सीवान से भागकर सोनपुर पहुंची युवती से गैंगरेप, दरिंदगी करने के बाद रात में स्टेशन पर छोड़ दिया

0
322

सीवान से पारिवारिक विवाद में भागी युवती के साथ अपराधियों ने गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया है। घटना रविवार को देर रात की है। पुलिस इस मामले में सोमवार के पीड़िता के फर्दबयान के आधार पर प्राथमिकी दर्ज कर आरोपियों की पहचान में जुट गई है। मंगलवार की शाम तक पीड़िता घटनास्थल और आरोपितों की पहचान नहीं कर पाई थी, लेकिन सोनपुर एसडीपीओ के नेतृत्व में पुलिस टीम सीसीटीवी फुटेज की मदद से आरोपितों की पहचान में जुट गई है।

पीड़िता ने पुलिस को बताया है कि 21 फरवरी के दिन घर में मां से झगड़ा करने के बाद घर से वह भाग गई। बिना कुछ सोचे सीवान रेलवे स्टेशन पर पहुंची और वहां से ट्रेन पर बैठ गई। शाम में ट्रेन सोनपुर रेलवे स्टेशन पर पहुंच गई, लेकिन कुछ समझ नहीं आया तो पैदल आगे बढ़ने लगी। कुछ दूरी पर एक स्कूल दिखाई दिया, जिस पर शिशु संघ का बोर्ड लगा हुआ था। यहीं पर एक ठेले वाले को उसने सारी बात बताई। कुछ देर के बाद एक बाइक पर दो युवक आए, दोनों युवकों को ठेला चालक ने सारी जानकारी दी। 

इसके बाद बाइक सवार युवकों ने युवती को घर पहुंचाने की बात कही। उन युवकों के बहकावे में आकर युवती उनकी बाइक पर बैठ गई। दोनों बातचीत में अपना नाम सोनू और मोनू बता रहे थे। इसके बाद दोनों एक घर में ले गए। वहीं पर एक और युवक आया और खुद को मुखिया जी का बेटा बता रहा था। तीनों ने बारी-बारी से दुष्कर्म किया, विरोध करने पर तीनों ने मुंह, हाथ बांध दिया।

युवती ने अपने बयान में आगे बताया कि देर रात में ही सभी ने बाइक से वापस सोनपुर स्टेशन पर लाकर मुझे छोड़ दिया। यहीं पर एक व्यक्ति के मोबाइल से घर पर मैंने संपर्क किया। अहले सुबह में युवती को भटकते देख हरिहरनाथ ओपी पुलिस ने इससे पूछताछ की और पूरी घटना के बारे में पीड़िता ने पुलिस को बताया। घटना की जानकारी के बाद पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया है। इस मामले में युवती के फर्द बयान के आधार पर पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज कर आरोपितों और घटनास्थल की पहचान में जुट गई है। 

सोनपुर एसडीपीओ अंजनी कुमार ने बताया कि युवती के साथ गैंगरेप की घटना हुई है, पुलिस ने पीड़िता के बयान पर प्राथमिकी दर्ज कर ली है। पीड़िता आरोपितों की पहचान नहीं कर पा रही थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.