बिहार चुनाव २०२०: तेजस्वी समेत कई दिग्गजों और बाहुबलियों क़िस्मत का फ़ैसला दूसरे चरण में

0
51

राजद के लिए बिहार विधानसभा चुनाव का दूसरा चरण बेहद महत्वपूर्ण है। इस चरण की 94 सीटों में से पिछले चुनाव में करीब एक तिहाई पर राजद(RJD) ने जीत दर्ज की थी। इसी चरण में महागठबंधन की ओर से मुख्यमंत्री पद के चेहरे तेजस्वी प्रसाद यादव, पूर्व मंत्री तेजप्रताप यादव सहित कई दिग्गजों की चुनावी किस्मत तय होनी है। वहीं कई बाहुबलियों और उनके परिवारीजनों के बल का इम्तिहान भी दूसरे चरण में होना है।

दूसरे चरण में आगामी तीन नवंबर को मतदान(voting on 3 November) होना है। इस चरण में राजद 56 सीटों पर चुनाव मैदान में है। इनमें 31 सीटिंग सीटें हैं। राजद पिछले चुनाव में 80 सीटें जीतकर सबसे बड़ा दल था। दूसरे चरण के चुनाव में पार्टी के कई प्रमुख चेहरों की प्रतिष्ठा दांव पर है। इनमें पहला नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव का है। वो राघोपुर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव मैदान में हैं। उनके बड़े भाई और पूर्व मंत्री तेजप्रताप यादव हसनपुर से लड़ रहे हैं। पार्टी के प्रधान महासचिव आलोक कुमार मेहता उजियारपुर से राजद प्रत्याशी हैं। जबकि पूर्व सांसद सह युवा राजद के अध्यक्ष शैलेश कुमार उर्फ बुलो मंडल बिहपुर सीट से मैदान में हैं।

राजद ने जिन बाहुबलियों या उनके परिवारीजनों को चुनाव मैदान में उतारा है, उनमें से अधिकांश के भाग्य का फैसला भी इसी चरण में होना है। इनमें पहला नाम रीतलाल यादव का है जो पटना की दानापुर सीट से राजद प्रत्याशी हैं। पूर्व सांसद आनंद मोहन के बेटे चेतन आनंद शिवहर सीट से चुनाव मैदान में हैं। पूर्व सांसद प्रभुनाथ सिंह के बेटे और भाई की सीटें भी दूसरे चरण में शामिल हैं। उनके बेटे रंधीर कुमार सिंह छपरा से और भाई केदारनाथ सिंह बनियापुर से लड़ रहे हैं। जबकि पूर्व सांसद रामा सिंह की पत्नी बीना सिंह वैशाली की महनार सीट से चुनावी भाग्य आजमा रही हैं।

31 सीटों पर जीता था राजद
वर्ष 2015 में राजद ने दूसरे चरण की 94 में से 31 सीटें जीती थीं। मगर इस बार परिस्थितियां बदली हुई हैं। गठबंधन के सहयोगी बदल चुके हैं। जदयू अब महागठबंधन नहीं एनडीए का हिस्सा है। वहीं वाम दल अब महागठबंधन के हमसफर हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.