चुनावी हलफनामे में गजब है उम्र का खेल , किसी की घट रही है तो किसी ने लगा दिया है ब्रेक तो किसी की बेकाबू हो पकड़ चुकी है दुगनी रफ्तार

0
36

बिहार में घोटाले के कई रिकोर्ड बन चुके हैं लेकिन इस बार बिहार विधानसभा चुनाव में जो घोटाले का स्वरुप सामने आ रहा है वो काफी चौंकाने वाला है. घोटालों के पीछे सफेदपोशों का नाम आना आम बात है. इस बार का भी खेला इनलोगों ने खुद ही खेल डाला है जो कि बिल्कुल गैर संवैधानिक और हास्यास्पद है.जी हां,जानबूझकर या गलती से नेताओं के द्वारा उम्र का घोटाला करने के खेल बिहार विधान सभा चुनाव में शुरू हो गया है.

गौरतलब है कि बिहार विधानसभा चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों के द्वारा चुनाव आयोग के निर्देश पर एक शपथ पत्र भरा जाता है जिसमें प्रत्याशियों को अपने बारे में ब्यौरा देना होता है. संपत्ति, डिग्री के साथ ही उम्र का जिक्र करना पड़ता है.क्योंकि चुनाव लड़ने की एक उम्र निर्धारित की गई है. लेकिन इस दफा उम्मीदवारों के द्वारा उम्र के घोटाले का खेल सामने आ रहा है. कुछ लोग पिछले 5साल से एक ही उम्र पर फिक्स हो गए हैं तो कोई 5 साल में तीन साल छोटा हो गया है.

आइए देखें बिहार विधानसभा चुनाव में उम्र घोटाला करने वाले उम्मीदवार क्या क्या गुल खिला रहे हैं.

सरोज यादव – माननीय राजद से आरा के बड़हरा से पिछले 5 साल से निवर्तमान विधायक हैं. इस बार भी राजद ने फिर से चुनाव मैदान में उतारा है. अब जरा इनका उम्र वाला हिसाब किताब का खेल समझिए.2015 में इन्होंने जो एफिडेविट दाखिल किया था, उसमें साफ-साफ लिखा था, ‘मैंने 33 वर्ष की आयु पूरी कर ली है।’ लेकिन इस बार इन्होंने एफिडेविट दाखिल किया है, उसमें भी इसी तरह लिखा है, ‘मैंने 30 वर्ष की आयु पूरी कर ली है।’ यानी, सरोज यादव ऐसे हैं जिनकी उम्र घटती है। 5 साल में इन्हें कायदे से 38 साल का हो जाना चाहिए था, लेकिन ये और छोटे होकर 30 साल के हो गए हैं. मतलब दुनिया के हर शख्स की साल दर साल उम्र बढ़ती है लेकिन सरोज यादव 5 साल में तीन साल छोटे हो गए.

निक्की हेम्ब्रम
निक्की हेम्ब्रम बीजेपी से कटोरिया सीट से चुनावी मैदान में उतरी हैं. पिछली बार वो हार गई थीं. लेकिन निक्की हेम्ब्रम के साथ वक्त ने गजब का खेल किया. वक्त बढ़ता चल गया लेकिन निक्की हेम्ब्रम की उम्र जस की तस रही2015 में इन्होंने अपने एफिडेविट में बताया था कि इनकी उम्र 42 साल है।.2015 को बीते हुए 5 साल होने वाले हैं. इन 5 सालों में निक्की की उम्र जरा भी नहीं बढ़ी हैं. वो तब भी 42 की थीं और इस बार 5 साल के बाद उन्होंने जो एफिडेविट दिया है उसके मुताबिक भी वो 42 की ही हैं.

जय कुमार सिंह 
जदयू के जय कुमार सिंह नीतीश सरकार में मंत्री हैं. दिनारा सीट से तीन बार के विधायक हैं. इस बार फिर दिनारा से ही खड़े हुए हैं. ये ऐसे नेता हैं, जिनकी उम्र 5 साल में 10 साल बढ़ गई.अब देखिए 2015 में जो एफिडेविट दाखिल किया था, उसमें इन्होंने अपनी उम्र 46 साल बताई थी और इस बार जो एफिडेविट लगाया है, उसमें अपनी उम्र 56 साल बताई. मतलब 5 साल में इनकी उम्र 10 साल बढ़ गई है.

सत्यदेव सिंह
नाम सत्यदेव सिंह लेकिन उम्र ही छीपाने की जुगत में लगे हैं. एफिडेविट में इनकी उम्र कुछ और है तो विधानसभा की वेबसाइड में कुछ और . अब जरा इनके उम्र का हिसाब किताब समझ लीजिए. जदयू ने इन्हें कुर्था सीट से अपना कैंडिडेट बनाया है. विधानसभा में जो इन्होंने अपने बारे में जानकारी दी है उसके हिसाब से इनकी जन्म तिथि 20 जून 1950 है.यानि माननीय अब 70 साल से ऊपर के हो गए वहीं दूसरी तरफ इस बार चुनाव में जो एफिडेटिवट दाखिल किया है उसमे इन्होंने अपनी उम्र 61 साल बताई है .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.