मीनापुर की सभा में नीतीश ने तेजस्वी से पूछा, बताओ- लॉकडाउन में दिल्ली में किसके यहां रहते थे?

0
42

बिहार चुनाव को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के नेता तेजस्वी यादव में वार-पलटवार का दौर चल रहा है. तेजस्वी यादव ने बुधवार को ‘आजतक’ से विशेष बातचीत में कहा था कि सीएम नीतीश थक चुके हैं. उन्होंने बिहार के लिए कुछ नहीं किया. बिहार में अब तक एक कारखाना नहीं लगा पाए. इस पर अब नीतीश कुमार ने तेजस्वी पर पलटवार किया है. 

चुनावी दौरे पर गुरुवार को मुजफ्फरपुर पहुंचे नीतीश कुमार ने कहा कि पहले अपने (तेजस्वी यादव) बताएं कि वह कोरोना लॉकडाउन के दौरान कहां थे? कहां भाग गए थे? उस दौरान कहां भागे रहते थे? दिल्ली में किसके यहां रहते थे. कोई नहीं जानता है. सबको बताइए. कहीं किसी को मालूम है कि किसके यहां रहते थे?

तेजस्वी का नाम लिए बगैर नीतीश कुमार ने कहा कि कोई माता-पिता की जगह लेने का कोशिश कर रहा है. ये क्या करेंगे. कल मौका मिला तो था, क्या किया? किस चीज का ज्ञान है? किस चीज का अनुभव है? और हम लोगों ने चाहे केंद्र में रहकर काम किया और जब यहां आप लोगों ने मौका दिया तो यहां काम कर रहे हैं. 

नीतीश कुमार ने कहा कि हमने अपराध पर नियंत्रण कर कानून का राज स्थापित किया. सर्वांगीण विकास कर सड़क-बिजली, किसानों के खेत तक पानी की व्यवस्था कराई. अपराध पर नियंत्रण किया. यहां जंगल राज था, उसे खत्म कर 
कानून का राज कायम किया. विकास होने लगा. हम क्या थक गए हैं?जेडीयू प्रमुख नीतीश कुमार ने तेजस्वी यादव से पूछा कि वह दिल्ली में किस जगह रह रहे थे. यह भी जरा हमें बताएं? कहां भाग गए थे?  अपने माता-पिता की जगह लेना चाह रहे हैं. उन्हें किस चीज का ज्ञान और अनुभव है?

नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार का विकास का दर पहले बहुत बेहतर हो गया है. बिहार का विकास दर 12.8 है. एनडीए के शासन काल मे बिहार में महिलाओं को सम्मान मिलने लगा. 15 साल इन्होंने क्या किया जो मैंने 10 सालों में करके दिखाया. कह रहे हैं कि बेरोजगारी है और बेरोजगारों को नौकरी देंगे. 

मुख्यमंत्री ने कहा कि इनके (तेजस्वी) माता-पिता ने संयुक्त बिहार-झारखंड में सरकार में रहने के दौरान क्या किया? इनकी सरकार ने सिवाय अपने विकास के कुछ नहीं किया. बेटा-बेटी, घर-परिवार का विवास किया. 5 साल झारखंड को अलग होने के बाद भी इनकी सरकार थी. तब भी कुछ नहीं किया. इनकी पार्टी के 15 साल के शासन में एक लाख से भी कुछ कम ही रोजगार मिला था. नीतीश ने दावा किया कि हमारी सरकार में कितने शिक्षकों की बहाली की गई. छह लाख से अधिक रोजगार दिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.