जमुई में एक ही गांव के प्रेमी-प्रेमिका की लाशें ट्रैक पर अलग-अलग दिशा में, हत्या या सुसाइड- अभी साफ नहीं

0
48

जमुई में मंगलवार सुबह-सुबह कुहासा छंटते ही रेलवे ट्रैक पर दो लाशें मिलने से इलाके में सनसनी फैल गई। एक लाश प्रेमी की और दूसरी प्रेमिका की है। इन दोनों की लाश रेलवे स्टेशन के कटौना हॉल्ट से पहले पोल नंबर 387/5 और 387/6 के बीच रेलवे पटरी के बीच मिली है। जमुई SP प्रमोद कुमार मंडल ने कहा कि जांच के दौरान पता चला है कि दोनों की बीच प्रेम-प्रसंग था। दोनों सोमवार देर शाम से ही घर से गायब थे। इस मामले में दोनों से घरवालों से पूछताछ की जा रही है।

पुलिस के अनुसार युवक और युवती सोमवार देर शाम से ही अपने घरों से गायब थे। दोनों ने ट्रेन से कटकर जान दी है। पुलिस इस मामले को आत्महत्या और हत्या दोनों एंगल देख कर जांच कर रही है। हालांकि स्थानीय लोग इस मामले की उच्चस्तरीय जांच की मांग कर रहे हैं।

वहीं स्टेशन पर मौजूद एक चाय दुकानदार का कहना है कि युवक और युवती के परिजन सोमवार रात के करीब 10 बजे दोनों को खोजने आए थे। इधर घटना के बाद स्थानीय लोग यह सवाल उठा रहे हैं कि रेलवे ट्रैक पर दोनों की लाश विपरीत दिशा में पड़ी हुई थी। मृत युवक (गोविंद तांती) के पीठ पर भी जख्म के निशान थे। आशंका है कि हत्या के बाद दोनों की लाश को यहां लाकर फेंक दिया गया।

इलाके में हड़कंप

घटना के बाद इलाके में हड़कंप मच गया। ट्रैक के पास लोगों की भीड़ लग गई। इधर, घटना की सूचना मिलते ही नगर थाने की पुलिस मौके पर पहुंच गई और दोनों की लाश को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। SI भगवान ठाकुर ने बताया कि दानापुर कंट्रोल रूम से सूचना मिली कि एक लड़का और लड़की ट्रेन से कट गया है। शव के आसपास किसी प्रकार का कोई सामान नहीं दिख रहा है। ट्रेन से कटकर दोनों की मौत हुई है। फिलहाल, मामले की जांच की जा रही है। कुछ लोगों से पूछताछ की जा रही है।

5:30 में गुजरी थी टाटा-छपरा ट्रेन

स्थानीय लोगों ने दोनों की पहचान स्थानीय उमेश तांती के पुत्र गोविंद तांती (21) और लक्ष्मी तांती की बेटी जुली कुमारी (19) के रूप में की है। दोनों एक ही गांव के हैं। लोगों का कहना है कि मंगलवार सुबह 5:30 में टाटा-छपरा ट्रेन गुजरी थी। पुलिस आशंका जता रही है कि इसी ट्रेन के चपेट में दोनों आए होंगे। पुलिस आसपास के लोगों से पूछताछ कर रही है। घटना के बाद दोनों के घर में कोहराम मच गया है। परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.