बिहार चुनाव २०२०: कोरोना के दौर में कैसे बदला हुआ है इस बार का चुनाव, क्या कुछ नए तरीके अपनाए जा रहे हैं

0
37

कोरोना वायरस महामारी के बीच आज बिहार विधानसभा चुनाव के पहले चरण के लिए 71 सीटों पर वोटिंग हो रही है. महामारी को देखते हुए चुनाव आयोग ने खास तैयारियां की हैं. साथ ही मतदाताओं के लिए भी कई नियम तय किए गए हैं. चुनाव आयोग की ओर से मतदाताओं की सेहत को ध्यान में रखते हुए जो दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं, उनमें सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना, सैनिटाइज़ेशन का खास खयाल रखना और थर्मल चेकिंग जैसे कई अहम कदम शामिल हैं.

चुनाव में हो रहा दिशा-निर्देशों का पालन
चुनाव के मद्देनज़र इलेक्शन कमीशन ने जो दिशा निर्देश जारी किए हैं, उनका पालन कई जगह होता नज़र आ रहा है. झाझा विधानसभा के तहत नयागांव स्थित एक बूथ पर कोविड प्रोटोकॉल का पालन किया जा रहा है. थर्मल चेकिंग के बाद मतदाताओं को सैनिटाइजर और मास्क दिए जा रहे हैं. कोरोना के बीचों बीच हो रहे मतदान के मद्देनज़र पोलिंग सेंटर पर किन बातों का ध्यान रखना है इसके पोस्टर भी लगाए गए हैं.

चुनाव में इस बार क्या अलग है?
चुनाव आयोग के दिशा-निर्देशों के मुताबिक सभी मतदान केंद्रों पर वोटर्स को सामाजिक दूरी का पालन करते हुए मतदान करना होगा. सभी मतदान केंद्रों पर एक हजार मतदाता मतदान में शामिल होंगे. पहले चुनाव में मतदाताओं की अधिकतम संख्या 1500 थी. मतदाताओं को मास्क, गमछा या तौलिए से मुंह ढककर मतदान के लिए जाना होगा. हालांकि पहचान जाहिर करने के लिए थोड़ी देर के लिए उन्हें अपना चेहरा दिखाना होगा. केंद्रों पर थर्मल थर्मामीटर से मतदाताओं के शरीर के तापमान की जांच होगी, उनके हाथ सेनिटाइज कराए जाएंगे और इसके बाद ग्लव्स पहनकर मतदान करना होगा.

कोरोना लक्षण पाए गए तो अंतिम घंटे में डाल सकेंगे वोट
वोटिंग के वक्त अगर किसी मतदाता में कोरोना वायरस के लक्षण पाए जाते हैं, तो वह मतदाता उस वक्त मतदान नहीं कर सकेगा. मतदाता को एक टोकन दिया जाएगा. कोरोना संक्रमित और क्वॉरन्टीन में रह रहे लोग स्वास्थ्य अधिकारियों की मौजूदगी में मतदान के आखिरी घंटे में अपना वोट डाल सकेंगे.

एक घंटे बढ़ाया गया वोटिंग का वक्त
कोरोना महामारी की वजह से मतदान का समय एक घंटे बढ़ा दिया गया है. अब मतदान सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे चलेगा. हालांकि, 4 सीटों पर दोपहर 3 बजे तक, 26 सीटों पर शाम 4 बजे तक और 5 सीटों पर शाम 5 बजे तक वोटिंग होगी.

80 साल से ज्यादा उम्र के बुज़ुर्गों के लिए पोस्टल बैलेट का इंतज़ाम
80 साल से अधिक उम्र के लोगों के लिए पोस्टल बैलेट की सुविधा उपलब्ध कराई गई है, ताकि उन्हें मतदान केद्रों पर आने की ज़रूरत न पड़े. बता दें कि कोरोना वायरस अधिक उम्र के व्यक्तियों के लिए ज्यादा घातक माना गया है.

तीन चरणों में चुनाव, 10 नवंबर को नतीजे
बिहार में विधानसभा की 243 सीटों के लिए तीन चरणों में चुनाव होना है. इसके तहत प्रथम चरण के लिए 28 अक्टूबर को 71 सीटों पर, दूसरे चरण के लिए तीन नवंबर को 94 सीटों पर और तीसरे चरण के लिए सात नवंबर को 78 सीटों के लिए मतदान होगा. वहीं वोटों की गिनती 10 नवंबर को होगी. आपको बता दें कि बिहार चुनाव में इस बार 7 करोड़ 30 लाख मतदाता हिस्सा ले रहे हैं.

पहले चरण में 1066 प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला होना है, जिनमें से 114 महिलाएं हैं. पहले चरण में दो करोड़ 14 लाख से अधिक मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे. इस चरण के लिए 31,371 मतदान केंद्र बनाए गए हैं. पहले चरण में राजद के 42 तो जदयू के 35 उम्मीदवारों के अलावे बीजेपी के 29, कांग्रेस के 21, भाकपा (माले) के आठ, हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) के छह और विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) के एक प्रत्याशी चुनावी मैदान में हैं.

इसके अलावा लोजपा के भी 42 प्रत्याशियों का फैसला इस चरण के मतदान में तय होना है. बिहार में विधानसभा की 243 सीटों के लिए तीन चरणों में चुनाव होना है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.