पटना: World AIDS Day के मौक़े पर स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे ने किया 7 नए केंद्रों का शुभारंभ

0
85

एचआईवी संक्रमितों को अब दवा के लिए लंबी दूरी नहीं करनी पड़ेगी। एआरटी सेंटरों की संख्या बढ़ाकर उन्हें राहत दी जा रही है। मंगलवार को 7 नए सेंटरों का शुभारंभ होने के बाद अब कुल संख्या 27 हो गई। संक्रमितों को चिन्हित करने को लेकर भी बिहार सरकार बड़ी योजना पर काम कर रही है। इसके लिए जांच सेंटर बढ़ाए जाने का निर्देश दिया गया है। 

विश्व एडस दिवस पर बड़ी तैयारी 
मंगलवार को बिहार राज्य एड्स नियंत्रण समिति तथा यूनिसेफ बिहार के संयुक्त तत्वावधान में विश्व एड्स दिवस मनाया गया। कार्यक्रम में स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने बिहार शताब्दी एड्स पीड़ित कल्याण योजना के अंतर्गत लाभुकों को राशी प्रदान की गई। इस दौरान स्वास्थ्य समिति द्वारा संचालित “युवा संचार 2020” राज्य स्तरीय प्रश्नोतरी प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरस्कृत किया गया। 

7 नए एआरटी सेंटर 
मंगलवार को नालंदा, कैमूर, सुपौल, जमुई, मुंगेर, पूर्णिया और सिवान में नए एआरटी सेंटर खोले गए हैं। स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने कहा एचआईवी की जांच सभी सरकारी अस्पतालों में निशुल्क उपलब्ध है एवं इसके लिए जांच केन्द्रों की संख्या बढ़ाने पर काम किया जा रहा है। 

2030 के लिए बड़े टॉस्क पर काम 
राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार का कहना है कि एड्स नियंत्रण के लिए अनेक कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। 2030 तक राज्य से एड्स का उन्मूलन के लिए राज्य सरकार संकल्पित है। युवाओं की भागीदारी के लिए विभिन्न कालेजों में “सेहत सेंटर” खोलने की योजना है जहां स्वास्थ्य सम्बन्धी तथा एड्स को लेकर खुलकर चर्चा की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.