पूर्णिया: JDU सांसद के बड़े भाई पर जानलेवा हमला, नशे में धुत अपराधियों ने उनकी स्कॉर्पियो पर किया हमला

0
39

पूर्णिया में जदयू सांसद संतोष कुशवाहा के बड़े भाई हरेंद्र विश्वास पर जानलेवा हमला हुआ है। बताया जाता है कि बुधवार की रात सदर थाना क्षेत्र के होप हॉस्पिटल चौक के पास एक दर्जन अपराधियों ने हरेंद्र विश्वास पर जानलेवा हमला किया गया। उन्होंने भागकर अपनी जान बचाई। हमलावर नशे में धुत थे और लाठी-डंडों से उनकी गाड़ी पर हमला कर दिया। हरेंद्र पर गोली भी चलाई। इस हमले में सांसद के भाई बाल-बाल बच गए। हमले में उनकी स्कॉर्पियो (BR01CA9009) क्षतिग्रस्त हो गई। हमले के बाद सभी अपराधी फरार हो गए।

सांसद ने कहा रोडरेज में हुआ हमला

हरेंद्र विश्वास के अनुसार, सभी हमलावर नशे में धुत थे। जब उन्होंने बताया कि वे सांसद संतोष कुशवाहा के बड़े भाई हैं तो अपराधी और अधिक उग्र हो गए। अगर वे नहीं भागते तो उसकी हत्या भी हो सकती थी। यह घटना उस वक्त हुई जब हरेंद्र विश्वास एक बारात में शामिल लेने जा रहे थे। उनके आवेदन पर 6 लोगों के खिलाफ FIR दर्ज कराई गई है। वहीं पूर्णिया सांसद संतोष कुशवाहा ने बताया कि बीती रात रोडरेज में उनके बड़े भाई पर बदमाशों ने जानलेवा हमला किया। उन्होंने मेरे भाई पर गोली भी चलाई।

6 नामजद के खिलाफ FIR दर्ज करवाई गई

SP दया शंकर ने कहा कि सांसद के भाई हरेंद्र विश्वास द्वारा सदर थाना में 6 नामजद व 7-8 अज्ञात अपराधियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। पुलिस मामला दर्ज कर अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है। इधर, सदर थानाध्यक्ष मधुरेन्द्र किशोर ने बताया कि आवेदन में हरेंद्र विश्वास ने अपराधियों द्वारा गोली चलाने की भी बात कही है। कुछ लोगों से पूछताछ की जा रही है। CCTV फुटेज खंगाला जा रहा है।

2019 में दूसरे बड़े भाई शंकर पर हुआ था हमला

इससे पहले मई 2019 में भी सांसद के दूसरे बड़े भाई शंकर कुशवाहा पर बाड़ीहाट मोहल्ले में जानलेवा हमला हुआ था। हालांकि, यह मामला जमीन विवाद से जुड़ा था। इसमें दूसरे पक्ष के एक व्यक्ति की मौत हो गई थी। उस समय सांसद के मामा ने कुख्यात बिट्टू सिंह गिरोह पर फायरिंग करने और जानलेवा हमला करने का आरोप लगाया था। मृतक के परिजनों द्वारा सांसद के भाई शंकर कुशवाहा, भांजे रितेश और जदयू नेता नीलू सिंह पटेल समेत कई अज्ञात लोगों के विरुद्ध बेवजह पिटाई का आरोप लगाया गया था। पुलिस ने इस मामले में 4 अलग-अलग प्राथमिकियां दर्ज की थीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.