अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने राकेश टिकैत से की मुलाकात, कहा- हमारी पार्टी किसानों के साथ

0
108

शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत से गाजीपुर बॉर्डर पर मुलाकात की. बादल ने कहा कि वे यहां राकेश टिकैत को बधाई और समर्थन देने आए हैं. हमारी पार्टी और सारे किसान उनके साथ हैं. दोनों के बीत करीब दस मिनट की मुलाकात हुई.

सुखबीर बादल ने कहा, “मैं राकेश टिकैत जी को बधाई देने आया हूं जिन्होंने ये किसानों की लड़ाई लड़ी है. सारे किसान उनके आभारी हैं, जैसे वे लड़ाई लड़ रहे हैं. मेरे पिता प्रकाश सिंह बादल और इनके पिता चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत ने साथ में किसानों की लड़ाई लड़ी. अकाली दल का प्रधान होने के नाते मैं उन्हें बधाई देने आया. हमारी पार्टी और सारे किसान उनके साथ हैं. पीएम मोदी को किसानों की बात सुननी चाहिए. आज ये लड़ाई देश के किसानों की लड़ाई है.”

अपने ट्वीट में सुखबीर बादल ने कहा, “किसान नेता राकेश टिकैत को श्री दरबार साहिब, श्री अमृतसर साहिब से ‘सिरोपा’ और ‘अमृत’ दिया. साथ ही अकाली दल के पूर्ण समर्थन का आश्वासन दिया. टिकैत अपने पिता महेन्द्र टिकैत के नक्शेकदम पर चलकर किसान समुदाय को गौरवान्वित किया है.”

बता दें कृषि कानूनों के विरोध में पिछले साल बादल की पत्नी हरसिमरत कौर ने एनडीए सरकार से इस्तीफा दे दिया था. हरसिमरत कौर अकाली दल की एक मात्र नेता थीं जो एनडीए सरकार का हिस्सा थीं.

उधर राकेश टिकैत ने कहा, “जब तक सरकार बात नहीं करेगी तब तक आंदोलन जारी रहेगा. विपक्ष यहां पर वोट तलाशने नहीं आए. विपक्ष यहां हमदर्दी के लिए आता है. हम कोई चुनाव नहीं लड़ रहे हैं.”

राकेश टिकैत के आंसुओं का असर बरकरार है और तमाम पुराने और नए अवरोधकों के बावजूद दिल्ली-उत्तर प्रदेश की सीमा गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों के तंबू लगातार बढ़ रहे हैं. इस बीच हरियाणा के जींद जिले में खटकड़ टोल पर किसानों के धरने में आगामी तीन फरवरी को किसान नेता राकेश टिकैत भी शामिल होंगे. भाकियू (चढूनी) जिलाध्यक्ष आजाद पालवां ने बताया कि टिकैत तीन फरवरी की सुबह दस बजे खटकड़ टोल पर किसानों के धरने में शामिल होने के लिए आयेंगे. पालवां ने आरोप लगाया कि बीजेपी किसान आंदोलन को कमजोर करने की साजिश कर रही है. उन्होंने दावा किया कि किसान आंदोलन अब पहले से ज्यादा मजबूत हो रहा है और अब पूरे देश का इसे समर्थन मिल रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.