ट्रेन रुकते ही महिलाओं से हाल-चाल पूछेंगी आरपीएफ अधिकारी, पटना समेत 8 स्टेशनों पर ‘मेरी सहेली’ योजना शुरू

0
43

ट्रेन में अकेले सफर करने वाली महिला पैसेंजर्स को काफी परेशानी होती है। कई बार चलती ट्रेनों में छेड़खानी की घटनाएं हो चुकी हैं। हाल में ही महानंदा एक्सप्रेस में कानपुर से चढ़ी एक लड़की के साथ एसी कोच में बदसलूकी की गई थी। इस तरह के मामलों ने रेलवे की परेशानी बढ़ा रखी थी। सवाल अकेले सफर करने वाली महिलाओं की सेफ्टी और सुरक्षा का था, इसलिए ईस्ट सेंट्रल रेलवे ने एक नई योजना शुरू की है, जिसका नाम ‘मेरी सहेली’ है। इस योजना के तहत वैसी महिला पैसेंजर जो ट्रेन में अकेले सफर कर रही हों, उनकी सुरक्षा का अब पूरा ख्याल रखा जाएगा। आरपीएफ की महिला अफसर और जवान सहेली के रूप में काम करेंगी।

आरपीएफ के पास रहेगी अकेले सफर कर रही महिलाओं की डिटेल्स

ईसीआर के सीपीआरओे राजेश कुमार के अनुसार हर ट्रेन का डाटा रेलवे के पास होता है। ट्रेन के महिला कोच या दूसरे कोच के बर्थ पर अकेले सफर करने वाली महिलाओं का डिटेल्स आरपीएफ के पास रहेगा। ट्रेन के स्टेशन पर रूकते ही आरपीएफ की महिला अफसर या जवान वहां पहुंचेंगी। महिला पैसेंजर का कुशलक्षेम पूछेंगी। अगर उन्हें कोई परेशानी होगी तो उसका समाधान करेंगी या फिर अपने सीनियर अधिकारियों को समस्या की जानकारी देंगी। महिला पैसेंजर्स की सुरक्षा का ख्याल तब तक रखा जाएगा, जब तक वो अपने डेस्टिनेशन तक पहुंच नहीं जाएंगी। जरूत पड़ने पर मदद के लिए चलती ट्रेन में आरपीएफ के हेल्पलाइन नंबर 182 पर कॉल कर समस्या के बारे में बताया भी जा सकता है। सूचना मिलने पर अगले स्टेशन पर ही मदद पहुंचाई जाएगी।

ईस्ट सेंट्रल रेलवे के 8 स्टेशनों पर शुरू हुई योजना

‘मेरी सहेली’ योजना की शुरूआत ईस्ट सेंट्रल रेलवे के तहत कुल 8 स्टेशनों पर किया गया है। जिसमें पटना जंक्शन, राजेंद्रनगर, दानापुर, पंडित दीनदयाल उपाध्याय, धनबाद, समस्तीपुर, बरौनी और मुजफ्फरपुर शामिल हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.