सरकार ने जारी किया अलर्ट! कहा-इन 6 वेबसाइट से रहें सावधान, हो सकता है लाखों का नुकसान

0
56

देशभर में बढ़ रहे ऑनलाइन फ्रॉड को देखते हुए सरकार ने फर्जी वेबसाइट की लिस्ट जारी की है…अगर आप भी इन वेबसाइट का इस्तेमाल कर रहे हैं तो सावधान हो जाएं. नहीं तो आपका पूरा खाता और सभी पर्सनल जानकारी चोरी हो सकती हैं. एक ओर ऑनलाइन नेटवर्क ने जहां लोगों के काम को आसान बना दिया है…वहीं, साइबर क्राइम के मामले हर दिन बढ़ रहे हैं. बता दें PIB और सरकारी बैंक की ओर से समय-समय पर अलर्ट भी जारी किए जाते रहते हैं-

PIB ने जारी की 6 वेबसाइट की लिस्ट
पीआईबी की ओर से इस बार 6 वेबसाइट की लिस्ट जारी की गई है, जिससे सभी यूजर्स को दूर रहने की सलाह दी गई है. अगर आप इन वेबसाइट के लिंक को टच करते हैं या फिर इन पर विजिट करते हैं तो आपकी जीवन भर की कमाई गायब हो सकती है.

आपको बता दें इनमें फ्री स्कॉलरशिप से लेकर फ्री लैपटॉप तक देने के दावे करने वाली साइट्स शामिल हैं. यूजर्स इन सभी से सावधान रहें-

>> http://centralexcisegov.in/aboutus.php
>> https://register-for-your-free-scholarship.blogspot.com/
>> https://kusmyojna.in/landing/
>> https://www.kvms.org.in/
>> https://www.sajks.com/about-us.php
>> https://register-form-free-tablet.blogspot.com/

क्या करता है PIB?
आपको बता दें पीआईबी भ्रामक खबरों के खिलाफ एक्शन लेता है और आम जनता को सतर्क करता है. इसके अलावा सोशल मीडिया पर वायरल होने वाले मैसेज की भी सच्चाई की जांच करता है.

कोरोना काल में बढ़ रहीं फेक खबरें
कोरोना काल में देशभर में जिस तरह का हालात बने हुए हैं ऐसे में कई फेक खबरें तेजी से वायरल हो रही हैं. भारत सरकार की प्रेस इंफॉर्मेशन ब्यूरो ने वायरल खबर का खंडन करते हुए कहा है कि सरकार ने ऐसा कोई फैसला नहीं लिया है. सरकार ने भी कोरोना काल में इस तरह की फर्जी ख़बरों को फैलने से रोकने के लिए कई प्रयास किए हैं.

आपको भी मिले कोई मैसेज तो करवा सकते हैं फैक्ट चेक
अगर आपको भी कोई ऐसा मैसेज मिलता है तो फिर उसको पीआईबी के पास फैक्ट चेक के लिए https://factcheck.pib.gov.in/ अथवा वॉट्सऐप नंबर +918799711259 या ईमेलः pibfactcheck@gmail.com पर भेज सकते हैं. यह जानकारी पीआईबी की वेबसाइट https://pib.gov.in पर भी उपलब्ध है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.