क्या ख़त्म होने लगी हर्ड इम्यूनिटी? क्या देश में कोरोना के दूसरी लहर का ख़तरा?

0
41

देश में कोरोना संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी का दौर जारी है। इस बीच चिकित्सा विशेषज्ञों ने कहा है कि देश कोरोना की दूसरी लहर का सामना कर रहा है, इसलिए अतिरिक्त एहतियाती कदम उठाए जाने की जरूरत है। करीब-करीब तीन महीने के बाद बीते 24 घंटों के दौरान कोरोना के सर्वाधिक 25,320 नए मामले आए हैं।

नौ राज्यों में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की रिपोर्ट के अनुसार पिछले 24 घंटे में जो 25320 नए मामले आए हैं, उनमें से करीब 77 फीसदी तीन राज्यों महाराष्ट्र, केरल तथा पंजाब से हैं। जबकि अन्य छह राज्यों में जहां कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं तथा रोजाना 400 या इससे अधिक मामले आ रहे हैं। उनमें कर्नाटक, गुजरात, तमिलनाडु, मध्य प्रदेश, दिल्ली तथा हरियाणा शामिल है।

हर्ड इम्युनिटी खत्म होने लगी ?

वर्धमान महावीर मेडिकल कालेज के कम्युनिटी मेडिसिन विभाग के निदेशक प्रोफेसर जुगल किशोर ने कहा कि ऐसे संकेत हैं कि देश में कोरोना की दूसरी लहर आरंभ हो चुकी है। इसकी वजह यह है कि सितंबर में कोरोना संक्रमण के पीक पर पहुंचने के बाद कई राज्यों में हर्ड इम्यूनिटी उत्पन्न हो गई थी। इसलिए वहां मामले घटने लगे थे। पांच-छह महीनों के बाद यह अब खत्म होने लगी है और फिर से संक्रमण बढ़ने लगा है।

लापरवाही हुई

एम्स के पूर्व निदेशक प्रोफेसर एमसी मिश्रा ने कहा कि दूसरी लहर पैदा हो चुकी है तथा इसकी मुख्य वजह यह है कि जनवरी-फरवरी में नए संक्रमण न्यूनतम होने के कारण कोराना संबंधी प्रतिबंध करीब-करीब हटा दिए गए। इस बीच टीकाकरण शुरू होने से भी लोग लापरवाह हो गए और सोचने लगे कि अब कुछ नहीं होगा, टीका आ गया। लेकिन टीके से तब तक फायदा नहीं होगा जब तक यह 70-80 फीसदी लोगों को न लग जाए। खतरा साफ नजर आ रहा है। देश यूरोप की भांति दूसरी लहर का सामना कर रहा है। इसलिए सरकार को सख्त कदम उठाने चाहिए।

औसत साप्ताहिक मामले बढ़े

विशेषज्ञों के साथ-साथ केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़े भी कोरोना के दूसरी लहर आने की पुष्टि करते हैं। 11 फरवरी को समाप्त हुए सप्ताह में औसत नए संक्रमण 10988 थे। जबकि करीब एक महीने के बाद यानी 10 मार्च को समाप्त हुए सप्ताह में यह औसत 18371 दर्ज किया गया। इसमें करीब 67 फीसदी का इजाफा एक महीने के भीतर हुआ है।

राज्य पहले सामना कर चुके

बता दें कि जिन राज्यों में कोरोना के मामले इस समय सर्वाधिक हैं, उनमें से ज्यादातर राज्य ऐसे हैं जो कोरोना की पहली या दूसरी लहर का सामना कर चुके हैं तथा अब तीसरी लहर की ओर अग्रसर हैं। लेकिन इस समय देश में आवाजाही को लेकर प्रतिबंध नहीं हैं इसलिए ये मामले दूसरे राज्यों में भी बढ़ सकते हैं।

सक्रिय मामले बढ़े

देश में रोजाना के नए कोरोना मामले ज्यादा आ रहे हैं तथा ठीक होने वाले घट रहे हैं। बीते चौबीस घंटों के दौरान भी 25320 नए संक्रमण हुए लेकिन स्वस्थ होने वाले सिर्फ 16637 थे। इस प्रकार 8522 सक्रिय मामले बढ़ गए। देश में सक्रिय कोरोना रोगियों की संख्या रविवार को 210544 दर्ज की गई। इतने सक्रिय मामले जनवरी मध्य में थे और तब ये लगातार घट रहे थे। करीब एक महीने पहले 12 फरवरी को सक्रिय मामले न्यूनतम 135926 रह गए थे।

बढ़ रहा मौतों का आंकड़ा

पिछले 24 घंटों के दौरान 161 मौतें दर्ज की गई हैं। इनमें महाराष्ट्र में 88, पंजाब में 22, केरल में 12, छत्तीसगढ़ में 6, तमिलनाडु एवं हरियाणा में चार-चार मौतें शामिल हैं। कुल मौतों में से 84 फीसदी इन छह राज्यों में हुईं। हालांकि अच्छी खबर यह है कि 14 राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों में बीते चौबीस घंटों के दौरान एक भी मृत्यु कोरोना से नहीं हुई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.