MDH मसाले के मालिक महाशय धर्मपाल गुलाटी का 98 साल की उम्र में हार्ट अटैक से निधन

0
32

MDH मसाले के मालिक महाशय धर्मपाल का 98 साल की उम्र में निधन हो गया। बताया जा रहा है कि आज सुबह 5.30 बजे हार्ट अटैक आने से उनका निधन हुआ। दिल्ली में पिछले 3 हफ्ते से उनका इलाज चल रहा था।

विभाजन के समय पाकिस्तान से आए थे
धर्मपाल गुलाटी का जन्म 27 मार्च 1923 में पाकिस्तान के सियालकोट में हुआ था। उनका परिवार 1947 में विभाजन के समय पाकिस्तान से अमृतसर और फिर दिल्ली आ गया था। धर्मपाल के पिता महाशय चुन्नी लाल गुलाटी ने MDH (महाशय दी हट्टी) की शुरुआत की थी। धर्मपाल ने कारोबार को आगे बढ़ाया और MDH को मशहूर ब्रांड बनाया। कंपनी के विज्ञापनों में भी वे खुद ही नजर आते थे। उद्योग जगत में योगदान के लिए महाशय धर्मपाल को पिछले साल पद्मविभूषण से सम्मानित किया गया था। देश के विभाजन के बाद गुलाटी भारत आए और उन्होंने 1959 में दिल्ली में मसाले का अपना कारोबार शुरू किया।

पाकिस्तान में जन्मे महाशय धर्मपाल गुलाटी का सफर प्रेरणा से भरपूर

उन्होंने 5वीं कक्षा की पढ़ाई पूरी करने से पहले ही स्कूल छोड़ दिया था। 1937 में उन्होंने अपने पिता की मदद से व्यापार की शुरुआत की और साबुन, बढ़ई, कपड़ा, हार्डवेयर, चावल का व्यापार किया. उन्होंने अपने पिता की ‘महेशियां दी हट्टी’ के नाम की दुकान पर काम करना शुरू किया। भारत-पाकिस्तान विभाजन के बाद वे दिल्ली आ गए. बताया जाता है कि 27 सितंबर 1947 को उनके पास केवल 1500 रुपये थे।

महाशय गुलाटी ने पैसों के लिए कभी तांगा भी चलाया

महाशय धर्मपाल गुलाटी कभी पैसों के लिए तांगा भी चलाया। उन्होंने 650 रुपये में एक तांगा खरीदा और नयी दिल्ली रेलवे स्टेशन से कुतुब रोड के बीच चलाया। कुछ दिनों बाद उन्होंने तांगा भाई को दे दिया और करोलबाग की अजमल खां रोड पर एक छोटी सी दुकान लगाकर मसाले बेचना शुरू किया। मसाले का कारोबार चल निकला और फिर वहीं से एमडीएच ब्रांड की नींव पड़ गई।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शोक जताया

केजरीवाल ने कहा- धर्मपाल जी का जीवन समाज सेवा में गुजरा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.