सदन में भिड़े तेजस्वी और तारकिशोर: डिप्टी सीएम ने नेता प्रतिपक्ष को झुठलाया, तेजस्वी ने आंकड़ों से दिया जवाब

0
36

बिहार विधानमंडल के बजट सत्र के दौरान बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव और उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद भिड़ गए. दोनों नेताओं के बीच आंकड़े को लेकर गरमागरम बहस छिड़ गई. सत्ता पक्ष और विपक्ष की ओर बैठे विधायक भी सदन में शोर मचाने लगे. दरअसल डिप्टी सीएम ने तेजस्वी के ऊपर गलत आंकड़े पेश करने का आरोप लगा दिया, जिसके बाद ये सिलसिला शुरू हुआ.

तेजस्वी ने कहा कि बिहार के डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद अपने ही बजट को नहीं मान रहे हैं. वह मेरे ऊपर आरोप लगा रहे हैं कि मैंने सदन में आंकड़ों का जंजाल पेश कर गुमराह करने का काम किया है. तेजस्वी ने कहा कि बिहार के बजट में समाज के विभिन्न तबकों के लोगों के उत्थान का ख्याल नहीं रखा गया है. बिहार के बजट का आंकड़ा पेश करते हुए तेजस्वी ने बताया कि विभागवार स्थापना एवं प्रतिबद्ध व्यय और स्किम मद में पिछड़ा और अति पिछड़ा वर्ग विभाग को मात्र 0.78 % राशि ही दी गई है.

तेजस्वी ने इसी तरह अल्पसंख्यक और एससी-एसटी विभाग का भी आंकड़ा पेश किया और मीडियाकर्मियों को बजट का आंकड़ा दिखाते हुए कहा कि  विभागवार स्थापना एवं प्रतिबद्ध व्यय और स्किम मद में अल्पसंख्यक विभाग को सिर्फ 0.26 % और  अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति विभाग को मात्र 0.83 % राशि ही दी गई है.

तेजस्वी ने कहा कि जब बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जातिगत जनगणना की मांग करते हैं तो इसका मतलब यही है कि सीएम समाज के हर एक जाति का सर्वांगीण विकास करना चाहते हैं. लेकिन ये हास्यास्पद है कि जब तेजस्वी ने सदन में आंकड़े पेश किये तो उसे वित्तमंत्री तारकिशोर प्रसाद ने झुठला दिया. उन्हें देखना चाहिए कि इन तीनों विभागों में उन्होंने बजट का एक प्रतिशत हिस्सा भी नहीं दिया है.

गौरतलब हो कि सदन में बोलने के दौरान डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद ने कहा कि “नेता प्रतिपक्ष भी सरकार का अंग होता है. मुझे उस अंग को भी देखना पड़ेगा, उसे जवाब देना पड़ेगा.” उन्होंने कहा कि 200506 में गैर योजना मद में 17 हजार 669 करोड़ रुपये था. राज्य योजना मद में 4 हजार 379 करोड़ रुपये और कुल योजना मद 4 हजार 898 करोड़ रुपये था. जबकि कुल बजट का आकार 22 हजार 568 करोड़ रुपये था.”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.