दरभंगा: महिला से बदसलूकी करने वाले पुलिस की गिरफ्त से दूर, विवाहिता को अगवा कर जबरन दिव्यांग से भरवाया था सिंदूर

0
43

दरभंगा जिले में घनश्यामपुर थाना क्षेत्र के आधारपुर गांव कांड के 13 आरोपित अब भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं। चार दिन गुजर जाने के बावजूद मानवता को शर्मशार करने वाली घटना के आरोपितों के फरार रहने से पीड़ितों तथा आम लोगों में आक्रोश है। लोग इस कुकृत्य में शामिल अभियुक्तों की शीघ्र गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं। दूसरी ओर विभिन्न संगठनों तथा राजनीतिक दलों की ओर से आरोपितों की शीघ्र गिरफ्तारी की मांग से पुलिस पर भारी दबाव है। 

आधारपुर गांव की घटना तथाकथित सभ्य समाज के ऊपर लगा कलंक का वो धब्बा है जिससे मानवता कलंकित हुई है। गांव के एक लड़के ने प्रेम प्रसंग में गांव की एक लड़की के साथ गांव से बाहर जाकर शादी कर ली थी। इस घटना के विरोध में लड़की के चाची ने थाने में आवेदन देकर लड़का सहित सात लोगों के विरुद्ध लड़की के अपहरण की प्राथमिकी दर्ज करवाई थी। गांव से बाहर शादी करने के बाद लड़का-लड़की की शादी की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल कर दी गयी।

दबंगों ने क्रूरता की सारी हदें पार की

इस घटना से आक्रोशित लड़की पक्ष के लोगों ने दीपावली की दोपहर लड़के के घर में घुसकर जमकर मारपीट, तोड़फोड़, लूटपाट की। इतने से मन नहीं भरा तो लड़के की मां को जबरन मारते पीटते, घसीटते हुए अपने घर ले गये। वहां दबंगों ने क्रूरता की सारी हदें पार कर दी। निरीह महिला का बाल काटकर जबरन एक दिव्यांग महादलित से मांग में सिंदूर भरवाकर शादी करवाई।

घटना के बाद हरकत में आयीपुलिस ने पीड़ित पक्ष के उमेश झा के आवेदन पर एफआईआर दर्ज कर गांव में पुलिस बल को पीड़ित परिवार की सुरक्षा के लिए तैनात किया। इस मामले में गांव के ही दिलीप कुमार झा,ललन झा,अनिल झा सहित दस पुरुष एवं पांच महिलाओं को नामजद किया गया था।

अभी तक दो आरोपित हुए गिरफ्तार

बिरौल एसडीपीओ दिलीप कुमार झा ने गांव जाकर इस कांड का पर्यवेक्षण किया तथा थानाध्यक्ष को आरोपियों की शीघ्र गिरफ्तारी का आदेश दिया। इस बीच सभी आरोपी फरार हो गये। आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस लगातार छापेमारी कर रही है। इसके बावजूद इस कांड के मात्र दो आरोपियों को दबोचने में पुलिस को सफलता मिली है जबकि तेरह आरोपी अब भी फरार हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.