भारत के टॉप 10 पुलिस स्टेशन की लिस्ट आई सामने, बिहार और महाराष्ट्र के एक भी नहीं इस लिस्ट में

0
49

देशभर में सबसे बेस्ट पुलिस स्टेशन कौन से हैं, इसकी एक लिस्ट गुरुवार सुबह सरकार द्वारा जारी कर दी गई है। इसमें टॉप 10 पुलिस स्टेशन शामिल हैं। गौर करने वाली बात ये है कि इसमें राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली का एक भी पुलिस थाना शामिल नहीं है। वहीं मणिपुर का थोबुल  जिले का नोंगपोकसेकमई इस थाना नंबर वन पर मौजूद है। दूसरे नंबर पर तमिलनाडु तथा तीसरे नंबर पर अरुणाचल प्रदेश शामिल है। मणिपुर के विधायक थोकचोम राधेश्याम ने इस सूची में थौबल थाने के पहले स्थान हासिल करने पर कहा, ‘एक पूर्व पुलिस कर्मचारी के रूप में, मैं थोंगबल जिले के नोंगपोक सेमकई पुलिस स्टेशन की पूरी टीम को बधाई देता हूं, जिसे भारत सरकार के गृह मंत्रालय द्वारा देश का सर्वश्रेष्ठ पुलिस स्टेशन घोषित किया गया है।’

रैंकराज्यजिलापुलिस स्टेशन
1मणिपुरथौबलनोंगपोक सेमकई
2तमिलनाडुसालेम सिटीएडब्ल्यूपीएस सुरमंगलम
3अरुणाचल प्रदेशचांगलांगखरसांग
4छत्तीसगढ़सुरजापुरझिलमिल (भैया थाना)
5गोवादक्षिण गोवासंगुएम
6अंडमान और निकोबार द्वीप समूहउत्तर और मध्य अंडमानकालिघाट
7सिक्किमपूर्वी जिलापॉकयोंग
8उत्तर प्रदेशमुरादाबादकांठ
9दादरा और नागर हवेलीदादरा और नागर हवेलीखानवेल
10तेलंगानाकरीमनगरजम्मीकुंटा टाउन पीएस

दरअसल प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने 2015 में गुजरात के कच्‍छ में डीजीपी सम्‍मेलन को सम्‍बोधित करते हुए निर्देश दिया था कि थानों की ग्रेडिंग के लिए प्राप्‍त जानकारी के आधार पर उनके कार्य प्रदर्शन के मूल्‍यांकन के लिए मानक निर्धारित किए जाने चाहिए। उद्देश्‍य डाटा विश्‍लेषण, सीधी परख और लोगों से मिली जानकारी के माध्‍यम से 16,671 थानों में से 10 शीर्ष पुलिस थानों की रैंकिंग करना था। रैंकिंग प्रक्रिया प्रत्‍येक राज्‍य में श्रेष्‍ठ कार्य प्रदर्शन करने वाले थानों की संक्षिप्‍त सूची तैयार करने से हुई। ये सूची थानों द्वारा निम्‍नलिखित अपराधों के समाधान के आधार पर बनाई गई:  

  1. सम्‍पत्ति अपराध
  2. महिलाओं के विरूद्ध अपराध
  3. कमजोर वर्गों के विरूद्ध अपराध

प्रारंभ में प्रत्‍येक राज्‍य से चयनित थानों की संख्‍या इस प्रकार रही:

  1. 750 थानों में से प्रत्‍येक राज्‍य से तीन थाने
  2. अन्‍य राज्‍यों तथा दिल्‍ली से दो थाने
  3. प्रत्‍येक केन्‍द्रशासित प्रदेश से एक थाना

रैंकिंग प्रक्रिया के अगले चरण के लिए 75 थानों को चुना गया।

यह रैंकिंग पुलिस के कामकाज की जानकारी देती है और आंतरिक सुरक्षा के व्‍यापक संदर्भ में सार्वजनिक नीति बनाने में मूल्‍यवान इनपुट प्रदान करती है। इस वर्ष के सर्वेक्षण में सभी राज्‍यों ने उत्‍साहपूर्वक भाग लिया। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.