आरा: किला मैदान में पप्पू यादव की सभा पर एसडीएम ने लगायी रोक

0
80

भोजपुर के जगदीशपुर स्थित वीर कुंवर सिंह किला मैदान में आगामी पांच जनवरी को जन अधिकार पार्टी के सुप्रीमो पप्पू यादव की आयोजित सभा पर एसडीएम ने रोक लगा दी है। एसडीएम का आदेश है कि किले में सभा नहीं हो सकती है। 

एसडीएम ने इसके लिए मजिस्ट्रेट बहाल कर थानाध्यक्ष, बीडीओ व सीओ को निर्देश दे डीएसपी, एसपी व डीएम को इसकी कॉपी भेज दी है। अपने आदेश में जन अधिकार पार्टी के जिलाध्यक्ष ब्रजेश कुमार सिंह को एसडीएम ने लिखा है कि किला मैदान में सभा करने की अनुमति नहीं दी जा सकती है। क्षेत्र भ्रमण के दौरान देखने को मिला है कि किला मैदान में सभा करने के लिए जन अधिकार पार्टी की ओर से सभी चौक-चौराहों पर पोस्टर लगाये गये हैं, जबकि सभा करने की अनुमति उन्हें नहीं दी गई। 

बता दें कि पप्पू यादव जगदीशपुर से ही किसान मजदूर रोजगार यात्रा का शुभारम्भ करने वाले हैं। इसी मौके पर सभा भी की जानी है। एसडीएम ने जगदीशपुर थानाध्यक्ष को निर्देश दिया है कि मैदान के इर्द-गिर्द विधि व्यवस्था की स्थिति उत्पन्न नहीं हो, इसका परीक्षण खुद उपस्थित रहकर करेंगे। अगर किसी तरह का व्यवधान उत्पन्न किया जाता है तो कानूनी कार्रवाई करना सुनिश्चित करेंगे।

एसडीएम ने थानाध्यक्ष के अलावा बीडीओ व सीओ को निर्देश दे डीएसपी, एसपी और डीएम को सूचनार्थ एवं आवश्यक कार्रवाई के लिए पत्र भेज दिया है। एसडीएम का कहना है कि बाबू वीर कुंवर सिंह किला संग्रहालय में वीर सपूतों को यादगार के निर्मित स्थल एवं धरोहर संग्रहालय किला मैदान में स्थित है। किले को असामाजिक तत्वों द्वारा क्षति पहुंचायी गयी है जिसकी मरम्मत का कार्य चल रहा है। बाबू वीर कुंवर सिंह का किला मैदान पुरातत्व विभाग के अधीन है। इसलिए मैदान में किसी तरह की सभा करने की अनुमति नहीं दी जा सकती है। 

जन अधिकार पार्टी के जिलाध्यक्ष द्वारा सभा की अनुमति के लिए आवेदन 28 दिसंबर को दिया गया था। एक सवाल के जबाब में एसडीएम ने कहा कि किला के अलावा अन्य दूसरी जगह सभा हो सकती है। ऐसे में अब देखना यह है कि पप्पू यादव की सभा कहां हो पाती है। दूसरी ओर इस बाबत जगदीशपुर के पूर्व विधायक भाई दिनेश ने कहा कि विधानसभा चुनाव के पहले सांसद व केंद्रीय मंत्री आरके सिंह की वर्चुअल रैली कैसे हुई थी? जब मैदान पुरातत्व विभाग का है तो एसडीएम रोक क्यों लगा रही हैं ? हमारी सभा हर हाल में किले के अंदर होगी नहीं तो किले के गेट पर होगी परंतु किसानों की सभा होकर रहेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.