वित्त मंत्रालय ने इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की तारीख बढ़ाई, अब 31 दिसंबर तक कर सकेंगे दाखिल

0
54

वित्त मंत्रालय ने आयकर रिटर्न दाखिल करने की समयसीमा को बढ़ाने का फैसला किया है. व्यक्तिगत करदाताओं के लिए वित्त वर्ष 2019-20 का इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की समयसीमा 31 दिसंबर 2020 कर दी गई है. वित्त मंत्रालय ने शनिवार को यह जानकारी दी. इससे पहले, करदाताओं के लिए रिटर्न दाखिल करने की अंतिम तिथि 30 नवंबर थी.

बता दें कि केंद्र सरकार ने मई में वित्त वर्ष 2019-20 के लिए आईटीआर फाइल करने की समयसीमा को 31 जुलाई से बढ़ाकर 30 नवंबर 2020 किया था. CBDT ने तब अपने आदेश में कहा था कि कोरोना वायरस संकट के चलते करदाताओं को पेश आ रही परेशानियों को देखते हुए यह फैसला लिया गया है.

आकलन वर्ष 2019-20 के लिए देरी से या संशोधित आईटीआर फाइल करने की तारीख 30 सितंबर 2020 से बढ़ाकर 30 नवंबर 2020 कर दी गई. कोरोना संकट की वजह आयकर रिटर्न दाखिल करने के लिए सरकार की ओर से यह चौथी बार समयसीमा बढ़ाई गई है.

इससे पहले, मार्च में सरकार ने समयसीमा 31 मार्च 2020 से बढ़ाकर 30 जून 2020 किया था. बाद में इसे 31 जुलाई 2020 तक और फिर 30 सितंबर 2020 तक बढ़ाया गया.

केंद्र सरकार ने देश के लाखों कारोबारियों को बड़ी राहत देते हुए वित्‍त वर्ष 2018-19 के लिए सालाना जीएसटी रिटर्न (GSTR-9) और समाधान विवरण (GSTR-9C) दाखिल करने की अवधि बढ़ा दी है. सेंट्रल बोर्ड ऑफ इनडायरेक्‍ट टैक्‍स एंड कस्‍टम्‍स (CBIC) ने बताया कि जीएसटी रिटर्न दाखिल करने की अवधि 31 अक्‍टूबर 2020 से बढ़ाकर 31 दिसंबर 2020 कर दी गई है. दरअसल, कोरोना संकट के कारण अभी तक देश के कई हिस्‍सों में कारोबारी गतिविधियां सामान्‍य नहीं हो पाई हैं.

किसके लिए जरूरी है जीएसटी रिटर्न दाखिल करना
जीएसटीआर-9 वस्‍तु व सेवा कर के तहत रजिस्‍टर्ड करदाताओं की ओर से दाखिल किया जाने वाला सालाना रिटर्न है, जबकि जीएसटीआर-9C जीएसटीआर-9 और ऑडिटेड एनुअल फाइनेंशियल स्‍टेटमेंट के बीच का समाधान विवरण है. नियमों के तहत 2 करोड़ रुपये सालाना तक कारोबार करने वाले सभी व्‍यापारियों के लिए सालाना जीएसटी रिटर्न दाखिल करना अनिवार्य है. वहीं, 5 करोड़ रुपये तक का सालाना कारोबार करने वाले व्‍यापारियों के लिए सामाधान विवरण पेश करना जरूरी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.