सीएम नीतीश कुमार जेडीयू ऑफिस पहुंच गए हैं. गेट पर कार्यालय ने स्वागत किया है. इसके साथ ही जनता दल यूनाइटेड की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक शुरू हो गई है. यह बैठक कार्यालय के कर्पूरी सभागार में राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार के नेतृत्व में हो रही है.   इसके बाद आज ही दोपहर बाद राष्ट्रीय परिषद की भी बैठक होगी. राष्ट्रीय कार्यकारिणी में कई प्रस्ताव स्वीकृत किए जाएंगे.

बैठक में शामिल होने जा रहे जेडीयू नेता संजय झा ने कहा कि आज की बैठक में हर मुद्दे पर चर्चा होगी. अरुणाचल के मुद्दे पर भी बात होगी, लेकिन अरूणाचल प्रदेश का असर बिहार में देखने को नहीं मिलेगा. पूर्व मंत्री संजय झा ने कहा कि अरुणाचल में हमारे विधायक समर्थन दे रहे थे, इसके बाद भी क्यों तोड़ा, ये मंथन का विषय. विरोधी निशाना साध रहे, इसके अलावा उनके पास क्या काम? वो सिर्फ सपना देखते रहें, सरकार पांच साल तक चलेगी. इस पांच साल में किसी के लिए कोई संभावना नहीं है. वहीं,पूर्व केंद्रीय मंत्री अली अशरफ फातमी ने कहा कि अरुणाचल प्रदेश में जो राजनीतिक घटना घटी वह चिंता का विषय है. वहीं, जेडीयू के वरिष्ठ नेता श्रवण कुमार ने कहा कि कभी खुशी, कभी गम का दौर आता रहता है. जदयू पहले से इसका सामना करती रही है. हर स्थिति से हमारा दल निपट लेगा.

राष्ट्रीय कार्यकारिणी में कुल 60 सदस्य शामिल है और यह सभी बैठक में मौजूद रहेंगे. इसके अलावा राष्ट्रीय परिषद की बैठक में ढाई सौ सदस्यों की मौजूदगी होगी. शनिवार की देर शाम उत्तर प्रदेश को लेकर कार्यालय में पार्टी के राष्ट्रीय पदाधिकारियों की बैठक चलती रही. इस बैठक में आज होने वाली कार्यकारिणी की बैठक का एजेंडा तय किया गया. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार समेत तमाम राष्ट्रीय पदाधिकारी बैठक में शामिल रहे. बैठक के बाद जेडीयू नेता केसी त्यागी ने कहा कि हम जनता दल यूनाइटेड को मजबूत और विस्तारित बनाने के लिए कई एजेंडों पर चर्चा करने वाले हैं.

14 माह के बाद बैठक

यह बैठक 14 माह के बाद हो रही है. इस में जेडीयू के राष्ट्रीय पदाधिकारियों, राष्ट्रीय कार्यकारिणी और राष्ट्रीय परिषद की बैठक हो रही है. पिछले साल नीतीश कुमार के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने  बाद अक्टूबर 2019 में राष्ट्रीय कार्यकारिणी और परिषद की बैठक दिल्ली में हुई थी. लेकिन इस बार बैठक पटना में चल रही है.

बैठक में आने वाले समय में पार्टी मजबूती कैसे हो उस पर भी चर्चा होगी. देश और बिहार में वर्तमान राजनीति समीकरण क्या है उस पर भी चर्चा होगी. वहीं पार्टी में बड़े फेरबदल को लेकर होगा मंथन होने की पूरी संभावना है. संगठन को आगे बढ़ाने के लिए युवा चेहरों को मौका देने की मांग भी पार्टी के अंदर लगातार उठती रही है.

केसी त्यागी के बयान पर सियासी बवाल

शनिवार को जदयू राष्ट्रीय परिषद की बैठक हुई थी। बैठक के बाद केसी त्यागी ने कहा था कि बीजेपी ने हमारे विधायकों को तोड़कर अच्छा नहीं किया. मीटिंग में बी इस पर चर्चा हुई . त्यागी ने कहा था कि अरुणाचल में भाजपा ने जो किया वो अमित्रतापूर्ण व्यवहार है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.