हाथों में नुकीले डंडे और रस्सी, जानिए कैसे रची गई लाल किले पर कब्जे की साजिश

0
103

कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसान 26 जनवरी को सारी मर्यादा भूल गए। किसानों के रूप में दंगाईयों ने आईटीओ से लेकर लालकिले तक जमकर हिंसा फैलाई। कल दिनभर चली हिंसा के बाद देर रात लालकिले को खाली करवा दिया गया। फिर हिंसा न हो, इसलिए रात में लालकिले की लाइट बंद कर दी गई। दिल्ली पुलिस ने अभी तक कुल 15 FIR दर्ज की है।

इस बीच 26 जनवरी को दिल्ली में हुए उपद्रव को लेकर नए नए वीडियो सामने आ रहे है। इन वीडियो से पता चल रहा है कि ये सब कुछ एक सोची समझी साज़िश के तहत किया गया। कल दोपहर दो बजे लालकिले में अराजकता शुरू हुई। बाकायदा उपद्रवी पूरी तैयारी के साथ लालकिले में दाखिल हुए थे।

पूरी तैयारी से आए थे उपद्रवी 

वीडियो में जो तस्वीरें सामने आई हैं वे ये साबित करने वाली हैं कि लाल किले में जो कुछ हुआ वो महज़ उन्माद की नतीजा नहीं था। वो कोई भटकी हुई भीड़ नहीं थी। वो रास्ते छोड़कर आई भीड़ नहीं थी। बल्कि वो एक बड़ी प्लानिंग के बाद साज़िश की गई थी। ये तस्वीरें उस वक्त की हैं जब किसानों का चोला पहने भीड़ लाल किले के अंदर घुस रही थी। 

नुकीले डंडे और रस्सी लेकर आए थे उपद्रवी 

इनके हाथों में जो सामान है उसे देखकर आप हैरान रह जाएंगे। इनके हाथों में मोटे मोटे डंडे हैं। इनके पास रस्सी है। जी हां रस्सी, अब आप पूछेंगे इस प्रदर्शन में रस्सी का क्या काम है। इसी रस्सी का इस्तेमाल ज़रूरत पड़ने पर लाल किले के अंदर किया जाना था। ये डंडे मारपीट के लिए इस्तेमाल किए जा रहे थे। 

पुलिस कर्मियों को बनाया बंधक

दिल्ली में किसानों के एक उपद्रव की तस्वीर लाल किले से आई है। इसमें दो पुलिस वालों को दंगाइयों ने बंधक बना लिया है। पीछे लाल किले का हिस्सा दिख रहा है। यहां पुलिस कर्मी दंगाइयों से जान की भीख मांग रहे हैं। दंगाइयों के हाथ में भाला नुमा डंडे हैं। आप इन तस्वीरों से दंगाइयों के सिर पर किस तरह हिंसा सवार थी, साफ देख सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.