बिहार विधानसभा चुनाव: परंपरागत वोटरों पर भाजपा की नजर इस बार भी, 110 में 65 प्रत्याशी वैश्य – सवर्ण समुदाय के

0
115

 विधानसभा चुनाव 2020 में भाजपा ने अपने 110 सीटों पर परंपरागत वोटरों का ख्याल रखते हुए ही उम्मीदवार उतारे हैं। पार्टी ने अपने वोट बैंक सवर्ण व वैश्यों को मिलाकर आधे से अधिक 65 उम्मीदवारों को चुनावी मैदान में उतारा है। इसमें 50 सवर्ण तो 15 उम्मीदवार वैश्य हैं। सवर्ण उम्मीदवार में 21 क्षत्रिय व 15 भूमिहार हैं। पार्टी ने मुख्य विपक्षी दल राजद के वोट बैंक में सेंध लगाने के लिए 14 यादवों को भी चुनावी मैदान में उतारा है। हालांकि, पार्टी ने एक भी अल्पसंख्यक उम्मीदवार को टिकट नहीं दिया है। 

तीन चरणों में हो रहे चुनाव में भाजपा के पहले चरण में 29 उम्मीदवार हैं। इस चरण में भाजपा ने 7-7 भूमिहार व राजपूत, 4 ब्राह्मण, 3 यादव, 3 अनुसूचित जाति, 1 आदिवासी , 1 वैश्य, 1 बिंद, 1 दांगी और 1 चंद्रवंशी को उम्मीदवार बनाया है। दूसरे चरण में वैश्य चार, भूमिहार पांच, एससी सात, ब्राह्मण चार, यादव आठ,  राजपूत 11, कुर्मी-कुशवाहा चार, चौरसिया एक व कायस्थ दो को उम्मीदवार बनाया है। वहीं, तीसरे चरण में भूमिहार, ब्रह्मण व राजपूत तीन-तीन, एक कायस्थ, पांच अनुसूचित जाति,  चार ईबीसी, 10 वैश्य तो छह यादव, कुर्मी व कुशवाहा को मिलाकर 16 पिछड़ों को उम्मीदवार बनाया गया है। 

एक चौथाई से अधिक पहली बार मैदान में 
साल 2015 के चुनावी मैदान में 157 सीटों पर लड़ने वाली भाजपा भले ही 110 सीटों पर चुनाव लड़ रही है लेकिन इस बार पार्टी ने नए चेहरों पर ही ज्यादा भरोसा जताया है। 30 उम्मीदवारों को पहली बार चुनावी मैदान में उतारा गया है। पहले चरण की 29 सीटों में आठ उम्मीदवार पहली बार चुनाव मैदान में हैं। इसमें कहलगांव से पवन कुमार यादव, बिक्रम से अतुल कुमार, तरारी से कौशल कुमार सिंह, जमुई से श्रेयसी सिंह, बक्सर से परशुराम चतुर्वेदी और अरवल से दीपक शर्मा शामिल हैं। पूर्व मंत्री राघवेंद्र प्रताप सिंह भाजपा के टिकट पर पहली बार चुनावी मैदान में उतरे हैं। वहीं पूर्व सांसद हरि मांझी भी पहली बार विधायक का चुनाव बोधगया से लड़ रहे हैं। 

नए चेहरों में 14 सबसे अधिक दूसरे चरण में 
नए चेहरों में पार्टी ने सबसे अधिक दूसरे चरण में 14 उम्मीदवारों को पहली बार चुनाव मैदान में उतारा है। इनमें चनपटिया से उमाकांत सिंह, गोविंदगंज से सुनील मणि त्रिपाठी, सीतामढ़ी से डॉ मिथलेश कुमार, सीवान से ओम प्रकाश यादव, अमनौर से कृष्णा कुमार मंटू, लालगंज से संजय कुमार सिंह, उजियारपुर से शील कुमार राय, मोहिउद्दीनगर से राजेश सिंह, रोसड़ा (सुरक्षित) से वीरेन्द्र पासवान, बेगूसराय से कुंदन सिंह, बखरी (सुरक्षित) से रामशंकर पासवान, भागलपुर से रोहित पांडे, फतुहा से सत्येन्द्र सिंह व मनेर से प्रदेश भाजपा प्रवक्ता डॉ निखिल आनंद शामिल हैं। सीवान से चुनाव लड़ रहे ओम प्रकाश यादव सांसद रह चुके हैं तो फतुहा से सत्येन्द्र सिंह पिछले चुनाव में लोजपा से चुनाव मैदान में थे। वहीं तीसरे चरण के 35 उम्मीदवारों में आठ को पहली बार मौका दिया गया है। इसमें बगहा से राम सिंह, रक्सौल से प्रमोद सिन्हा, बथनाहा सुरक्षित से अनिल राम, नरपतगंज से जयप्रकाश यादव, बायसी से विनोद यादव, हायाघाट से रामचंद्र साह, केवटी से मुरारी मोहन झा व पातेपुर सुरक्षित सीट से लखिंदर पासवान शामिल हैं। 

आठ विधायक हुए बे-टिकट
नए चेहरे को मौका देने के कारण भाजपा ने मौजूदा 54 विधायकों में आठ को बे-टिकट कर दिया है। पहले चरण में झाझा सीट जदयू के कोटे में चली गई। यहां से रवीन्द्र यादव चुनाव मैदान में थे। अभी ये लोजपा के टिकट पर चुनाव मैदान में हैं। जबकि दूसरे चरण में चनपटिया से श्रीप्रकाश राय, सीवान से व्यास देव प्रसाद और अमनौर से शत्रुघ्न   तिवारी को बे-टिकट कर दिया गया। तीसरे चरण में बगहा से आरएस पांडेय, रक्सौल से अजय कुमार सिंह और बथनाहा सुरक्षित सीट से दिनकर राम को बे-टिकट कर दिया गया। सुगौली सीट पार्टी ने वीआईपी को दे दी। इस कारण मौजूदा विधायक रामचंद्र सहनी बे-टिकट हो गए। हालांकि अब रामचंद्र सहनी को वीआईपी ने टिकट दे दिया है। ऐसे में वे भाजपा के बदले वीआईपी कोटे से चुनाव मैदान में हैं।

कुल 13 महिलाओं को टिकट 
पार्टी ने इस बार 110 में से 13 महिला उम्मीदवारों को चुनाव मैदान में उतारा है। पहले चरण में कटोरिया (अजजा) से निक्की हेम्ब्रम, शाहपुर से मुन्नी देवी, भभुआ से रिंकी रानी पांडेय, वारसलीगंज से अरुणा देवी व जमुई से श्रेयसी सिंह हैं। दूसरे चरण में बेतिया से रेणु देवी व दानापुर से आशा देवी तो तीसरे चरण में रामनगर सुरक्षित सीट से भागीरथी देवी, नरकटियागंज से रश्मि वर्मा, परिहार से गायत्री देवी, किशनगंज से स्वीटी सिंह, प्राणपुर से निशा सिंह और कोढ़ा सुरक्षित सीट से कविता पासवान शामिल हैं।   

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.