गृह मंत्री शाह ने कहा- किसान अपना प्रदर्शन शिफ्ट करें, अगले ही दिन सरकार आपसे बातचीत करने को तैयार

0
169

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सोशल मीडिया पर कहा कि भारत सरकार प्रदर्शनकारी किसानों से बातचीत के लिए तैयार है। कृषि मंत्री ने 3 दिसंबर को बातचीत के लिए किसानों को आमंत्रित किया है। सरकार हर समस्या और किसानों की मांग पर बात और विचार के लिए पूरी तरह से तैयार है।

शाह ने आगे लिखा कि अगर किसान 3 दिसंबर से पहले बातचीत करना चाहते हैं तो मैं उन्हें भरोसा दिलाना चाहता हूं। आप अपने प्रदर्शन को तय स्थान पर शिफ्ट करें और अगले ही दिन सरकार आपकी हर समस्या का समाधान करने के लिए बातचीत करेगी। बता दें कि कृषि बिलों को लेकर पंजाब और हरियाणा के किसान दिल्ली के बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे हैं।

अमरिंदर बोले- खट्टर झूठे; अब 10 कॉल करें तो भी बात नहीं करूंगा

पंजाब के CM कैप्टन अमरिंदर सिंह ने हरियाणा के CM मनोहर लाल खट्टर पर झूठ बोलने का आरोप लगाया है। खट्टर ने कहा था कि उन्होंने पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह से चर्चा करने के लिए उन्हें फोन लगाया था। लेकिन, कोई जवाब नहीं मिला।

अब अमरिंदर ने कहा है कि खट्टर झूठ बोल रहे हैं कि उन्होंने कॉल किया और मैंने जवाब नहीं दिया। उन्होंने हमारे किसानों के साथ ठीक नहीं किया। अब अगर वे 10 बार भी कॉल करेंगे, तो मैं उनसे बात नहीं करूंगा।

खट्टर बोले- आंदोलन में खालिस्तानी शामिल

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर ने शनिवार को किसान आंदोलन में खालिस्तान समर्थकों की मौजूदगी का दावा भी किया था। खट्टर ने कहा- भीड़ में उपद्रवियों के शामिल होने का इनपुट मिला है। वीडियो में वे लोग नारा लगा रहे थे- जब इंदिरा गांधी को ये कर सकते हैं, तो मोदी को क्यों नहीं कर सकते। हमारे पास पूरी रिपोर्ट है। जैसे ही जानकारी पुख्ता होगी, हम इसका खुलासा करेंगे।

केंद्र ने किसानों को बातचीत के लिए बुलाया

इससे पहले, शनिवार दोपहर केंद्र सरकार ने किसानों से बातचीत की पेशकश की। केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि हमने किसान यूनियनों को 3 दिसंबर को मिलने का न्योता भेजा है। उम्मीद है कि वे 3 मिलने आएंगे।

दिल्ली की चौखट पर जमे हैं किसान

आंदोलन कर रहे किसान आज भी दिल्ली बॉर्डर (सिंघु और टीकरी) पर डटे हैं। सिंघु पर शुक्रवार को हुए संघर्ष के बाद के किसानों को दिल्ली में एंट्री की इजाजत सरकार ने दे दी। दिल्ली सरकार ने कहा कि किसान बुराड़ी के निरंकारी ग्राउंड पर प्रदर्शन कर सकते हैं, लेकिन किसानों ने दिल्ली में एंट्री से इनकार कर दिया। उनका कहना है कि दिल्ली को घेरने आए हैं, न कि दिल्ली में घिर जाने के लिए।

शुक्रवार रात हजारों किसान सिंघु बॉर्डर पर ही रहे। उनका कहना है कि हम हाईवे पर ही प्रदर्शन करेंगे। एक किसान ने कहा कि हमारे पास 6 महीने का राशन है। किसानों के खिलाफ बने काले कृषि कानूनों से मुक्ति के बाद ही वापस जाएंगे।

यूपी से भी किसान जत्था रवाना
उत्तर प्रदेश के मेरठ में भारतीय किसान यूनियन (BKU) के कार्यकर्ताओं के साथ टोल प्लाजा पर जमे किसान शनिवार 11:30 बजे दिल्ली रवाना हो गए। BKU के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि यह विचारों की लड़ाई है। जब एक-दूसरे के विचार एक से होंगे, लड़ाई खुद खत्म हो जाएगी। इस बार वार्ता नहीं समस्या का समाधान चाहिए। BKU कार्यकर्ता शुक्रवार दोपहर से मोदीपुरम स्थित टोल प्लाजा पर धरने पर बैठे थे। दिल्ली जाने के दौरान इन्हें यहां रोक लिया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.