लखीसराय: बहुचर्चित रामाकांत यादव हत्याकांड के गवाह की हत्या, कल ही होने वाली थी गवाही

0
39

बिहार में तांडव मचा रहे अपराधियों ने रविवार की शाम लखीसराय में एक औऱ बड़े कारनामे को अंजाम दिया है. लखीसराय के बहुचर्चित रामाकांत यादव हत्याकांड के मुख्य गवाह को आज सरेशाम गोलियों से भून डाला गया. अपराधियों ने एक औऱ व्यक्ति को गोली मारी है, जिसकी हालत गंभीर है. इस घटना के बाद नाराज लोगों ने एन एच को जाम कर दिया है. नाराज लोगों ने पुलिस पर भी जमकर पथराव किया जिससे पुलिस की जीप क्षतिग्रस्त हो गयी. रामाकांत यादव हत्याकांड में एक दिन बाद यानि सोमवार को ही गवाही होने वाली थी लेकिन उससे पहले गवाह का मर्डर कर दिया गया.

किऊल में हुई घटना
रविवार की शाम ये घटना किऊल थाना क्षेत्र के हकिमगंज आरा मिल के पास हुई है. बाइक पर सवार होकर आय़े अपराधियों ने खगौर के रहने वाले 35 साल के विकास यादव का मर्डर कर दिया. अपराधियों की गोलीबारी में खगौर के ही रहने वाले रवि वर्मा भी घायल हो गये हैं. उन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां उनकी हालत गंभीर बनी हुई है.

नाराज ग्रामीणों का हंगामा
इस घटना के बाद नाराज ग्रामीणों ने एनएच-80 को जाम कर दिया. उनका आरोप था कि पहले से ही ये आशंका थी कि रामाकांत यादव हत्याकांड के गवाह का भी मर्डर किया जा सकता है लेकिन पुलिस ने कुछ नहीं किया. नाराज ग्रामीणों ने जाम हटाने आयी लखीसराय थाना पुलिस पर पथराव कर दिया. पथराव में पुलिस की जीप क्षतिग्रस्त हो गयी है.

गवाही से एक दिन पहले मर्डर
अपराधियों ने आज जिस विकास कुमार यादव की हत्या कर दी वह बहुचर्चित रामाकांत यादव हत्याकांड का मुख्य गवाह था. सोमवार को कोर्ट में विकास कुमार की गवाही होने वाली थी. लेकिन उससे पहले ही उसका मर्डर कर दिया गया. रविवार की शाम विकास कुमार अपने बच्चों को साथ लेकर बाइक से घुमाने जा रहे थे. किऊल से गढ़ी जाने वाले रोड पर हाकिमगंज आरा मिल के पास बाइक से आये दो अपराधियों ने विकास पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसायी. अपराधियों की गोली विकास कुमार के सिर में आकर लगी. वहीं पास में खड़े रवि वर्मा को भी एक गोली लगी.

स्थानीय लोगों ने दोनों को लखीसराय के एक निजी अस्पताल में ले गये. वहां डॉक्टरों ने विकास यादव को मृत घोषित कर दिया. वहीं रवि वर्मा इलाज के लिए भर्ती कराये गये हैं.

रामाकांत यादव के हत्यारों ने ही कराया मर्डर
विकास यादव की हत्या के बाद स्थानीय लोगों ने जब अपराधियों को खदेड़ा तो वे अपनी पल्सर बाइक छोड़ कर भाग खड़े हुए. पुलिस ने पल्सर बाइक जब्त किया औऱ उसके मालिक की छानबीन की. वह बाइक जेल में बंद रंजीत बिंद के चचेरे भाई की है. रंजीत बिंद रामाकांत यादव मर्डर केस का मुख्य अभियुक्त है औऱ उसी केस में जेल में बंद है. उसके चचेरे भाई की बाइक से मर्डर से साफ हो गया कि उसने ही अपने केस के गवाह की हत्या करा दी.

4 साल पहले हुआ था रमाकांत यादव हत्याकांड
गौरतलब है कि चार साल पहले लखीसराय के विद्यापीठ चौक पुल के पास अपराधियोंने रमाकांत यादव की गोली मार कर हत्या कर दी थी. रमाकांत यादव मुंगेर-जमुई सेंट्रल को-ऑपरेटिव बैंक के निदेशक थे. विकास यादव स्वर्गीय रामाकांत यादव का भांजा था. विकास अपने मामा के मर्डर केस का मुख्य गवाह था और सोमवार को उसकी गवाही होनी थी. 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.