुए जुबेर खुरेशी (30), फायजा खुरेशी(5),आयशा खुरेशी (7), बब्बू (27), फातमा जुबेर बाबू (2), फातमा जुबेर कुरेशी (8), उजेब जुबेर (6), असका आबिद अन्सारी (14) अन्सारी दानिश अलिद (12) सिराज अहमद शेख (28)  के शव मिल चुके हैं. बाकी लोगों की तलाश जारी है. 

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्वीट कर घटना पर अफसोस जताया. राष्ट्रपति ने कहा कि भिवंडी में बिल्डिंग गिरने की घटना दुख पहुंचाने वाली है. इस घटना में ताहत हुए सभी परिवार वालों को उनकी ओर से संवेदनाएं. पीएम नरेंद्र मोदी ने ट्वीट करके कहा कि भिवंडी में बिल्डिंग गिरने से लोगों की मौत पर दुख पहुंचा है. भगवान से प्रार्थना है कि घायलों को जल्द से जल्द ठीक करे.

पुलिस के अनुसार पटेल कम्पाउन्ड में बनी इस जिलानी बिल्डिंग में 24 परिवार रहते थे. ये इमारत करीब 50 साल पुरानी थी. इसकी जर्जर हालत को देखते हुए नगरपालिका की ओर से इसे खाली करने का नोटिस दिया गया था. लेकिन लोगों ने इस इमारत को खाली नहीं किया. इमारत गिरने की वजह से उसके पास लगा पावर लूम कारखाना भी धाराशाई हो गया.

महाराष्ट्र सरकार के मंत्री एकनाथ शिंदे ने कहा कि भिवंडी और उल्लास नगर में कई इमारतें हैं जिन्हें नोटिस दिया गया है .102 इमारतों को भिवंडी में खाली कराया गया है.इस इमारत को भी 3 नोटिस दिए गए थे. लेकिन लोगों ने इसे खाली नहीं किया.प्रशासन के मुताबिक जिस इलाके में घटना हुई, वह एक संकरा इलाका है. वहां पर कई लोगों ने बिना नक्शा पास कराए अवैध निर्माण कर रखे हैं. इन अवैध निर्माणों में मजबूती और नियम-कायदों का ध्यान नहीं रखा जाता. जिसके चलते इस इलाके में पहले भी बिल्डिंग गिरने की कई घटनाएं हो चुकी हैं. घटना पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने भी दुख व्यक्त किया और बताया की उस इलाके के पालक ( अधिकृत) मंत्री एकनाथ शिंदे वहाँ पहुँच स्तिथि का जायजा ले रहे हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.