नहीं मिलेगा सस्ता प्याज: सब्सिडी पर बिस्कोमान फिर बेचने वाला था 50 ट्रक प्याज, निर्वाचन आयोग ने चुनाव तक रोका

0
42

आलू-प्याज की बढ़ी या बढ़ती हुई कीमत बिहार विधानसभा चुनाव में मुद्दा नहीं बन सकी, लेकिन निर्वाचन आयोग ने इसे इस श्रेणी में मान लिया है। प्रमाण दैनिक भास्कर डिजिटल के पास मौजूद यह चिट्‌ठी है। बिहार स्टेट कोऑपरेटिव मार्केटिंग यूनियन लिमिटेड (बिस्कोमान) ने महंगाई की मार से राहत दिलाने के लिए पिछली बार की तरह इस बार भी प्याज बेचने की तैयारी पूरी कर ली थी, लेकिन चुनाव आयोग ने 22 अक्टूबर को पत्र लिख कर इस पर रोक लगा दी। पिछली बार जब बाजार में प्याज की कीमत 90 से 100 रुपए चली गई थी, बिस्कोमान ने लाइन लगाकर 35 रुपए किलो की दर पर प्याज बेचा था। इस बार पटना में आलू की कीमत 45-50 रुपए पहुंच गई है और प्याज 70 के आसपास।

इस बारे में बिस्कोमान के चेयरमेन सुनील सिंह ने बताया कि सरकार ने हमें प्याज मंगाने को कहा था. लेकिन भारत निर्वाचन आयोग, नई दिल्ली के सचिव प्रमोद कुमार शर्मा ने बिहार के मुख्य निर्वाचन अधिकारी को पत्र लिख कर चुनाव होने तक आलू, प्याज की प्रतिस्पर्धात्मक दर पर खुली बिक्री को स्थगित रखने को कहा है। यह पत्र भारत निर्वाचन आयोग ने बिहार निर्वाचन अधिकारी को 22 अक्टूबर 2020 को लिखा है। बिस्कोमान चेयरमैन कहते हैं कि हमने पूरी तैयारी कर ली थी कि 50 ट्रक प्याज मंगावाकर लोगों को सस्ती दर पर उपलब्ध करवा दी जाए। लेकिन चुनाव आयोग की रोक के बाद प्याज नहीं मंगाए जा सके।

भारत निर्वाचन आयोग द्वारा मुख्य निर्वाचन अधिकारी, पटना को लिखी चिट्ठी।

निर्वाचन आयोग के इस कदम पर जानकार कहते हैं –

देश के पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त एस. वाई. कुरैशी ने कहा कि दो बातें हैं, चुनाव आयोग को यह बताना होगा कि प्याज की क्राइसिस कितनी बड़ी है। लेकिन अभी के समय में जब बिहार में चुनाव सिर पर हैं और अगर मैं इलेक्शन कमिश्नर रहता तो मैं भी अनुमति नहीं देता। इस तरह की छूट से अगर सौ से पचास वोट भी इधर-उधर हो जाते हैं, तो बड़ी बात होती है। चुनाव में ज्यादा लंबा समय रहता तो छूट दी जा सकती थी।

कांग्रेस का आरोप – पूंजीपतियों को फायदा पहुंचाने की कोशिश

बिहार के लोग कमोबेश हर सब्जी में आलू जरूर डालते हैं इसलिए भी दिक्कत है और किचन का मजा खराब हो रहा है। बावजूद आलू-प्याज किसी पार्टी के एजेंडे में नहीं है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल चुनाव प्रचार में बिहार आए तो आलू-प्याज की चर्चा की। उन्होंने कहा कि आलू-प्याज की कीमत बढ़ती जा रही है। इससे पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाया जा रहा है।

बाजार के लोग क्या कहते हैं

डीके लिट्टी के दिनेश कुमार कहते हैं कि लिट्टी के साथ दिए जाने वाले चोखा में आलू कम नहीं किया जा सकता पर सलाद में प्याज की मात्रा घटानी पड़ी है। मार्केट में हाल यह है कि आलू प्याज के अलावा हरी मिर्च 100 रुपए किलो से ऊपर है, खीरा 60 रुपए, टमाटर 60-70 रुपए, गाजर 80 रुपए, धनिया पत्ता 250 रुपए किलो है। वे कहते हैं कि एक तो कोरोना की वजह से बाजार मंदा है और ऊपर से महंगाई तेज है।

सब्जी विक्रेता राहुल बताते हैं कि आलू-प्याज का दाम कहां से घटेगा? शासन-प्रशासन सब चुनाव में व्यस्त है और माल स्टॉक होने लगा है। वे बताते हैं कि प्याज समस्तीपुर, नासिक और बंगाल से आ रहा है पर कम मात्रा में आ रहा है।

दाम घटे भी तो आलू 25 रुपए और प्याज 40 से कम होना मुश्किल

बाजार समिति आलू-प्याज मंडी के रिंकू ने बताया कि नया प्याज खराब हो गया है, इसलिए कीमत बढ़ गई है। एमपी और महाराष्ट्र में बड़े व्यापारियों ने स्टॉक भी कर लिया है। वे बताते हैं कि सरकार ने निर्देश दिया है कि व्यापारी 25 टन से ज्यादा नहीं रख सकते और खुदरा व्यापारी दो टन से ज्यादा नहीं रख सकते। इसके बावजूद मनमानी है। नासिक, एमपी और अलवर से भी प्याज निकलने वाला है। यह प्याज अभी कच्चा है। बिहार में प्याज की उपज खास नहीं है इसलिए बाहर से ही आयात होता है। नासिक और कर्नाटक का प्याज मौसम की वजह से खराब हो चुका है। नई फसल के खराब हो जाने से स्टॉक वाला माल आएगा।

आलू के बारे में रिंकू बताते हैं कि नया आलू छत्तीसगढ़ से बिहार आता है और वहां बारिश की वजह से आलू को काफी नुकसान हुआ है। आलू यूपी, बिहार और बंगाल में स्टोर होता है। लेकिन पिछले साल फसल कमजोर होने की वजह से स्टोर में आलू ज्यादा नहीं है। अब तक बंगलोर, छत्तीसगढ़ से आलू आ जाना चाहिए था, झारखंड से भी आ जाना चाहिए था, लेकिन फसल तैयार होने में देर हो गई है। झारखंड में 10 दिन के अंदर आलू आ जाना चाहिए। इससे आलू के दाम थोड़े घटेंगे। वे कहते हैं कि आलू और प्याज की कीमत घटेगी लेकिन इस बार उतनी नहीं घटेगी। दिसंबर तक ही कीमत सुधर पाएगी। आलू की कीमत कितनी भी घटेगी 25-30 रुपए किलो तक ही जाएगी प्याज की कीमत 40 रुपए किलो तक आएगी।

देश भर में क्या हैं प्याज के भाव

पटना के एक सज्जन ने अपने फेसबुक पोस्ट में लोगों से अपने-अपने इलाकों में प्याज के भाव बताने को कहा तो देश के कई कोने से जवाब मिले। लोगों ने अपने-अपने हिस्से से प्याज की प्रति किलो जो कीमतें बताई, वो ये हैं :

कोलकाता में 60 से 80 रुपए
दिल्ली में 60-70 रुपए
गुड़गांव में 60 रुपए
मुंबई 88-90 रुपए
दरभंगा 52 रुपए
फरीदाबाद में 70 रुपए
मेरठ में 100 रुपए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.