JDU नेता ने शेयर की तेजस्वी की बीयर की बोतल पकड़े हुए फोटो, पूछा- शराब बंदी के बाद…

0
453

बिहार में लागू शराबबंदी कानून पर इनदिनों विवाद जारी है. विपक्ष लगातार शराबबंदी कानून की असफलता के मुद्दे पर सरकार पर निशाना साध रही है. बुधवार को सदन में भी विपक्ष ने शराबबंदी को फ्लॉप बताते हुए, सीएम नीतीश कुमार से जवाब की मांग की थी. वहीं, नेता प्रतिपक्ष ने बिहार सरकार के मंत्री रामसूरत राय के पिता के नाम पर संचालित स्कूल के कैंपस से शराब की बरमादगी के मामले में सीएम नीतीश से सदन में जवाब देने को कहा था.

पुरानी फ़ोटो ट्वीट कर साधा निशाना

इधर, विपक्ष की ओर से लगातार सीएम नीतीश पर निशाना साधने के बाद जेडीयू नेता मुख्यमंत्री के बचाव में उतर गए हैं. जेडीयू नेता और प्रवक्ता ने गुरुवार को तेजस्वी की एक पुरानी फ़ोटो ट्वीट कर उन्हें घेरने की कोशिश की है. उन्होंने जो फोटो शेयर की है, उसमें तेजस्वी हाथ में बीयर की बोतल पकड़े पार्टी करते हुए दिखाई दे रहे हैं.

निखिल मंडल ने फ़ोटो ट्वीट करते हुए लिखा, ” जो बचपन से खुद शराब का सेवन करता हो उसे बाकी सब शराबी ही दिखता है. भाई तेजस्वी यादव आप अक्सर कहते हैं, बिहार में शराब घर-घर डिलीवर होता है, तो क्या मान लूँ उसमें आपका भी घर है? वैसे अब भी सेवन करते है या शराबबंदी के बाद छूट गयी आदत..? छूट गयी तो कहिए नीतीश कुमार जिंदाबाद.”

तेजस्वी ने सीएम नीतीश पर साधा निशाना

गौरतलब है कि सूबे लागू शराबबंदी कानून पर विवाद जारी है. इसी क्रम में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने गुरुवार को पीसी कर सीएम नीतीश पर जमकर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि असलियत ये है कि नीतीश कुमार बेबस हैं. वो पूरे देश के सबसे मजबूर और थके हुए मुख्यमंत्री हैं. शराबबंदी हुई ही नहीं है और सबसे बड़े शराब माफिया नीतीश कुमार खुद हैं.

सीएम नीतीश पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि सरकार नीतीश कुमार चला रहे हैं, लेकिन उनको जानकारी नहीं है. बिहार में शराब का धंधा सबसे आसान है. स्कूल जिसे ज्ञान का मंदिर कहते हैं, वहां उनके मंत्री शराब पिला रहे हैं. लेकिन उनपर कार्रवाई नहीं हुई. ऐसे में सवाल है कि नियम है, तो करवाई क्यों नहीं हुई? सबूत के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं करने का क्या मतलब है? हमारी मांग है कि राम सूरत राय को तत्काल बर्खास्त किया जाए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.