बिहार चुनाव 2020: NDA सीट बंटवारे में फंसा पेंच , लोजपा जदयू के खिलाफ उतार सकती है उम्मीदवार

0
35

भाजपा के बराबर बराबर सीट वाला फार्मूला नही मान रही जदयू

चिराग भी जदयू पर मानने को तैयार नहीं, फड़नवीस -भूपेन्द्र गए दिल्ली

लोजपा BJP के खिलाफ भले ही अपने उम्मीदवार ना उतारे लेकिन जदयू के खिलाफ उतार सकती है

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन ( NDA) के बीच अब भी जिच बरकरार है. खास तौर पर जनता दल यूनाइटेड और लोक जनशक्ति पार्टी के बीच काफी तल्खी है. वहीं अब खबर ये है कि बीजेपी-जेडीयू (BJP-JDU) के बीच भी सबकुछ सही नहीं कहा जा सकता है. दरअसल  एनडीए में सीट शेयरिंग को लेकर मामला अब भी उलझा हुआ है और अब जदयू और बीजेपी आमने सामने आ गई है. बीजेपी, जेडीयू के बराबर सीटों पर लड़ने की बात कह रही है तो जेडीयू भी अपने स्टैंड से झुकने को तैयार नहीं है.

बता दें कि सीटों का फॉर्मूला तय करने के लिए बुधवार की रात पटना पहुंचे बिहार भाजपा प्रभारी भूपेंद्र यादव और चुनाव प्रभारी देवेंद्र फडणडवीस शुक्रवार की शाम दिल्ली लौट गए. इससे पहले शुक्रवार को उनकी बातचीत जदयू नेतृत्व से नहीं हुई. पटना में वे दोनों अपने ही दल के नेताओं से बातचीत करते रहे, लेकिन कोई फॉर्मूला नहीं निकलता देख दोनों दिल्ली लौट गए.

इस बीच बड़ी खबर ये भी है कि  चिराग पासवान के रुख को लेकर जेडीयू में भारी नाराजगी है. सीएम नीतीश के 7 निश्चय योजना को बकवास बताने पर पार्टी नेताओं में गुस्सा है. दरअसल शुक्रवार को एलजेपी की ओर से नीतीश सरकार के सात निश्चय एजेंडा को भ्रष्टाचार का पिटारा बताया गया. पार्टी के आधिकारिक बयान में कहा गया कि एलजेपी बिहार सरकार के एजेंडे सात निश्चय के कार्यक्रम को नहीं मानती है.

लोजपा के प्रवक्ता अशरफ अंसारी द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि सात निश्चय के सारे काम अधूरे हैं. जिन लोगों ने भी इस योजना के काम किए उनके पैसों का भुगतान तक नहीं हुआ है. बयान में कहा गया है कि इस योजना की हकीकत बिहार के गांवों में देखी जा सकती है.लोजपा ने सात निश्चय को भ्रष्टाचार का पिटारा बताते हुए कहा कि लोजपा अगली सरकार में ‘बिहार फर्स्ट, बिहारी फर्स्ट’ विजन डाक्यूमेंट को लागू करेगी.
हालांकि लोजपा के बयान के बाद जेडीयू की ओर से कोई आधिकारिक प्रतिक्रिया नहीं आई है, लेकिन यह माना जा रहा है कि भले ही एनडीए में मीटिंग पर मीटिंग हो रही है, लेकिन अब तक सब कुछ ठीक नजर नहीं आ रहा है. बता दें कि इसी क्रम में  लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान ने आज दिल्ली में पार्टी की संसदीय बोर्ड की बैठक बुलाई है.

लोजपा की यह बैठक बैठक शाम 5 बजे होगी, जिसमें सीट बंटवारे के फार्मूले पर भी चर्चा हो सकती है. यहां यह भी तय होगा कि बिहार विधानसभा चुनाव में पार्टी राजग के साथ मिलकर चुनाव लड़ेगी या फिर अकेले. जाहिर है एनडीए के लिए आज का दिन बेहद अहम है. वैसे भाजपा और जदयू दोनों तरफ से ये दावे किया जा रहे हैं कि एनडीए एकजुट है और सीट बंटवारे के फॉर्मूले को जल्द अंतिम रूप दे दिया जाएगा.

वहीं भाजपा के बिहार प्रभारी अब केन्द्रीय नेतृत्व के दखल से इस समस्या को निपटा लेने की बात कर रहे हैं. भाजपा सूत्रों के मुताबिक कल एनडीए प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सीटों की घोषणा कर देगी. गौरतलब है कि 6 तारीख प्रथम चरण के नामांकन का आखिरी दिन है ऐसे में एनडीए के प्रत्याशी भी असमंजस में हैं. हालाँकि भाजपा के सूत्र ये बता रहे हैं कि प्रथम चरण के लिए NDA उम्मीदवारों का नाम तय कर लिया गया है और कल इसकी अधिकारिक घोषणा कर दी जाएगी.लोजपा मामले पर भाजपा कहती है की लोजपा एनडीए का हिस्सा है और आगे भी रहेगी. ऐसे में सवाल उठता है कि जब सब ठीक है तो फिर समस्या है कहाँ? लोजपा के सूत्र इस बात से इनकार नही करते की लोजपा BJP के खिलाफ भले ही अपने उम्मीदवार ना उतारे लेकिन जदयू के खिलाफ उतार सकती है. आज शाम तक लोजपा भी अपना स्टैन्ड क्लीयर कर देगी लेकिन जदयू के खिलाफ चुनाव लड़ने की पूरी तैयारी में दिख जरूर रही है. लोजपा भाजपा के 100 उम्मीदवारों को छोड़ बाकी सभी 143 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारने की पूरी तैयारी में है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.