बिहार चुनाव 2020: BJP और JDU में हुआ सीटों का बंटवारा, जेडीयू 122 तो बीजेपी 121 सीटों पर लड़ेगी चुनाव

0
65

बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर अब महागठबंधन के बाद एनडीए में भी सीटों का बंटवारा हो गया है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बताया कि उनकी पार्टी जेडीयू 122 सीटों पर चुनाव लड़ेगी. इसमें से सात सीटें जीतनराम मांझी की पार्टी हम को दी जाएंगी. वहीं बीजेपी 121 सीटों पर चुनाव लड़ेगी. जिसमें से पांच सीटें मुकेश सहनी की पार्टी वीआईपी को देगी.

गठबंधन का एलान करते हुए सीएम नीतीश कुमार ने अपनी सरकार के कामकाज का ब्यौरा भी दिया. उन्होंने कहा कि हमने न्याय के साथ विकास किया. हर इलाके में सड़क, बिजली सबमें सुधार हुआ है.

नीतीश कुमार ने कहा, ”सीटों की सूची भी रिलीज कर दी जायेगी. हम लोग बिहार के विकास के लिये काम कर रहे हैं और आगे भी करते रहेंगे. बहुत सारे लोगों के द्वारा बेवजह बहुत बातें की जाती हैं, मैं उन्हें महत्व नहीं देता हूं. हमसे पहले भी 15 साल दूसरे लोगों को मौका मिला, कहां कोई विकास का काम हुआ, क्या हालत थी बिहार की. हमने हमेशा कहा न्याय के साथ विकास.”

सीएम नीतीश ने बिना नाम लिये चिराग पासवान पर हमला बोला।उन्होंने कहा कि आज जो राम विलास पासवान राज्यसभा के सदस्य बने हैं वो किसी बदौलत बने हैं।क्या वो अपनी बदौलत बन गए हैं? उनकी पार्टी के तो दो ही विधायक हैं. क्या 2 विधायक वाली पार्टी राज्यसभा का सांसद बना सकती है?

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने कहा कि अगर आज रामविलास पासवान जी स्वस्थ रहते , तो ये परिस्थिति पैदा नहीं होती. 

उन्होंने कहा कि आवश्यकता पड़ेगी तो हम चुनाव आयोग को लिखकर देंगे, कि एनडीए से जुड़े सिर्फ चार दल ही प्रधानमंत्री के चित्र का इस्तेमाल कर सकते हैं, अन्य किसी को प्रधानमंत्री का चित्र इस्तेमाल करने का अधिकार नहीं होगा.

संख्या चाहे जिसकी जितनी आए, लेकिन मुख्यमंत्री नीतिश कुमार ही बनेंगे. इसके लेकर किसी को कोई दुविधा नहीं होनी चाहिए.

एनडीए में वहीं रहेंगे जो नीतीश कुमार के साथ हैं- संजय जयसवाल

बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष संजय जयसवाल ने कहा, ”भाजपा के सबसे पुराने सहयोगी नीतीश कुमार के साथ पूरे बिहार का विकास हुआ है. 15 साल में एनडीए सरकार ने बदहाल बिहार को खुशहाल बिहार बनाया है. जदयू से हमारा अटूट बन्धन है, लोजपा नेता राम विलास पासवान का सम्मान करते हैं, मगर बिहार में एनडीए के नेता नीतीश कुमार हैं. एनडीए में वहीं रहेंगे जो नीतीश कुमार के साथ हैं.”

इससे पहले सोमवार को बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के घर पर बिहार कोर कमेटी की बैठक हुई. बीजेपी बिहार कोर कमेटी की बैठक में डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी और राज्य प्रभारी भूपेंद्र सिंह यादव हिस्सा लिए थे. 

2010 में साथ लड़े थे चुनाव

इससे पहले बीजेपी और जेडीयू ने 2010 का विधानसभा चुनाव साथ लड़ा था. तब जेडीयू 141 और बीजेपी 102 सीटों पर अपना उम्मीदवार उतारी थी. इस चुनाव में जेडीयू ने 115 तो बीजेपी ने 91 सीटों पर जीत हासिल की थी.

गौरतलब है कि राज्य में 28 अक्टूबर से शुरू होने वाले चुनाव में NDA का मुकाबला तेजस्वी के नेतृत्व में चुनाव लड़ने वाले महागठबंधन से है. महागठबंधन की बात करें तो आरजेडी 144, कांग्रेस 70 और लेफ्ट पार्टियां 29 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी. आरजेडी, कांग्रेस, सीपीआई(माले), सीपीआई, सीपीएम महागठबंधन का हिस्सा हैं. 

LJP अकेले लड़ेगी चुनाव

चुनाव से पहले तक NDA का हिस्सा रही LJP ने अकेले लड़ने का फैसला लिया है. वो जेडीयू के खिलाफ अपना उम्मीदवार उतारेगी. एनडीए में मनचाही संख्या में सीट न मिलने के चलते चिराग पासवान ने 143 सीटों पर प्रत्याशी उतारने का फैसला किया है. एलजेपी का बीजेपी के प्रत्याशियों को समर्थन रहेगा. 

बता दें कि बिहार में तीन चरण में विधानसभा के चुनाव होंगे. पहले चरण का मतदान 28 अक्टूबर को होगा, दूसरे चरण का मतदान 3 नवंबर और तीसरे चरण का मतदान 7 नवंबर को होगा. चुनाव के नतीजे 10 नवंबर को घोषित होंगे.

2015 में क्या थे नतीजे

2015 के विधानसभा चुनाव में महागठबंधन को भारी जीत मिली थी. 243 सीटों वाली बिहार विधानसभा में महागठबंधन 178 सीटों पर जीती थी. नीतीश कुमार बिहार के नए मुख्यमंत्री चुने गए थे. हालांकि, चुनाव के दो साल बाद जेडीयू महागठबंधन से अलग हो गई थी और बीजेपी से हाथ मिला लिया था. इस चुनाव में RJD को 80, JDU को 71, बीजेपी को 53 और कांग्रेस को 27 सीटों पर जीत मिली थी. 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.