भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले जा रहे ब्रिस्बेन टेस्ट में पहले दिन दोनों टीम के बीच बराबरी का खेल रहा। टॉस जीतकर पहले बैटिंग करने उतरी मेजबान टीम खेल खत्म होने तक 3.15 के रनरेट से 5 विकेट गंवाकर 274 रन ही बना सकी। फिलहाल, कप्तान टिम पेन (38) और कैमरून ग्रीन (28) नाबाद हैं।

ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज मार्नस लाबुशेन ने टेस्ट करियर का अपना 5वां शतक जड़ा। उन्होंने 204 बॉल पर 108 रन की पारी खेली। वहीं, डेब्यू मैच खेल रहे तेज गेंदबाज टी नटराजन ने 2 और स्पिनर वॉशिंगटन सुंदर ने एक विकेट लिया। इनके अलावा मोहम्मद सिराज और शार्दूल ठाकुर को भी 1-1 विकेट मिला।

वॉर्नर पहले ही ओवर में आउट
ऑस्ट्रेलिया की शुरुआत अच्छी नहीं रही। मैच के पहले ही ओवर में मोहम्मद सिराज ने पहला झटका दिया। ओपनर डेविड वॉर्नर एक रन बनाकर स्लिप में रोहित शर्मा के हाथों कैच आउट हुए। दूसरा झटका शार्दूल ठाकुर ने अपने पहले और मैच के 9वें ओवर में दिया। उन्होंने ओपनर मार्कस हैरिस (5) को वॉशिंगटन सुंदर के हाथों कैच आउट कराया। ऑस्ट्रेलिया ने 17 रन पर 2 विकेट गंवा दिए थे।

वॉशिंगटन ने डेब्यू मैच में स्मिथ को शिकार बनाया
इसके बाद स्टीव स्मिथ ने लाबुशेन के साथ तीसरे विकेट के लिए 70 रन की पार्टनरशिप कर पारी को संभाला। हालांकि, डेब्यूटेंट वॉशिंगटन ने करियर का पहला विकेट लेते हुए जोड़ी तोड़ दी। उन्होंने स्मिथ को 36 रन पर रोहित शर्मा के हाथों कैच आउट कराया।

नटराजन ने ऑस्ट्रेलिया को चौथा और पांचवां झटका दिया
इसके बाद नटराजन ने ऑस्ट्रेलिया को लगातार दो ओवर में दो झटके दिए। उन्होंने मैथ्यू वेड (45) को शार्दूल ठाकुर के हाथों कैच आउट कराया। वेड ने मार्नस लाबुशेन के साथ 113 रन की पार्टनरशिप की। इसके बाद लाबुशेन भी नटराजन की बॉल पर विकेटकीपर ऋषभ पंत के हाथों कैच आउट हुए। लाबुशेन ने 204 बॉल पर 108 रन की पारी खेली।

लाबुशेन ने गाबा में ब्रेडमैन को पीछे छोड़ा
गाबा के मैदान पर लाबुशेन ने 3 पारियों में 326 से ज्यादा रन बनाकर लीजेंड सर डॉन ब्रेडमैन को पीछे छोड़ दिया है। पूर्व ऑस्ट्रेलियाई लीजेंड ने इतनी ही पारियों में इस मैदान पर सबसे ज्यादा 326 रन बनाए थे।

सैनी चोटिल होकर मैच से बाहर
तेज गेंदबाज सैनी चोटिल होकर मैदान से बाहर चले गए हैं। उन्हें हैमस्ट्रिंग की शिकायत हुई। वाकया ऑस्ट्रेलिया की पहली पारी के 36वें ओवर की है। 5वीं बॉल फेंकने के बाद उन्हें दाएं पैर की मांसपेशियों में खिंचाव की शिकायत हुई। इसके बाद ओवर की आखिरी बॉल रोहित शर्मा ने की।

लाबुशेन को 2 जीवनदान मिले
लाबुशेन के पहली पारी में 37 और 48 रन पर दो कैच छूटे। पहले भारतीय कप्तान अजिंक्य रहाणे ने 36वें ओवर की 5वीं बॉल पर लाबुशेन का आसान सा कैच छोड़ा। ओवर नवदीप सैनी का था। दूसरा कैच 45वें ओवर की 5वीं बॉल पर चेतेश्वर पुजारा ने छोड़ा। हालांकि, यह कैच थोड़ा मुश्किल था। ओवर नटराजन कर रहे थे।

भारतीय टीम में 4 बदलाव
टीम इंडिया की प्लेइंग इलेवन में 4 बदलाव किए गए। चोटिल तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह, स्पिनर रविचंद्रन अश्विन, ऑलराउंडर हनुमा विहारी और रविंद्र जडेजा बाहर हुए हैं। उनकी जगह नटराजन, वॉशिंगटन सुंदर, मयंक अग्रवाल और शार्दूल ठाकुर को मौका मिला।

नटराजन और वॉशिंगटन का डेब्यू
टीम इंडिया की प्लेइंग इलेवन में तेज गेंदबाज टी नटराजन और ऑलराउंडर वॉशिंगटन सुंदर को मौका मिला। यह उनका डेब्यू टेस्ट है। नटराजन एक ही दौरे पर तीनों फॉर्मेट (टेस्ट, वनडे और टी-20) में डेब्यू करने वाले पहले भारतीय बन गए हैं।

