उत्तर बिहार में उद्योग के लिए बियडा करेगा 15 के बाद जमीन आवंटन, 130 निवेशक कर चुके हैं ऑनलाइन आवेदन

0
31

बिहार औद्योगिक क्षेत्र विकास प्राधिकार (बियाडा) के क्षेत्रीय कार्यालय के अधीन 1200 एकड़ जमीन पर 100 छोटे-बड़े उद्योग लगेंगे। खाली जमीन के आवंटन को 3 माह में 130 निवेशकों ने ऑनलाइन आवेदन दिए हैं। गुरुवार को पटना में प्रोजेक्ट क्लीयरेंस कमेटी (पीसीसी) की बैठक में आवेदनों की स्क्रूटनी हुई। 15 दिसंबर बाद बैठक में प्रस्तावों पर विचार कर भूमि आवंटन प्रक्रिया शुरू हाेगी।
विधानसभा चुनाव में नौकरी-रोजगार बड़ा मुद्दा था। बियाडा के डीओ अजय सिन्हा के अनुसार सरकार ने उद्योगों का विस्तार कर रोजगार को बढ़ावा देने पर काम शुरू कर दिया है। पीसीसी की बैठक के बाद उपयुक्त प्रोजेक्ट काे जमीन आवंटित होगी। उल्लेखनीय है कि बियाडा के मुजफ्फरपुर क्षेत्रीय कार्यालय में कार्यकारी निदेशक संतोष कुमार सिन्हा के नेतृत्व में एक इन्वेस्टमेंट सेल बना है। यह सेल आवेदनों की स्क्रूटनी कर पीसीसी में रखेगा।
वर्तमान स्थिति

  • 373 एकड़ जमीन पर वर्तमान में चल रहे 291 उद्योग
  • 80 एकड़ भूमि खाली है बेला इंडस्ट्रियल एरिया मुजफ्फरपुर में
  • इन जगहों पर खुलेंगे उद्योग: मुजफ्फरपुर जिले के मोतीपुर प्रखंड, पूर्वी चंपारण के सुगौली, वैशाली के गोरौल और सिवान।

बियाडा ने जमीन के म्यूटेशन के लिए जिला प्रशासन से साधा संपर्क

बियाडा ने चीनी मिल से प्राप्त जमीन अपने नाम कराने की तैयारी शुरू कर दी है। मुजफ्फरपुर, सुगौली, गोरौल और सिवान में जमीन मिली है। नई सरकार गठन के बाद बियाडा ने म्यूटेशन के लिए जिला प्रशासन से संपर्क साधा है। दाखिल-खारिज होते ही इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलप करने का काम शुरू होगा।

जमीन की कमी से 5 साल तक सुस्त रही उद्योग लगने की गति

उद्यमियों की मानें तो जमीन की कमी व नई उद्योग नीति 5 साल में उद्योग नहीं लगने के दाे बड़े कारण रहे। 3-4 वर्षों में बमुश्किल डेढ़ दर्जन उद्योग लगे, तो कई इकाइयां बंद हो गईं। बियाडा अधिकारियों के अनुसार 2016 की नीति में बदलाव से भूमि आवंटन हाेने या आवंटन कैंसल होने पर उद्यमी एक बार जमीन दूसरे को भी दे सकते हैं। उन्हें विपरीत परिस्थिति में बाहर निकलने का विकल्प मिल गया है।

बियाडा के डीओ अजय सिन्हा ने बताया कि विभाग के निर्देश पर उद्योगों को विस्तार देने की दिशा में काम शुरू हो गया है। पीसीसी की बैठक में प्राप्त आवेदनों की स्क्रूटनी की गई है। अच्छे प्रोजेक्ट पर विचार के बाद एमडी के दिशा निर्देश पर जल्द ही जमीन आवंटित होगा। कई बड़े उद्योग के लिए भी निवेश का प्रस्ताव आया है। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.