बिहार चुनाव 2020: सीट शेयरिंग के पेंच लेकर कांग्रेस सुलह को तैयार , बिहार के पार्टी नेता नहीं चाहते तेजस्वी को छोड़ना

0
128

राजद को कॉंग्रेस का ऑफर मंजूर होगा ?

बिहार में सीट बंटवारे को लेकर राजद और कांग्रेस के बीच खींचतान जारी है। कांग्रेस तालमेल को लेकर राजद के रुख से नाराज तो है लेकिन बिहार के नेता गठबंधन तोड़ने के मूड में नहीं हैं। लिहाजा अब पूरा मामला आलाकमान के पास चला गया है। कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि जोर आजमाइश गठबंधन टूटने की हद तक नहीं पहुंचेगी।

 माना जा रहा है कि कांग्रेस आलाकमान और राजद नेता तेजस्वी यादव के बीच इस मुद्दे पर जल्द बातचीत हो सकती है। इस बीच पार्टी ने अपने उम्मीदवारों के पैनल को अंतिम रूप दे दिया है। बिहार प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष मदन मोहन झा और विधायक दल के नेता सदानंद सिंह ने प्रदेश प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल और स्क्रीनिंग कमेटी के अध्यक्ष अविनाश पांडे के साथ लंबी बैठक की। 

वरिष्ठ नेता तारिक अनवर और अखिलेश सिंह ने भी पार्टी वार रूम में गोहिल और पांडे से मुलाकात की। इसके बाद तारिक अनवर ने कहा कि दोनों पार्टियों के बीच बातचीत चल रही है। राजद और कांग्रेस मिलकर चुनाव लड़ेंगे। जानकारी के मुताबिक पार्टी किसी वर्तमान विधायक का सामान्य तौर पर टिकट काटने के मूड में नहीं है। नये सीटों पर भी उम्मीदवारों की सूची में चयन किया जा रहा है। 

कांग्रेस ने मांगी 75 सीट ,
दरअसल, सीट बंटवारे को लेकर राजद और कांग्रेस दोनों एक-दूसरे पर दबाव बनाने की कोशिश कर रहे हैं। कांग्रेस कम से कम 75 सीट की मांग कर रही है, जबकि राजद 60 सीट देने के लिए तैयार है। पार्टी की दलील है कि हम पार्टी और आरएलएसपी के महागठबंधन से बाहर जाने के बाद उसकी दावेदारी बढ़ी है। इसलिए कांग्रेस को अधिक सीट मिलनी चाहिए।

कांग्रेस को भरोसा है की विवाद का हल जल्द निकाल लिया जाएगा। राजद के एक वरीय नेता के मुताबिक कॉंग्रेस 68 सीट पर मानने को तैयार है लेकिन राजद 58 से ज्यादा देने के मूड में अभी भी तैयार नही है। राजद नेता ने यह भी कहा की बिहार में कॉंग्रेस राजद के वोट बैंक से जीतती है इस बात का खयाल उसे रखना चाहिए। ना तो बिहार कॉंग्रेस के पास कोई बड़ा चेहरा है और ना ही जनाधार वाला कोई नेता , ऐसे में किसी गलतफहमी में रहना किसके लिए घातक होगा , यह बिहार कॉंग्रेस के नेताओं से बेहतर कोई नही जानता। अब यह देखना दिलचस्प होगा की बिहार में महागठबंधन से अलग होने की धमकी देने वाले कॉंग्रेसी दावों में कितना दम है क्योंकि दिल्ली से जो खबरें आ रही हैं उसके मुताबिक केन्द्रीय नेता राजद का साथ छोड़ने के पक्ष में नही दिख रही ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.