पटना: मंदिरों में उमड़ी भीड़, भगवान के दर्शन-पूजन से हुई नए साल की शुरुआत

0
54

2021 का इससे अच्छा स्वागत और क्या हो सकता है जब गुनगुनी धूप खुद बाहें फैलाए सबको हैप्पी न्यू इयर कह रही हो। नई उम्मीदों के साथ नया साल आ चुका है और लोग सेलिब्रेट करने में जुटे हैं। सुबह से ही राज्य के विभिन्न इलाकों के छोटे-बड़े मंदिरों में भीड़ उमड़ी। लंबी लाइन में लगकर श्रद्धालु पूजा के लिए मंदिर पहुंचे। वहां मंदिर के बाहर मेले जैसा नजारा है। खुशबूदार फूल की माला के साथ बुके की खरीदारी हो रही है। वहीं, पार्क के बाहर भी रंग-बिरंगे गुब्बारे, चाट-गोलगप्पे के ठेले लग गए हैं। लोग 1 जनवरी मनाने आ चुके हैं।

पूजा के साथ साल का स्वागत

जैसे ही घड़ी ने 6 बजाए शहर के मंदिरों में भीड़ लगने लगी। नई उम्मीदों के साथ नए साल का स्वागत करने लोग सबसे पहले मंदिर पहुंचे। 2020 को भूलकर 2021 के जोरदार स्वागत का इससे बेहतरीन तरीका और हो भी नहीं सकता है। राज्य भर में अलग-अलग शहरों के छोटे-बड़े मंदिरों में भीड़ उमड़ी। सुबह से ही लोग लाइन में लग गए। फूल-माला और प्रसाद खरीदने के लिए लंबी कतार लगी। इस बीच रं​ग-बिरंगे गुब्बारे और बुके भी लोगों ने खरीदे।

महावीर मंदिर में भक्तों की लंबी लाइन

पटना के महावीर मंदिर में सुबह से ही श्रद्धालुओं की भीड़ लगी। मंदिर से लेकर जीपीओ गोलंबर तक यहां भीड़ लगी हुई है। लंबी लाइन लगाकर भक्त हनुमान जी के दर्शन के लिए लंबी लाइन में लगे हैं। इस मंदिर को मनोकामना मंदिर माना जाता है इसलिए यहां दूर-दूर से लोग पूजा करने पहुंचते हैं। साल की शुरुआत पर लोग यहां आ रहे हैं। मंदिर में रामभक्त हनुमान की युग्म प्रतिमाएं एक साथ हैं। पहली प्रतिमा ‘परित्राणाय साधूनाम’ यानि अच्छे लोगों की सुरक्षा के लिए और दूसरी ‘विनाशाय च दुष्कृताम’ जिसका अर्थ है- दुष्ट लोगों की बुराई दूर करने के लिए। उत्तर भारत के प्रमुख मंदिरों में से एक है।

पटना जंक्शन पर भीड़ का कुछ ऐसा आलम दिखा।
पटना जंक्शन स्थित हनुमान मंदिर पर भीड़

बड़ी पटनदेवी में मनोकामनाएं होती हैं पूरी

पटना सिटी स्थित बड़ी पटनदेवी को सिद्ध शक्तिपीठ माना जाता है। नए साल पर हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं की भीड़ जुटी। मान्यता यह है कि इस मंदिर में लोगों की मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती हैं। देवी भागवत के अनुसार यहां सती की दाहिनी जांघ यहां गिरी थी इसलिए शक्ति उपासना के लिए यहां दूर-दूर से लोग आए।नए साल की शुरुआत भगवान के दर्शन से करने के दौरान सुबह से ही मंदिरों में भीड़ उमड़ी। लोगों की भीड़ देखकर लगा ही नहीं कि लोग कोरोना को लेकर सतर्क हैं। बिना मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग के नजर आ रहे लोग संक्रमण के खतरे से अंजान दिखे।

नए साल में हर साल मंदिरों में भीड़ उमड़ती है। कोरोना को लेकर भीड़ पर अभी पाबंदी है, लेकिन न तो इसको लेकर प्रशासन ने किसी तरह की गंभीरता दिखाई है, न मंदिर प्रशासन ने और ना ही आमलोग। ऐसे में कोरोना संक्रमण के बड़े खतरे से इनकार नहीं किया जा सकता।

प्रसाद के साथ मास्क भी है जरूरी

कोरोनाकाल में संक्रमण से बचने के लिए दुकानों में मास्क भी सजे हैं।यहां लोग बिना मास्क, बिना दूरी के लंबी लाइन में लगे हैं लेकिन याद दिला दें कि आप सुरक्षित तो परिवार भी सुरक्षित। इसलिए पूजा से पहले एहतियात बरतने के लिए प्रसाद के साथ मास्क भी जरूर खरीदें।

गया के विष्णुपद मंदिर में पूजा-अर्चना के लिए भीड़

गया के विष्णुपद मंदिर परिसर में सुबह से ही श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी। लोगों ने नए वर्ष की शुरुआत अपने इष्ट देव के दर्शन और पूजन से की। श्रद्धालुओं ने कामना की कि उनके परिवार, देश और विश्व में शांति बरकरार रहे। नया साल कोरोना के कहर से बचाए।

भागलपुर में बूढ़ानाथ मंदिर गुलजार

भागलपुर में सुबह से श्रद्धालु मंदिरों में पहुंचे। बूढ़ानाथ मंदिर के बाहर हजारों श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी। यहां आ रहे श्रद्धालु दास ड्रिफ वुड म्युजियम और पार्क में भी घूमने जा रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.