पटना: राष्ट्रीय जनता दल महिला प्रकोष्ठ द्वारा बढ़ते अपराध विषय पर एक सेमिनार का आयोजन

0
42

राष्ट्रीय जनता दल  महिला प्रकोष्ठ द्वारा राजद के प्रदेष कार्यालय में पर बढ़ते अपराध विषय पर एक सेमिनार का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का उद्दघाटन भारत सरकार के पूर्व मंत्री व राष्ट्रीय जनता दल महिला प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय अध्यक्ष डाॅ0 कांति सिंह जी के द्वारा किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि राजद के प्रदेष अध्यक्ष श्री जगदानन्द सिंह, पूर्व विधान सभा अध्यक्ष श्री उदय नारायरण चैधरी, पूर्व षिक्षा मंत्री वृषण पटेल, राजद के राष्ट्रीय प्रवक्ता सारीका पासवान थी। कार्यक्रम की अध्यक्षयता राजद महिला प्रकोष्ठ की प्रदेष अध्यक्ष डाॅ0 उर्मिला ठाकुर द्वारा किया गया। कार्यक्रम में उपस्थित सभी अतिथियों को महिला पदाधिकारियों द्वारा शाल व बुके दे कर सम्मानित किया गया।
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राजद महिला प्रकोष्ठ कि राष्ट्रीय अध्यक्ष डाॅ0 कान्ति सिंह कहा कि महिलाएँ अगर दुर्गा काली का रूप धारण कर ले तो समाज में फैले दानवों को नाष करने में सक्षम है। पूरे बिहार ही नहीं पूरे देष में आज महिलाओं के खिलाफ अत्याचार बढ़ा है। जनप्रिय नेता एवं राजद के राष्ट्रीय अध्यक्ष आदरणीय लालू प्रसाद यादव जी ने महिलाओं  के सम्मान के जो कार्य किए वो बड़ा ही सराहनीय है।  उन्होंनें बिहार मंे प्रथम महिला मुख्यमंत्री प्रदान किया एवं मुझे भी केन्द्र में मंत्री बनाया, उन्होंने कहा कि समाज के अंतिम पैदान पर बैठी महिला भगवतिया देवी को लोकसभा भेज कर महिलाओं को सम्मान देने का कार्य किया ।
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राजद के प्रदेष अध्यक्ष श्री जगदानन्द सिंह ने कहा कि आज बिहार में महिलाएँ कहीं भी सुरक्षित नहीं है। महिलाओं पर बढ़ते अपराध पर उन्होंनें कहा कि अन्नत अपराध जिसकी कोई सीमा नहीं है, पर चर्चा करना बेईमानी होगी। आज अवष्यक्ता है कि महिलाओं को अपराध के विरूध स्वयं सजग हो कर लड़ना होगा। साथ उहोंने कहा कि राजद महिला के पदाधिकारी गाँव-गाँव जा कर महिलाओं को अपने अधिकार व कर्तव्य के प्रति सजग करें। उन्होंने कहा कि महिलाएँ अगर चाहे तो अपराधी को ही नहीं बल्की अपराधियों को संक्षरण देने वाली सरकार को भी उखाड़ कर फेक सकती है। उन्होंनें कहा कि महिलाओं के बिना पुरूष अधूरा है। यह संकृति प्राचीन काल से हीं चली आ रही है। सीता के बिना राम, राधा के बिना कृष्ण कि परिकल्पना नहीं कि जा सकती है।
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पूर्व विधान सभा अध्यक्ष उदय नारायरण चैधरी कहा कि देश की प्रथम महिला शिक्षिका सावित्री बाई फुले ने ही महिला षिक्षा को देष में जागृत करने का कार्य किया। महिलाएँ जिस दिन अपने अधिकार के प्रति सजग हो जाएगी उस दिन उसे अधिकार देने से कोई वंचित नहीं कर सकता, उन्होंने एक संगीत के माध्यम से महिलाओं को उत्साह वर्धन करने कार्य किया।
कार्यक्रम कि अध्यक्षता करते राजद महिला प्रकोष्ठ की प्रदेष अध्यक्ष डाॅ0 उर्मिला ठाकुर ने कहा कि आज महिलाएँ अबला नहीं रह गई है राजद की महिलाएँ आदरणीय लालू प्रसाद यादव जी  के सिद्धांत व लोकप्रिय नेता तेजस्वी प्रसाद यादव जी  के कड़े सर्घष को जन-जन तक पहुचाने का वीरा उठा चुकी हैं उन्हांेने कहा कि महिलाओं पर दिन दुनी रात चैगीन अपराधिक घटनाऐ घट रही है। जो चिंता का विषय है। महिलाओं को अपराध के प्रति स्वयं जागरूक होकर लड़ना होगा।
कार्यक्रम को पूर्व मंत्री वृषण पटेल, सारिका पासवान, प्रो0 सेवा यादव, प्रो0 कुमारी राजमणी, प्रो0 गीता यादव, अनिता भारती, नमीता निरज सिंह, निवेदिता शेखर, कंचन सिंह, सुजाता सिंह, प्रतिमा सिंह, मुन्नी रज्जक, रेनू यादव, अर्चना यादव, सुचित्रा चैधरी, रंजू सहनी, निसू सिंह, पिंकी राय, मंजू यादव, डाॅ0 सबनम आसिफ, सुषिला भारती, सुनिता शर्मा, रेनू सहनी, रामदुलारी देवी आदि ने संबोधित किया।
धन्यवाद ज्ञापन सारण जिलाध्यक्ष उर्मिया यादव द्वारा किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.