किसान आंदोलन: ब्रिटिश संसद में चर्चा पर भारत का एतराज, कहा- बहस में एकतरफा और झूठे तथ्य रखे गए

0
52

ब्रिटेन की संसद में किसान आंदोलन पर हुई चर्चा को लेकर भारत ने सख्त एतराज जताया है. लंदन में भारतीय उच्चायोग ने इस मुद्दे पर चर्चा की कड़ी आलोचना की है. भारत ने कहा है कि संसद में चर्चा के दौरान एकतरफा और झूठे तथ्य रखे गए. वहीं, ब्रिटिश सरकार में मंत्री नाइजल एडम्स का कहना है कि कृषि सुधार भारत का आंतरिक मुद्दा है.

भारत के आंतरिक मुद्दे पर चर्चा करना निंदनीय- उच्चायोग

दरअसल किसान आंदोलन पर ब्रिटेन की संसद में एक पेटिशन पर लाखों साइन हुए. जिसके बाद इस मुद्दे पर कल संसद में बहस हुई. भारतीय उच्चायोग ने बयान जारी करके कहा कि ब्रिटेन की संसद में जो बहस हुई, वह बिना तथ्यों के की गई. भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है, ऐसे में भारत के आंतरिक मुद्दे पर चर्चा करना निंदनीय है.

जल्द ही कोई सकारात्मक परिणाम निकलेगा- ब्रिटिश सरकार

ब्रिटिश सरकार में मंत्री नाइजर एडम्स ने भारत-ब्रिटेन की दोस्ती काफी पुरानी है. दोनों ही देश आपसी सहयोग से द्विपक्षीय और अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर चर्चा के लिए तैयार हैं. एडम्स ने उम्मीद जताई कि जल्द ही भारत सरकार और आंदोलन कर रहे किसान संगठनों के बीच बातचीत के जरिए कोई सकारात्मक परिणाम निकलेगा.

100 से ज्यादा दिनों से जारी है किसान आंदोलन

बता दें कि केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों के विरोध में पंजाब, हरियाणा और यूपी समेत कई राज्यों के किसान आंदोलन पर बैठे हैं. राजधानी दिल्ली के टिकरी, सिंघु और गाजीपुर बॉर्डर पर चल रहे किसानों के इस आंदोलन को 100 से ज्यादा दिन हो गए हैं. किसानों की मांग है कि सरकार इन कानूनों को वापस ले. वहीं सरकार भी कानून वापस नहीं लेने पर अड़ी हुई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.