क्या महाराष्ट्र में लगने जा रहा है लॉकडाउन? CM उद्धव ठाकरे ने दिया बड़ा बयान

0
44

महाराष्ट्र में पिछले कुछ दिनों से लगातार सामने आ रहे कोरोना के हजारों नए मामलों के बीच महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने लॉकडाउन को लेकर बड़ा बयान दिया है। उद्धव ठाकरे ने बुधवार को कहा कि राज्य सरकार राज्य में लॉकडाउन के फैसले को आसानी से नहीं ले सकती है। उन्होंने यह भी कहा कि स्थिति की समीक्षा के बाद ही लॉकडाउन को लेकर कोई निर्णय लिया जाएगा।

उद्धव ठाकरे ने कहा, ”लॉकडाउन लगाने का विकल्प आसानी से नहीं अपनाया जा सकता है, लेकिन हमें जल्द ही एक ठोस निर्णय लेना होगा। हम अगले कुछ दिनों में स्थिति की समीक्षा करेंगे और फैसला लेंगे।” उन्होंने कहा कि राज्य में नागरिकों द्वारा कोरोना को लेकर लागू नियमों का उपयुक्त रूप से पालन करने पर ही दूसरा लॉकडाउन टाला जा सकता है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि हम अभी भी लोगों से दूसरे लॉकडाउन से बचने के लिए कोरोना के उचित व्यवहार का पालन करने की अपील करते हैं।

पुणे के मेयर ने बताया कि फरवरी के पहले हफ्ते में कोरोना के केस 1300 थे, लेकिन एक महीने में ही मामले सात हजार पहुंच गए। यह चिंता का विषय है। टेस्टिंग सेंटर्स पर बढ़ा दी गई है। अभी तक लॉकडाउन लागू करने का कोई प्लान नहीं है, लेकिन हम लोग सार्वजनिक जगहों पर पाबंधियों को बढ़ाने पर चर्चा कर रहे हैं।

बता दें कि महाराष्ट्र में बुधवार को कोरोना वायरस संक्रमण के इस साल एक दिन में सबसे अधिक 13,659 नए मामले सामने आए, जिसके बाद संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 22,52,057 हो गई। स्वास्थ्य अधिकारी ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि 54 और रोगियों की मौत के बाद मृतकों की कुल संख्या 52,610 हो गई है। राज्य में पिछले साल आठ अक्टूबर को कोरोना वायरस संक्रमण के 13,395 मामले सामने आए थे। उसके बाद से संक्रमण के दैनिक मामलों में गिरावट देखी जा रही थी।

बुधवार को 9,913 लोगों के ठीक होने के बाद संक्रमण से उबरने वाले लोगों की संख्या 20,99,207 हो गई है। राज्य में उपचाराधीन रोगियों की संख्या 99,008 है। मुंबई में कोविड-19 रोगियों की संख्या बढ़कर 3,37,134 हो गई है। और पांच रोगियों की मौत के बाद मृतकों की संख्या 11,515 तक पहुंच गई है।

वहीं, कोरोना मामलों की रोकथाम के लिए महाराष्ट्र के स्वास्थ्य विभाग ने करीबी संपर्को की जांच, संक्रमितों के बेहद करीब आने वालों की पहचान, तेजी से उनकी जांच, हॉटस्पॉट में सघन जांच और मौतों के ऑडिट समेत सात सूत्रीय कार्ययोजना बनाई है। स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव डॉ. प्रदीप व्यास ने इस संबंध में तीन मार्च को सभी जिला प्रशासनों को पत्र भेजा था और उन्हें इन बिंदुओं पर तत्काल कदम उठाने का निर्देश दिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.