एटीएस, आईबी, क्राइम ब्रांच की टीम ने शुक्रवार को जेल में बंद पांचों अफागानियों को 48 घंटे के रिमांड पर लिया है। हालांकि अब तक पूछताछ में मिली जानकारी को गोपनीय रखा गया है। पांच घंटे से अधिक देर तक जांच एजेंसिंयों ने पूछताछ की है।

पूर्णिया केन्द्रीय कारा से रिमांड पर मिलने के बाद सभी पांचों को सुरक्षा व्यवस्था के बीच नगर थाना लाया गया। टीम में शामिल पुलिस पदाधिकारियों ने एक बजे दिन में पूछताछ शुरू की। शाम तक मात्र दो विदेशी नागरिकों से पूछताछ कर पाई थी। सूत्रों के मुताबिक टीम के द्वारा किये गये सवालों में अफगानिस्तान से कब आये, किसके कहने पर भारत आये जैसे सवाल पूछे गये। भारत में आने के बाद किस-किस और कहां के व्यक्ति से संपर्क किया गया। उससे संपर्क करने के बाद भारत के किस-किस राज्य में कब-कब ठहरने का काम किया गया है। ठहरने के समय में जीवन-यापन का माध्यम क्या रहा। अफगानिस्तान में हुए बम बलास्ट में किस प्रकार से हाथ रहा। कटिहार में कब और किस लिए आये। यहां आने के बाद मोनाजिर से संपर्क किसने कराया। मनी लाउं के कारोबार में पैसा लगाने के लिए रुपये कहां से और किसके माध्यम से आ रहा था। करोड़ों रुपये का मनी लांड्रिंग का कारोबार से किस-किस जिले के कौन-कौन लोग जुड़े हैं। हिन्दी और अंग्रेजी भाषा बोलने व लिखने का ज्ञान कैसे मिला। इन भाषाओं का ज्ञान रहने के बाद अफगानिस्तान में बोले जाने वाले भाषा में डायरी भारत में रहने वाले लोगों का नाम क्यों लिखा गया है। नेपाल, पाकिस्तान, अफगानिस्तान, नेपाल, सउदी अरब कब और क्यों गये तथा किन लोगों से संपर्क गये। तीन ही अफगानियों का वीजा और पासपोर्ट बना था तो उनके साथ रह रहे तीन और अफगानिस्तान के नागरीक बिना वीजा और पासपोर्ट के भारत कैसे आ गये। छह अफगानियों को रहने के लिए तीन कमरा काफी था तो ऐसे में चार कमरा भाड़ा पर क्यों लिया गया आदि कई बिन्दुओं पर जांच की गयी। कमरों के अंदर अलमीरा और अटैची के अंदर फारसी, पोस्तो, अंग्रेजी, हिंदी, उर्दू व अन्य विदेशी भाषा में लिखा हुआ साहित्य और कई प्रकार के विदेशी दस्तावेज किस मकसद से रखे हुए थे आदि प्रश्नों की सूची तैयार की गई। जिसके आधार पर अफगानी नागरिकों से पूछताछ की जा रही रही है।

इन लोगों का पाकिस्तान, सउदी अरब, नेपाल कनेक्शन किस प्रकार का है। वे लोग बिना वीजा पासपोर्ट के दुसरे देश का यात्रा किसके इसारे पर और किस प्रकार करते थे। आधार कार्ड, जन्म प्रमाण पत्र, गैस एजेंसी, आवासीय प्रमाण पत्र आदि कहां और किसके कहने पर बनवाए थे आदि की भी पूछताछ की जा रही है। एसपी विकास कुमार ने बताया कि 14 दिसंबर की देर शाम को नगर थाना क्षेत्र के चौधरी मोहल्ला से अफगानिस्तान देश के शरान प्रांत के पकटीका निवासी मो. दाउद उर्फ शेरगुल, कमरान उर्फ राजा खां, फजल अहमद उर्फ समुत खान, मो. राजा खान उर्फ कमरान, गुलाम मोहम्मद को गिरफ्तार कर 16 दिसबंर को न्यायिक हिरासत में भेजा गया था। उन्होंने बताया कि न्यायिक हिरासत में भेजे गये सभी पांच अफगानियों को लोगों को 48 घंटे के रिमांड पर लेकर पूछताछ की जा रही है। पूछताछ के पहले चरण में मनी लांड्रिंग के धंधा करने की बात सामने आई है। जांच पूरी होने के बाद ही इस मामले में कुछ भी कहा जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.