नटराजन टीम इंडिया के लिए डेब्यू करने वाले 300वें और वॉशिंगटन 301वें टेस्ट प्लेयर हैं। नटराजन को बॉलिंग कोच भरत अरुण और वॉशिंगटन को रविचंद्रन अश्विन ने डेब्यू कैप सौंपी।

टेस्ट कैप नंबरप्लेयरडेब्यू टेस्टकिसके खिलाफ
1अमर सिंह25 जून1932इंग्लैंड
100बालू गुप्ते13 जनवरी 1961पाकिस्तान
200नयन मोंंगिया18 जनवरी 1994श्रीलंका
300टी नटराजन15 जनवरी 2021ऑस्ट्रेलिया

लियोन 100 टेस्ट खेलने वाले 13वें ऑस्ट्रेलियन
स्पिनर नाथन लियोन अपना 100वां टेस्ट खेल रहे। मैच से पहले उन्हें टीम ने ग्रीन बैगी कैप के साथ गार्ड ऑफ ऑनर भी दिया। यह उपलब्धि हासिल करने वाले वे 13वें ऑस्ट्रेलियन प्लेयर हैं। रिकी पोंटिंग और स्टीव वॉ ने सबसे ज्यादा 168-168 टेस्ट खेले।

ऑस्ट्रेलियाई ओपनर पुकोव्स्की बाहर
ऑस्ट्रेलिया के लिए पिछले टेस्ट में डेब्यू करने वाले युवा ओपनर विल पुकोव्स्की ब्रिस्बेन टेस्ट से बाहर हो गए। उनकी जगह मार्कस हैरिस को मौका मिला। पुकोव्स्की को कंधे में मोच की शिकायत है। उन्होंने डेब्यू टेस्ट में 72 रन बनाए थे।

टीम इंडिया पिछली दो टेस्ट सीरीज में ऑस्ट्रेलिया को हरा चुकी

दोनों टीम के बीच सीरीज 1-1 की बराबरी पर है। ऐसे में टीम इंडिया के पास ऑस्ट्रेलिया से लगातार तीसरी टेस्ट सीरीज जीतने का मौका है। भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया को फरवरी 2017 और दिसंबर 2018 में खेली गई बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी में शिकस्त दी थी। विराट कोहली की कप्तानी में टीम इंडिया ने 2018 में इतिहास रचा था और पहली बार ऑस्ट्रेलिया को उसी के घर में टेस्ट सीरीज में शिकस्त दी थी।

हालांकि, यह मैच भारत के लिए आसान नहीं होने वाला, क्योंकि ऑस्ट्रेलिया का रिकॉर्ड ब्रिस्बेन में शानदार है। कंगारू टीम यहां पिछले 32 साल से कोई भी टेस्ट मैच नहीं हारी है।

अब रहाणे की कप्तानी में इतिहास दोहराने का मौका
मौजूदा सीरीज के पहले मैच में टीम इंडिया को कोहली की कप्तानी में 8 विकेट से शिकस्त मिली थी। कोहली के पैटरनिटी लीव पर जाने के बाद अजिंक्य रहाणे ने कप्तानी संभाली और अगला टेस्ट 8 विकेट से जीतकर सीरीज 1-1 से बराबर कर दी। सिडनी में खेला गया तीसरा टेस्ट ड्रॉ रहा। ऐसे में टीम इंडिया के पास रहाणे की कप्तानी में सीरीज जीतकर इतिहास दोहराने का मौका है।

ब्रिस्बेन में 32 साल से अजेय ऑस्ट्रेलिया
मेजबान ऑस्ट्रेलिया 32 साल से ब्रिस्बेन में कोई टेस्ट नहीं हारी है। पिछली बार उसे ब्रिस्बेन में नवंबर 1988 में वेस्टइंडीज ने 9 विकेट से हराया था। उसके बाद से अब तक ऑस्ट्रेलिया ने ब्रिस्बेन में 31 टेस्ट खेले, जिसमें से 24 जीते और 7 ड्रॉ रहे। वहीं, भारतीय टीम ने ब्रिस्बेन के गाबा मैदान पर अब तक 6 टेस्ट खेले, जिसमें से 5 हारे और एक ड्रॉ कराया है। भारत ने यहां पिछला मैच दिसंबर 2017 में खेला था, जिसमें ऑस्ट्रेलिया 4 विकेट से जीता था।

9 भारतीय खिलाड़ी चोटिल, 6 सीरीज से बाहर
ऑस्ट्रेलिया टूर पर अब तक 9 भारतीय खिलाड़ी इंजर्ड हो चुके हैं। इनमें मोहम्मद शमी, उमेश यादव, लोकेश राहुल, हनुमा विहारी, रविंद्र जडेजा, ऋषभ पंत, रविचंद्रन अश्विन, जसप्रीत बुमराह और मयंक अग्रवाल शामिल हैं। इनमें से 6 प्लेयर बुमराह, विहारी, जडेजा, राहुल, शमी और उमेश सीरीज से बाहर हो चुके हैं। हालांकि, पंत और मयंक ठीक होकर वापसी कर चुके हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.