पटना: युवा राजद ने 23 मार्च को प्रस्तावित विधानसभा घेराव को सफल बनाने के लिए रवाना किया रथ

0
38

नेता प्रतिपक्ष श्री तेजस्वी यादव के आह्वान पर बेरोजगारी, कानून व्यवस्था, भ्रष्टाचार, शिक्षा, स्वास्थ्य, संविदाकर्मी, अभ्यार्थियों की नियुक्ति और शराब तस्करी में फंसे भाजपाई मंत्री रामसुरत राय को बर्खास्त करने की मांग को लेकर 23 मार्च 2021 को युवा राजद द्वारा प्रस्तावित बिहार विधानसभा घेराव कार्यक्रम को ऐतिहासिक बनाने के लिए राजद के राज्य कार्यालय से राजद के राष्ट्रीय महासचिव एवं पूर्व मंत्री श्याम रजक और युवा राजद के प्रदेश अध्यक्ष मो.कारी सोहैब ने संयुक्त रूप से हरी झंडी दिखाकर चार रथ रवाना किया। रथ पटना जिला के विभिन्न क्षेत्रों में घूम घूम कर प्रचार प्रसार कर लोगो को अधिक से अधिक संख्या में विधानसभा घेराव कार्यक्रम में भाग लेने की अपील करेंगे। राजद के राष्ट्रीय महासचिव एवं पूर्व मंत्री श्री श्याम रजक ने कहा कि नीतीष सरकार के पास युवा को रोजगार मुहैया कराने के लिए कोई रोड मैप नहीं है। बिहार बेरोजगारी का हब बन चुका है। नीतीष सरकार हर मोर्चे पर विफल साबित हुई है।
युवा राजद के प्रदेश अध्यक्ष मो0 कारी सोहैब ने कहा कि विधान सभा घेराव ऐतिहासिक होगा, इस के लिए प्रदेश से लेकर पंचायत स्तर तक युवा राजद द्वारा युद्धस्तर पर तैयारी किया जा रहा है। बैठक, जनसंपर्क अभियान और नुक्कड़ सभा के माध्यम से नीतीश सरकार के जनविरोधी नीतियों को आम जनता के बीच उजागर किया जा रहा है। बिहार विधानसभा घेराव कार्यक्रम में पूरे बिहार से 25 हजार युवा राजद कार्यकर्ता भाग लेंगे। मौके पर राजद के प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी, युवा राजद के प्रदेष प्रवक्ता अरूण कुमार यादव, विक्की यादव, षिवेन्द्र तांती, पंकज यादव, जेम्स कुमार यादव, भाई अरुण कुमार, शिवराज कुमार, चंदेश्वर सिंह, मनोज कुमार सहित सैकड़ों कार्यकर्ता मौजूद थे।

राष्ट्रीय जनता दल के प्रदेश प्रवक्ता चित्तरंजन गगन ने कहा है कि नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव के आह्वान पर  बिहार के नौजवान आगामी 23 मार्च को इतिहास को दुहराने जा रहे हैं।
   राजद प्रवक्ता ने कहा कि जिस प्रकार महंगाई और भ्रष्टाचार के सवाल पर 18 मार्च 1974 को बिहार के छात्रों ने पटना विश्वविद्यालय छात्रसंघ के तत्कालीन अध्यक्ष लालू प्रसाद के नेतृत्व में बिहार विधानसभा का घेराव किया था जो कालांतर में लोकनायक जयप्रकाश नारायण जी के नेतृत्व में राष्ट्रव्यापी जन-आन्दोलन बन गया था। उसी प्रकार नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव के आह्वान पर बिहार के छात्र और नौजवान बेरोजगारी जैसे महत्वपूर्ण मुद्दे के साथ हीं महंगाई और भ्रष्टाचार के  सवाल पर आगामी 23 मार्च को बिहार विधानसभा का घेराव करने जा रहे हैं।
    राजद प्रवक्ता ने कहा कि विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव द्वारा बेरोजगारी से जुड़े सवाल उठाने पर सरकार द्वारा कोई ठोस जबाब न देकर टाल-मटोल कर दिया गया। 19 लाख नौजवानों को नौकरी और रोजगार देने का वादा करने वाली सरकार विभिन्न विभागों के लाखों रिक्तियों पर कुंडली मारकर बैठी हुई है। केवल शिक्षकों के हीं 3,15,778 स्वीकृत पद रिक्त हैं। पर 94000 प्राथमिक शिक्षकों और 34000 मा॰शिक्षकों की नियुक्ति वर्षों से लटकाये रखा गया है। जबकि इनकी सारी प्रक्रिया पूरी हो चुकी है केवल काउंसिलिंग बाकी है।
   राजद नेता ने आरोप लगाया कि बिहार के एनडीए शासनकाल में किसी भी विभाग में अबतक एक भी स्थाई पद का सृजन नहीं किया गया है जबकि कर्मियों के अवकाश ग्रहण करने के साथ हीं उनका पद स्वतः  समाप्त हो जा रहा है। सबसे बड़ा मजाक तो यह है कि एक पद और एक हीं काम के लिए अलग-अलग वेतनमान और सेवा शर्त है।
     राजद प्रवक्ता ने कहा कि विधानसभा चुनाव के दौरान तेजस्वी यादव ने 10 लाख नौजवानों को नौकरी देने का वादा किया था और उस संकल्प को पुरा करने के लिए राजद सदन से लेकर सड़क तक आवाज बुलंद करती रहेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.